फिर राजभवन पहुंची तेंदूपत्ता संग्राहकों के अनदेखी की शिकायत, शिकायतकर्ता ने राज्यपाल को वास्तविकताओं से कराया अवगत

राज्यपाल अनुसुईया उइके से मंगलवार राजभवन में छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ के संचालक यज्ञदत्त शर्मा ने मुलाकात की। राज्यपाल ने कहा कि तेंदूपत्ता संग्राहकों की लाभांश और छात्रवृत्ति सहित अन्य समस्याओं के समाधान के लिए वन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर उन्हें जानकारी दी गई है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 16 Jul 2020, 05:44 PM IST

रायपुर. तेंदूपत्ता संग्राहकों की समस्याओं को लेकर एक बार फिर राजभवन तक शिकायत पहुंची है। शिकायतकर्ता का कहना है कि सरकार इस मामले में लापरवाही बरत रही है। उनका यह भी आरोप है कि विभागीय अधिकारी इस संबंध में गलत तथ्य की जानकारी दे रहे हैं। उन्होंने राज्यपाल अनुसुईया उइके से इस मामले में पुन: हस्तक्षेप करने की मांग की है।

राज्यपाल अनुसुईया उइके से मंगलवार राजभवन में छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ के संचालक यज्ञदत्त शर्मा ने मुलाकात की। राज्यपाल ने कहा कि तेंदूपत्ता संग्राहकों की लाभांश और छात्रवृत्ति सहित अन्य समस्याओं के समाधान के लिए वन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर उन्हें जानकारी दी गई है। राज्यपाल ने कहा है कि यह भी जानकारी मिली है कि तेंदूपत्ता संग्राहकों को यह ज्ञात नहीं है कि उनका बीमे की अवधि विलोपित हो गई है या उनका बीमा नहीं है।

इन परिस्थिति में उन्हें या उनके परिवार के सदस्यों के साथ कोई दुर्घटना होने पर उन्हें क्षतिपूर्ति नहीं मिल पाती है। संग्राहकों के बच्चों को छात्रवृत्ति नहीं मिलने से उनकी पढ़ाई निरंतर जारी रखने में कठिनाई होगी। यह वन विभाग और राज्य लघु वनोपज संघ की जिम्मेदारी है कि संग्राहकों को योजना का लाभ दें। राज्यपाल ने कहा कि वन मंत्री और अधिकारियों को निर्देश दे दिया गया है कि तेंदूपत्ता संग्राहकों के समस्या का समाधान जल्द से जल्द करें।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned