कोरोना इफेक्ट: रक्षाबंधन पर सूनी रहेंगी कैदियों की कलाई

संक्रमण को देखते हुए जेलों में नहीं होगा रक्षाबंधन कार्यक्रम

By: VIKAS MISHRA

Published: 24 Jul 2020, 01:38 AM IST

रायपुर . कोरोना संक्रमण काल में इस वर्ष प्रदेश के सभी 33 जेलों में रक्षाबंधन के अवसर पर किसी भी तरह के समारोह आयोजित नहीं किए जाएंगे। बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जेल प्रशासन ने यह निर्णय लिया गया है। इसका निर्देश सभी जेल प्रभारियों को दे दिए गए हैं। वहीं, डाक से आने वाली राखियों को सेनिटाइज करने के बाद संबंधित कैदी को देने कहा गया है। साथ ही रक्षाबंधन के त्योहार पर सभी के लिए विशेष भोजन बनाने के निर्देश दिए गए हैं। जेल डीआईजी केके गुप्ता ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए राखी के अवसर पर होने वाले कार्यक्रम को स्थगित कर दिया गया है।
सुनवाई आगे बढ़ी
कोरोना के संक्रमण को देखते हुए हाइकोर्ट के निर्देश पर 31 जुलाई तक सभी न्यायालयों में नियमित सुनवाई नहीं होगी। इस दौरान केवल अतिआवश्यक मामलों को विशेष कोर्ट में रखा जाएगा। वहीं, रायपुर जिला और इससे संबद्ध गरियाबंद, तिल्दा, राजिम और देवभोग स्थित न्यायालय में 16 से 31 जुलाई तक होने वाली सुनवाई 16 सितंबर से 6 अक्टूबर के बीच होगी। जारी आदेश के अनुसार 16, 17 और 20 जुलाई को होने वाली सुनवाई 16, 17 और 18 अगस्त को, 21 से 25 जुलाई के मामले 21 से 25 अगस्त और 27 से 31 अगस्त के बीच होने वाली सुनवाई क्रमश 26, 28 अगस्त और 3, 5 और 7 सितंबर के बीच होगी।
मुलाकाती कक्ष भी बंद किया
मुलाकाती कक्ष भी आगामी आदेश तक के लिए बंद कर दिए गए हैं। इस दौरान किसी को भी कैदियों से मुलाकात करने की इजाजत नहीं मिलेगी। हाईकोर्ट का आदेश मिलने के बाद पैरोल और अंतरिम जमानत पर रिहा किए गए सभी कैदियों को 31 अगस्त तक घरों में रहने कहा गया है। इसकी सूचना सभी तक पहुंचाई जा रही है। उल्लेखनीय है कि रक्षाबंधन के अवसर पर जेल प्रशासन द्वारा विशेष व्यवस्था की जाती है। इस दौरान कैदियों को अपनी बहनों के हाथों राखी बंधवाने का मौका मिलता है।
कलेक्ट्रेट में सजेंगी हैंड मेड राखी की दुकानें
बिहान योजनान्तर्गत महिलाएं लॉकडाउन के बाद कलेक्टोरेट परिसर में होम मेड- हैंड मेड राखियों की दुकानें सजाएंगी। राखियों के साथ ही महिलाओं द्वारा अन्य उत्पाद जैसे- अचार, बड़ी, पापड़, आटा, सरसों का तेल भी विक्रय किया जाएगा। कलेक्टर ने सभी वरिष्ठ अधिकारी-कर्मचारियों से कलेक्टोरेट से ही राखी खरीदने की अपील की है। जिला पंचायत सीईओ डॉ गौरव सिंह ने बताया कि बीते वर्ष भी यहां पर काउंटर लगाया गया था। दीपावली और होली जैसे त्योहारों में लोगों का प्रतिसाद देखकर बेहद खुशी हुई थी और आगे अपने काम को बेहतर करने के लिए उत्साह मिला। महिलाओं ने काउंटर के लिए राखियों के साथ विभिन्न खाद्य सामग्री जैसे कई किस्म के अचार, बड़ी, पापड़ इत्यादि विक्रय के लिए तैयार रखा है। मिर्च, कटहल, आम, नींबू, टमाटर के अचार के साथ रखिया बड़ी, दाल बड़ी, लाईबड़ी और मसाला व सादा पापड़ की अच्छी मांग रहती है।

VIKAS MISHRA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned