सीएम बोले कृषि बिल पर विशेष सत्र में चर्चा के बाद चीजें स्पष्ट होंगी

- कृषि प्रस्ताव में एमएसपी की अनिवार्यता को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा, हम पहले ही कहते रहे हैं कि जब एक राष्ट्र, एक बाजार किया जा रहा है, तो दर को भी एक ही रखना चाहिए।

By: Bhupesh Tripathi

Published: 23 Oct 2020, 08:28 PM IST

रायपुर . नए कृषि बिल को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का बड़ा बयान सामने आया है। दिल्ली रवाना होने से पहले मुख्यमंत्री ने कहा, इस बिल पर चर्चा के बाद ही सभी चीजें स्पष्ट हो जाएंगी। कृषि प्रस्ताव में एमएसपी की अनिवार्यता को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा, हम पहले ही कहते रहे हैं कि जब एक राष्ट्र, एक बाजार किया जा रहा है, तो दर को भी एक ही रखना चाहिए। चाहे वह मंडी के भीतर हो या बाहर। मुख्यमंत्री ने कहा, भारत सरकार जिसका समर्थन मूल्य तय करती है, उसकी खरीदी की व्यवस्था भी सरकार को ही करनी चाहिए। किसानों और उत्पादकों को वहीं मूल्य मिलना चाहिए, जो भारत सरकार घोषित करती है।

निगम-मंडलों की सूची जल्द जारी होने के संकेत
मुख्यमंत्री ने निगम-मंडलों की सूची जल्द जारी होने के संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा, प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया कोरोना संक्रमित हो गए थे। एक-दो दिनों में ठीक हो जाएंगे। अभी कोरोना काबू में हैं। उन्होंने कहा कि सबसे चर्चा कर निगम-मंडलों की दूसरी सूची जल्द जारी कर दी जाएगी।

एफसीआई से खरीदी की अनिवार्यता समाप्त हो
मुख्यमंत्री एथेनॉल संयंत्र को लेकर कहा, छत्तीसगढ़ धान का कटोरा है। 83 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी के बाद भी जो धान किसानों के बचेगा उसके लिए यह व्यवस्था है। इसका उपयोग एथेनॉल बनाने में किया जाएगा। भारत सरकर ने एफसीआई से ही धान खरीदने की बाध्यता रख दी है। इसके लिए भी पत्र लिखा गया है। इसकी अनिवार्यता समाप्त की जानी चाहिए।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned