96 रुपए का गोबर खरीदकर मुख्यमंत्री ने शुरू किया गोधन न्याय

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने हरेली पर्व पर सरकार की महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना की शुरुआत की। रायपुर के मुख्यमंत्री निवास में बने एक औपचारिक गोठान में चार किसानों ने 48 किलो गोबर की बेचा। मुख्यमंत्री ने उनका गोबर तौला, उनको गोठान समिति की पंजी में दर्ज किया। बाद में मुख्यमंत्री ने दो रुपए के हिसाब से 96 रुपए का भुगतान भी किया।

By: Dhal Singh

Published: 20 Jul 2020, 08:22 PM IST

रायपुर. अभनपुर विकासखण्ड के नवागांव से आए किसान कृष्ण कुमार चक्रधारी, पीलूराम ध्रुव, सेवक राम साहू और शिव नारायण साहू को गोबर बिक्री का कार्ड दिया गया। इस कार्ड में उनके द्वारा रोज बेचे जाने वाले गोबर की मात्रा दर्ज की जाएगी। गोबर बेचने वालों में से कृष्ण कुमार चक्रधारी ने बताया, उनके पास पांच मवेशी हैं। हर रोज लगभग एक झउहा गोबर निकलता है। अब तक वह कचरे में जाता था। अब इसकी बिक्री होने से हम जैसे हजारों लोगों को लाभ मिलेगा। गोधन न्याय योजना की शुरुआत हरेली पूजा से हुई। मुख्यमंत्री ने अपनी पत्नी मुक्तेश्वरी बघेल के साथ गायों और कृषि यंत्रों की पूजा की। हरेली की परंपरा के तहत जय धरती मां महिला स्व-सहायता समूह की अध्यक्ष दुर्गा बाई चक्रधारी, लक्ष्मी धु्रव, आरती साहू आदि महिलाओं ने मुख्यमंत्री को सब्जियां और भुट्टे भेंट किए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लोगों को हरेली की बधाई दी। उन्होंने कहा, यह योजना ग्रामीण अर्थव्यवस्था की संजीवनी बनेगी। उन्होंने कहा कि यह एक बहुआयामी योजना है, जिससे हमें बहुत सारे लक्ष्य एक साथ हासिल करेंगे। गोधन न्याय योजना से पशुपालकों की आय में वृद्धि तो होगी ही, पशुधन की खुली चराई पर भी रोक लगेगी। जैविक खाद के उपयोग को बढ़ावा मिलने से रासायनिक खाद के उपयोग में कमी आएगी। खरीफ तथा रबी फसल की सुरक्षा सुनिश्चित होने से द्विफसलीय क्षेत्र में होगा। भूमि की उर्वरता में सुधार होगा तथा विष रहित खाद्य पदार्थों की उपलब्धता बढ़ेगी, इससे पोषण का स्तर और सुधरेगा। आयोजन में कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविंद्र चौबे, नगरीय प्रशासन मंत्री डा. शिवकुमार डहरिया, खाद्य एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, छत्तीसगढ़ हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष कुलदीप सिंह जुनेजा, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमयी नायक, खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष राजेन्द्र तिवारी, नान के अध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल, मुख्यमंत्री के सलाहकार विनोद वर्मा, प्रदीप शर्मा, मुख्य सचिव आरपी मण्डल आदि शामिल हुए।

राÓय सरकार के मंत्री, संसदीय सचिव, प्राधिकरणों के अध्यक्ष, पंचायती राज संस्थाओं और नगरीय निकायों के जनप्रतिनिधि गोधन न्याय योजना के शुभारंभ के लिए विभिन्न जिलों में आयोजित कार्यक्रमों में शामिल हुए।

ऐसी है यह गोधन न्याय योजना
इस योजना के तहत किसानों और पशुपालकों से गोठान समितियों द्वारा दो रुपए प्रति किलो की दर से गोबर की खरीदी की जाएगी। जिससे महिला स्व सहायता समूहों द्वारा वर्मी कंपोस्ट तैयार किया जाएगा। तैयार वर्मी कंपोस्ट को 8 रुपए प्रति किलो की दर से सरकार द्वारा खरीदा जाएगा। खरीदे गए गोबर से अन्य सामग्री भी तैयार की जाएगी।

मुख्यमंत्री निवास में हरेली का उत्सव

हरेली के लिए आज मुख्यमंत्री निवास के एक हिस्से को ग्रामीण परिवेश का स्वरूप दिया गया। गांव के घरों में जिस प्रकार पूजा की जाती है, उसकी झांकी तैयार की गई। गांव के घरों और बाड़े की झांकी को गोबर और मिट्टी से लीप कर तैयार किया गया। गांव के अनुरूप ही गौठान भी बनाया गया है। सजावट के लिए यहां गाड़ा बइला रखा गया । इसके अलावा किसानों के उपयोग की वस्तुएं, औजारों नांगर, गैती, रापा, कुदाली, बंसुला सहित कई औजार रखे गए। मुख्यमंत्री ने परिवार के साथ रहचुल (रहचुली) का आनंद लिया। वे गेड़ी भी चढ़े और पर्व से जुड़ी विभिन्न तरह की परंपराओं का निर्वहन किया। गरियाबंद जिले से बांस गीत कलाकार लत्ती यादव और साथियों ने अपनी प्रस्तुति दी।

Dhal Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned