सचिन तेंदुलकर, सानिया मिर्जा और युवराज सिंह के फिजियोथैरिपिस्ट रह चुके डॉ जतिन रखेंगे रायपुर के चित्रसेन को फिट

सचिन तेंदुलकर, सानिया मिर्जा और युवराज सिंह के फिजियोथैरिपिस्ट रह चुके डॉ जतिन रखेंगे रायपुर के चित्रसेन को फिट
मेरे पैर नहीं तो क्या हुआ, मेरा जज्बा पहुंचाएगा एवरेस्ट तक

Tabir Hussain | Updated: 06 Oct 2019, 06:31:54 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

माउंटेनमैन चित्रसेन साहू का मिशन

ताबीर हुसैन @ रायपुर. किलीमंजारो फतह कर नेशनल रिकॉर्ड बनाने वाले डबल लेग एंप्युटि माउंटेनियर चित्रसेन साहू का अगला मिशन एवरेस्ट है। माउंटेनर राहुल गुप्ता के मार्गदर्शन में वे एवरेस्ट की तैयारी में जुट गए हैं। हालांकि इस मिशन के लिए पैसों की कमी आड़े आ सकती है। अगर सरकार या निजी संस्थाएं उनकी मदद के लिए बढ़े तो चित्रसेन फिर से एक कीर्तिमान स्थापित कर सकते हैं। राहुल ने बताया कि सेलेब्रिटी फिजियोथेरेपिस्ट डॉ जतिन चौधरी चित्रसेन को फ्री में फिटनेस कवर करेंगे। सचिन तेंदूलकर, युवराज सिंह, सानिया मिर्जा और पीवी सिंधु के फिजियोथेरेपिस्ट रह चुके डॉ जतिन ने राहुल से कहा कि तुम्हारे इस चैलेंज में मैंभी साथ हूं।

लगेंगे अत्याधुनिक पैर
राहुल ने बताया कि एवरेस्ट के लिए चित्रसेन को अत्याधुनिक पैरों की जरूरत होगी जो जर्मनी से मंगाए जाएंगे। हम सरकार और कुछ संगठनों से चर्चा कर रहे हैं। आर्टिफिशियली पैरों के लिए 4 से 5 लाख रुपए लगेंगे। डॉ जतिन चौधरी ने मेरे चैलेंज में साथ दिया है।

मिशन आसान नहीं, पर नामुमकिन भी नहीं
राहुल ने कहा कि मैंने एवरेस्ट फतह किया है। इसलिए मुझे इसकी कठिनाई पता है। हमें यह नहीं पता कि एवरेस्ट के लिए कितने साल लगेंगे। हालांकि मैं चित्रसेन की किलीमंजारो यात्रा से काफी प्रभावित हूं। जिस जीवटता से इन्होंने किलीमंजारो की चढ़ाई की है मैं एवरेस्ट का चैलेंज एक्सेप्ट करता हूं।

घूरने की प्रवृत्ति सिर्फ भारत में
चित्रसेन रेल हादसे में अपने दोनों पैर गंवा चुके हैं लेकिन उन्हें कोई विकलांग या दिव्यांग कहे यह उनके लिए गंवारा नहीं। वे कहते हैं कि इंसान शरीर से नहीं बल्कि सोच से छोटा या बड़ा होता है। घूरने की प्रवृत्ति सिर्फ भारत में है। अगर कोई आपसे थोड़ा भी अलग है तो लोग अजीब सी नजरों से देखते हैं जो कि बिल्कुल गलत है। चित्रसेन ने बताया कि तंजानिया के लोग शाहरूख खान के दीवाने हैं। उन्हें कुछ-कुछ होता है फिल्म का टाइटल सॉन्ग काफी पसंद है। वहां के लोगों ने शाहरूख की स्टाइल में गाकर भी बताया। वहां का खाने में मसाले कम रहते हैं।

राहुल करेंगे एडवेंचर स्पोट्र्स को प्रमोट
राहुल कलिंगा यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ सोशल वर्क के छात्र हैं। उन्होंने कहा कि मैं उन सभी युवाओं को एडवेंचर स्पोट्र्स में प्रमोट करूंगा। इनके अलावा मेरे साथी स्टूडेंट्स के लिए भी इसी तरह की तैयारी है। खिलाडिय़ों के अलावा सोशल एंटरप्रेन्योर को बढ़ावा देना मेरा मकसद है।

मेरे पैर नहीं तो क्या हुआ, मेरा जज्बा पहुंचाएगा एवरेस्ट तक

जन्मदिन पर मोटिवेशनल वीडियो की लॉन्चिंग
चित्रसेन ने बताया कि 12 अक्टूबर को उनका जन्मदिन है। इस दिन वे एक मोटिवेशनल वीडियो लॉन्च करने जा रहे हैं। इसमें 40 प्रतिशत उनके संघर्ष और उपलब्धि को दिखाया गया है और बाकी ऐसे युवाओं की स्टोरी होगी जो कमजोरियों को हथियार बनाकर अपने मिशन में सफल हुए हों।

8 फफोले पड़े थे
चित्रसेन ने बताया कि कृतिम पैरों से चढ़ाई आसान नहीं होती। पूरी चढ़ाई के दौरान घुटने के ऊपर तक 8 स्थानों पर चोटें आईं थीं। जब चढ़ाई शुरू की तब तापमान 30 डिग्री सेल्सियस था जबकि आखिर में माइनस 15 हो गया था। 5 तरह के क्लाइमेट देखे।

मेरे पैर नहीं तो क्या हुआ, मेरा जज्बा पहुंचाएगा एवरेस्ट तक
Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned