छत्तीसगढ़ का एक ऐसा ग्राम पंचायत जहां आजादी के बाद से अब तक नहीं हुए पंचायत चुनाव, ग्रामीण चुनते आ रहे हैं निर्विरोध पंच और सरपंच

आजादी के बाद से आज तक रनई में पंचायत के चुनाव नहीं हुए हैं, यहां के ग्रामीण सर्वसम्मति से निर्विरोध सरपंच और पंच चुनते आ रहे है। यहां से सरपंच पद पर राम रसीले ठकरिया निर्विरोध सरपंच निर्वाचित हुए हैं। वहीं पूरे के पूरे 15 पंच भी निर्विरोध हुए हैं।

By: bhemendra yadav

Published: 06 Jan 2020, 07:48 PM IST

बैकुंठपुर . छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के बैकुंठपुर ब्लाक की ग्राम पंचायत रनई में हर बार की तरह इस बार फिर निर्विरोध चुनाव सम्पन्न हो गया है।
आजादी के बाद से आज तक रनई में पंचायत के चुनाव नहीं हुए हैं, यहां के ग्रामीण सर्वसम्मति से निर्विरोध सरपंच और पंच चुनते आ रहे है। यहां से सरपंच पद पर राम रसीले ठकरिया निर्विरोध सरपंच निर्वाचित हुए हैं। वहीं पूरे के पूरे 15 पंच भी निर्विरोध हुए हैं।

रायपुर, दुर्ग, चिरमिरी, रायगढ़ और धमतरी नगर निगमों में भी कांग्रेस ने मारी बाजी, अब तक कांग्रेस के 10 में से 8 महापौर निर्वाचित, ये बने महापौर

इस ग्राम पंचायत के लोग आज भी रनई जमींदार राम रसीले के प्रति बेहद ही समर्पित हैं और उनकी बातों को आज भी अनुसरण करते हुए सभी लोग मानते हैं। पहले स्वर्गीय हनुमान प्रसाद शुक्ला जब रनई जमींदार थे तब भी पूरी ग्राम पंचायत निर्विरोध होती थी।

छत्तीसगढ़ के एक ऐसा गांव, जहां ढ़ाई दशक से दर्ज नहीं हुई एक भी एफआईआर

bhemendra yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned