लॉकडाउन 4.0: लोक निर्माण विभाग में 30 फीसदी काम वर्क फ्रॉम होम से होगा आसान

कोरोना लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) में हर विभाग कामकाज का तरीका बदलने की कवायद कर रहे हैं। विभागों में कंप्यूटरीकृत सिस्टम पूरी तरह से अमल में लाकर ऑनलाइन वर्क को बढ़ाया जा सकता है।

By: Ashish Gupta

Published: 24 May 2020, 07:27 PM IST

रायपुर. कोरोना लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) में हर विभाग कामकाज का तरीका बदलने की कवायद कर रहे हैं। विभागों में कंप्यूटरीकृत सिस्टम पूरी तरह से अमल में लाकर ऑनलाइन वर्क को बढ़ाया जा सकता है। इस दिशा में लोक निर्माण विभाग (Public Works Department) में टेंडर सेल की ऑनलाइन निविदाओं का परीक्षण, वर्कआर्डर जारी करने जैसे काम वर्क फ्रॉम होम से किए जा सकते हैं।

अफसरों का मानना है कि कोरोना से उत्पन्न हुई स्थिति को देखते हुए 30 फ़ीसदी कर्मचारी वर्क फ्रॉम होम से ड्यूटी कर सकते हैं। इससे उनके ऑफिस आने-जाने का समय और वाहनों में डीजल पेट्रोल की काफी हद तक बचत होगी।

हालांकि, लोक निर्माण विभाग में सब इंजीनियर से लेकर कार्यपालन अभियंता स्तर के अधिकारियों की मुख्य जिम्मेदारी निर्माण कार्यो की निगरानी की होती है। जो ऑफिस में बैठकर संभव नहीं है। सेक्शन में निर्माण कार्यों का एस्टीमेट बनाने, निविदा स्वीकृति पत्र और वर्कआर्डर जैसे अधिकांश काम घर से ही किए जा सकते हैं।

अभी लॉकडाउन के कारण विभाग में सिर्फ़ 30 फ़ीसदी कर्मचारियों की उपस्थिति कार्यालयों में तय की गई है। आने वाले समय में लोक निर्माण विभाग में कामकाज का सिस्टम बदला तो वर्ग-दो व वर्ग-तीन के 30 फ़ीसदी कर्मचारी वर्क फ्रॉम होम चले जाएंगे। फाइलों में विभागाध्यक्षों और प्राधिकृत अफसरों के मैनुअल हस्ताक्षर कराने के लिए कार्यालय आना होगा।

पीडब्ल्यूडी के पूर्व ईएनसी पीएस क्षत्रिय ने कहा कि वर्क फ्रॉम होम सिस्टम अपनाने के लिए डिवीजन स्तर पर कार्य शैली का प्रारूप तय करना होगा, जो काफी हद तक कारगर साबित हो सकता है। कामकाज प्रभावित नहीं होगा और कर्मचारी आसानी से अपने-अपने सेक्शनों का काम घर से ही पूरा कर सकते हैं। इसे सफल बनाने में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग बड़ा माध्यम है। विभाग के 30 फ़ीसदी से अधिक कर्मचारी वर्क फ्रॉम होम कर सकते हैं।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned