पुलवामा हमले की बरसी के बहाने केंद्र पर हमलावर हुई कांग्रेस

- मुख्यमंत्री ने पूछे तीन सवाल
- पिछले वर्ष आतंकी हमले में शहीद हुए थे 44 सीआरपीएफ जवान

रायपुर. पिछले वर्ष 14 फरवरी की सुबह जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद हो गए थे। इन जवानों की शहादत की पहली बरसी के बहाने कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर हमला बोला है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जवानों की ट्वीटर पर जवानों की शहादत को नमन करते हुए केंद्र से सवाल पूछे हैं। उन्होंने पूछा, इस हमले में इस्तेमाल हुआ 300 किलोग्राम आरडीएक्स कहां से आया। हमले की जांच कहां तक पहुंची और शहीदों के परिवारों को न्याय मिल गया। इन सवालों के साथ मुख्यमंत्री ने एक वीडियो भी साझा किया है, जिसमें उन्होंने पुलवामा हमले पर सवाल उठाए हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कई मंचों से बार-बार यह सवाल दोहराते रहे हैं। छत्तीसगढ़ विधानसभा के उपचुनाव और नगरीय निकाय चुनाव की प्रचार सभाओं ने इन्हीं सवालों के जरिए भाजपा के राष्ट्रवाद को निशाने पर लिया था।

कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने भाजपा पर सेना के नाम से राजनीति का आरोप लगाया। त्रिवेदी ने कहा, पुलवामा हमले के बाद उत्पन्न भावनाओं के चलते ही केन्द्र में भाजपा की सरकार बनी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनावी अभियान की पहली रैली में ही सेना के नाम पर वोट मांगे। उस चुनावी रैली से आज तक कुछ सवाल देश के जहन में बैठे हुए हैं। त्रिवेदी ने पूछा कि पुलवामा हमले से किसे लाभ हुआ? पुलवामा हमले की जांच से क्या नतीजे निकले? जिन सुरक्षा खामियों के कारण पुलवामा में हमला हुआ उसके लिये भाजपा सरकार में कौन जिम्मेदार है? त्रिवेदी ने पूछा कि पुलवामा हमले की जांच रिपोर्ट क्यों छिपाई जा रही है? त्रिवेदी ने पुलवामा हमले के दिन प्रधानमंत्री मोदी के शूटिंग पर रहने और उसके बारे में झूठ बोलने का भी आरोप लगाया।

Mithilesh Mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned