रियायत मिली, छोटे कारोबारी अब भी परेशानी झेल रहे

प्राइवेट सेक्टरों से लोगों के रोजगार जाने की खबरें आने लगी है। जिसे लेकर युवा वर्ग जो छत्तीसगढ़ के बाहर विभिन्न नगरों पर विभिन्न कंपनियों में कार्य कर रहे थे उन्हें कार्य छोडऩे के लिए मजबूर किया जा रहा है। बड़ी समस्या अब मध्यम वर्ग के लोगों के लिए और मध्यम वर्ग व्यावसायियों के लिए भी सामने आने लगी है।

By: ashok trivedi

Published: 12 May 2020, 11:08 PM IST


भाटापारा . पत्रिका. लॉकडाउन में धीरे-धीरे कुछ दुकानदारों को दुकानें खोलने की अनुमति दिए जाने के चलते अब जनजीवन को पटरी में लाने की कोशिशें शुरू हो चुकी है। लेकिन इसी बीज सबसे बड़ी समस्या जो उभरकर सामने आ रही है वह यह कि बड़ी संख्या में प्राइवेट सेक्टरों से लोगों के रोजगार जाने की खबरें आने लगी है। जिसे लेकर युवा वर्ग जो छत्तीसगढ़ के बाहर विभिन्न नगरों पर विभिन्न कंपनियों में कार्य कर रहे थे उन्हें कार्य छोडऩे के लिए मजबूर किया जा रहा है। बड़ी समस्या अब मध्यम वर्ग के लोगों के लिए और मध्यम वर्ग व्यावसायियों के लिए भी सामने आने लगी है।
सरकार की ओर से इन को किसी भी प्रकार की कोई छूट रियायत या कोई सुविधा प्रदान नहीं की गई है। न ही राज्य सरकार की ओर से इनका कोई ध्यान रखा जा रहा है। और न ही केंद्र सरकार की ओर से या राज्य सरकार हो बड़े उद्योग पतियों का ध्यान रख रहे हैं। या फिर गरीब मजदूरों के लिए कुछ करने की दम्भी बात कर रहे हैं। किंतु मध्यम वर्ग के लोगों के लिए और मध्यम वर्ग के व्यावसायियों के लिए सरकार के पास कोई योजना नहीं है। जबकि असल मायने में देश का बहुत बड़ा हिस्सा इन मध्यमवर्ग व्यवसायियों के माध्यम से ही सरकार का खजाना भरता है। किसी भी सरकार को इन मध्यमवर्गीय की कोई चिंता नहीं है।
नाम न छापने की शर्त पर एक व्यापारी ने बताया कि जिस बुरे दौर से वर्तमान में मध्यमवर्गीय परिवार गुजर रहा है, उसकी सरकार कल्पना भी नहीं कर सकती। आने वाले समय में भी जिस प्रकार मंदी आएगी उससे भी व्यापार करने वाले लोग ही सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे। इन लोगों का कहना है कि सरकार को मध्यमवर्ग परिवार के लिए भी कोई न कोई योजना निकाल कर कार्य करना चाहिए। यह ऐसा संकट का समय है जब हर कोई व्यक्ति परेशान है। इनका कहना है कि लोन लेने वाले व्यक्तियों का 3 माह का ब्याज माफ किए जाने की जरूरत है। तीन माह का बिजली बिल माफ किए जाने की जरूरत है।

ashok trivedi Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned