scriptCongress conference Jhiram Judicial Inquiry Commission | झीरम न्यायिक जांच को आखिर भाजपा क्यों रोकना चाहती है ? - मंत्री शिव डहरिया | Patrika News

झीरम न्यायिक जांच को आखिर भाजपा क्यों रोकना चाहती है ? - मंत्री शिव डहरिया

नगरीय निकाय मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने राजीव भवन में पत्रकारवार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि झीरम घाटी कांड पर गठित न्यायिक जांच आयोग को लेकर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने एक बार फिर से हाईकोर्ट में याचिका लगाई है और नये आयोग को निरस्त करने की मांग की है।

रायपुर

Published: April 30, 2022 06:46:00 pm

रायपुर। झीरम घटना जांच के लिए भूपेश सरकार द्वारा गठित जांच आयोग को निरस्त करने के लिए भाजपा नेता धरमलाल कौशिक की मांग पर राजनितिक सियासी तेज हो गयी है। नगरीय निकाय मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने राजीव भवन में पत्रकारवार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि झीरम घाटी कांड पर गठित न्यायिक जांच आयोग को लेकर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने एक बार फिर से हाईकोर्ट में याचिका लगाई है और नये आयोग को निरस्त करने की मांग की है।

झीरम न्यायिक जांच को आखिर भाजपा क्यों रोकना चाहती है ? -  मंत्री शिव डहरिया

मंत्री ने पूछा किसे बचाने की है कोशिश
नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक क्या इस बात से डरते हैं? झीरम घाटी कांड की कोई ऐसी सच्चाई निकलकर सामने आएगी जिससे तत्कालीन भाजपा सरकार का कुत्सित चेहरे से नकाब उठ जाएगा ? क्या धरमलाल कौशिक इस बात से डरते हैं कि जांच में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की लापरवाही सामने आ जाएगी। क्या धरमलाल कौशिक भूल गए हैं कि भाजपा के शासनकाल में 2013 से लेकर 2018 तक झीरम जस्टिस प्रशान्त मिश्रा जांच आयोग की जांच पूरी नहीं हुई थी। कांग्रेस की सरकार बनने के बाद आयोग की समय वृद्धि की गई। उन्होंने यह भी कहा कि याचिका के जरिए पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और नेता प्रतिपक्ष कौशिक किसे बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

नक्सली घटना के पीछे बड़ी साजिश का पर्दाफाश हुआ तो भाजपा नेता और उनकी पूरी पार्टी पर इसका प्रभाव पड़ सकता है। अगर यही घटना भाजपा के नेताओं के काफिले के साथ हुई होती और तीन बड़े नेताओं की मृत्यु हुई होती तो क्या आप इसकी न्यायिक जांच को रोकने का प्रयास करते? प्रदेश की जनता भली भांति जान समझ गई है। आखिर क्यों आप लोग झीरम कांड की जांच नहीं करने देना चाहते हैं। आखिर आपको क्या डर है? आप किस बात को छुपाना चाहते हैं? जनता सब देख रही है।

वही धरमलाल ने डॉ शिव डहरिया के आरोपों को अत्यन्त ही उटपटांग बताया है। पूर्व सरकार द्वारा जस्टिस प्रशांत मिश्रा की अध्यक्षता में न्यायिक जांच बनाया गया था। और उसका परीक्षण जनता के सामने ही किया गया था। तो फिर वे किस आधार पर आधा अधूरा है जांच का बयान दे रहे है। जस्टिस प्रशांत मिश्रा आयोग के प्रतिवेदन से कांग्रेस इतनी घबराई हुई क्यों है?

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातबीजेपी नेता किरीट सोमैया की पत्नी ने शिवसेना के संजय राउत के खिलाफ दर्ज कराया 100 करोड़ का मानहानि का मुकदमालैंड होते ही झटके से रूक गया यात्री विमान, सांस थामे बैठे रहे यात्रीजम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में पटरियों पर धरना-प्रदर्शन के चलते 23 ट्रेनें रद्द, 40 डायवर्ट की गईं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.