scriptControversial statement of Sant Kalicharan on Gandhi in Dharma Sansad | धर्म संसद में संत के विवादित बोल, विभाजन के लिए गांधी को कोसा, गोडसे को किया नमस्कार, राष्ट्रद्रोह केस की मांग | Patrika News

धर्म संसद में संत के विवादित बोल, विभाजन के लिए गांधी को कोसा, गोडसे को किया नमस्कार, राष्ट्रद्रोह केस की मांग

Dharma Sansad: राजधानी के रावणभाठा मैदान में आयोजित धर्म संसद (Dharma Sansad) में खुलेआम महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) पर अभद्र और अमर्यादित बोल (Controversial Statement) से रविवार को बवाल मच गया।

रायपुर

Updated: December 27, 2021 09:42:05 am

रायपुर. Dharma Sansad: छत्तीसगढ़ की राजधानी में आयोजित धर्म संसद (Dharma Sansad) में खुलेआम महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) पर अभद्र और अमर्यादित बोल (Controversial Statement) से रविवार को बवाल मच गया। महाराष्ट्र के अकोला से आए संत कालीचरण (Sant Kalicharan) ने मंच से धर्म विशेष के लोगों को टारगेट करते हुए देश के विभाजन के लिए महात्मा गांधी को कोसा और गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) को नमस्कार किया।
dharma_sansad_news.jpg
धर्म संसद में संत कालीचरण के अमर्यादित बोल, विभाजन के लिए महात्मा गांधी को कोसा, गोडसे को किया नमस्कार
संत कालीचरण का भाषण खत्म होने पर मंच बैठे राज्य गोसेवा आयोग के अध्यक्ष और दूधाधारी मठ के महंत रामसुंदर दास भड़क गए और मंच का बहिष्कार कर दिया। वहीं अन्य संतों ने भी संत कालीचरण के बिगड़े भड़काऊ बोल पर नाराजगी जाहिर की। रात 12 बजे सिविल लाइन थाने में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने विवादित विचार रखने वाले संत कालीचरण के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। वहीं कांग्रेस नेता प्रमोद दुबे ने टिकरापारा थाने में संत कालीचरण के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई।
इस धर्म संसद का रविवार को दूसरा दिन था। शाम के वक्त संत कालीचरण को बोलने के लिए आमंत्रित किया गया। मंच पर आते ही उन्होंने जो हिंदू हित की बात करेगा, नारे से शुरुआत करते हुए देश के बंटवारे को लेकर गांधीजी को कोसने लगे और गोडसे को देशभक्त के रूप में पेश किया। उन्होंने महिलाओं के साथ सामूहिक बलात्कार जैसे कृत्य के लिए भी हिंदुओं को चेताया।
उस दौरान मंच से किसी भी साधु-संत ने टोका तक नहीं, बल्कि पंडाल में बैठे लोग तालियां बजा रहे थे। इस धर्म संसद का आयोजन नीलकंठ सेवा संस्थान और हिंदू परिषद ने दूधाधारी मठ के महंत रामसुंदर दास की अध्यक्षता में ही मुख्य रूप से आयोजित किया था, जिसमें मुख्य रूप से नगर निगम में सभापति प्रमोद दुबे भी शामिल थे। दो दिन पहले भाजपा नेता सच्चिदानंद उपासने और कांग्रेस नेता प्रमोद दुबे ने संयुक्त रूप से धर्मसंसद को लेकर प्रेस क्लब में मीडिया से रूबरू हुए थे।
कालीचरण बाबा पर राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज होना चाहिए
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा, यह सारे देश और विश्व का अपमान है। धर्म संसद में जिस प्रकार से महात्मा गांधी के बारे में अपशब्दों का उपयोग किया गया है उससे पूरे देश के लोग नाराज हैं। कालीचरण बाबा पर राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज होना चाहिए।
विचार रखने के लिए हर कोई स्वतंत्र
बीजेपी ने व आयोजन समिति से जुड़े सदस्य सच्चिदानंद उपासने ने कहा, धर्म संसद में हर कोई अपने विचार रखने के लिए स्वतंत्र था। यह उनके व्यक्तिगत विचार थे। इसमें आयोजकों की कोई भूमिका नहीं है। महंत जी इसकी अध्यक्षता कर रहे थे। यदि उसी समय टोक देते तो मामला खत्म हो जाता।
शोभायात्रा में शामिल हुए थे डॉ. रमन सिंह
रावणभाठा मैदान में 25 और 26 दिसंबर को धर्मसंसद आयोजित की गई थी। पहले दिन दूधाधारी मठ से शोभायात्रा निकली तो उसमें पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह भी शामिल हुए थे। आयोजकों ने सनातन धर्म में ऋषि और कृषि संस्कृति पर चर्चा करने का हवाला देते हुए यह संसद आयोजित करने की बात कही थी, परंतु उसमें हरिद्वार में 19 दिसंबर को हुई धर्म संसद में भड़काऊ और समाज को बांटने वाले भाषण दिए गए। वैसी ही तस्वीर रायपुर की धर्म संसद में सामने आई।
धर्मसंसद में नहीं आए मुख्यमंत्री
आयोजकों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भी धर्म संसद में आमंत्रित किया गया था, परंतु शाम को बवाल होने की सूचना पर मुख्यमंत्री शामिल नहीं हुए। हालांकि पहले से मुख्यमंत्री के मिनट-टू-मिनट कार्यक्रमों में धर्म संसद में शामिल होने का शेड्यूल जारी नहीं हुआ था।
अभद्र बातें करने वाला संत नहीं हो सकता : प्रमोद दुबे
नगर निगम के सभापति प्रमोद दुबे का कहना है कि धर्म संसद आयोजित करने वालों ने मुझसे सहयोग मांगा था, इसका उद्देश्य सनातन धर्म संस्कृति से युवाओं को अवगत कराना था। पहले से यह तय था, परंतु एक संत कालीचरण द्वारा महात्मा गांधी पर अभद्र टिप्पणी निंदनीय है। समाज को बांटने की बातें करने वाला संत नहीं हो सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी की भव्य प्रतिमा, पीएम करेंगे होलोग्राम का अनावरणAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनाव20 आईपीएस का तबादला, नवज्योति गोगोई बने जोधपुर पुलिस कमिश्नरइस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'खुशखबरी: अलवर में नया सफारी रूट शुरु हुआ, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.