कोरोना चेन: पीजी डॉक्टर से 3 साथी डॉक्टर हुए संक्रमित, मजदूरों से क्वारंटाइन सेंटर में फैल रहा वायरस

माना कोविड19 हॉस्पिटल में सेवारत पीजी डॉक्टर बीते दिनों संक्रमित पाई गई थी। तबीयत खराब में भी वह दो-तीन मरीजों का इलाज करती रही। मगर, कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव आने के बाद मेडिकल कॉलेज रायपुर प्रबंधन और माना कोविड-19 हॉस्पिटल प्रबंधन के हाथ-पांव फूल गए।

By: Karunakant Chaubey

Published: 17 Jun 2020, 10:48 PM IST

रायपुर. कोरोना संक्रमण का अब बड़ा खतरा राजधानी रायपुर में दिखाई दे रहा है। या यूं कहें कि कोरबा और बलौदाबाजार के बाद अब रायपुर 'कोरोना गढ़, बनता जा रहा है। हर दिन मरीज मिल रहे हैं। बुधवार को 25 मरीज मिले है। मगर, अब मुश्किलें नई हैं। क्योंकि कोरोना वायरस अब चैन बना रहा है। जिसे ब्रेक करना जरूरी है। बुधवार को जारी हुई रिपोर्ट में इसके दो बड़े उदाहरण सामने आए। जिनसे आज सीख लेने की जरूरत है।

पहला- माना कोविड19 हॉस्पिटल में सेवारत पीजी डॉक्टर बीते दिनों संक्रमित पाई गई थी। तबीयत खराब में भी वह दो-तीन मरीजों का इलाज करती रही। मगर, कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव आने के बाद मेडिकल कॉलेज रायपुर प्रबंधन और माना कोविड-19 हॉस्पिटल प्रबंधन के हाथ-पांव फूल गए। उसके संपर्क वाले 70 लोगों को चिन्हिंत किया गया। जिनमें से डॉक्टर संक्रमित पाए गए हैं। दूसरा- खरोरा और जैनम क्वारंटाइन सेंटर में भी प्राइमरी कांटेक्ट वाले संक्रमित मिले हैं।

प्राइमरी कांटेक्ट को लेकर डॉक्टरों का मानना है कि संभव है कि अब जो मरीज मिल रहे हैं उनमें वायरस लोड अधिक हो और वह दूसरों में तेजी से शिफ्ट हो रहा है, या फिर कम इम्यूनिटी (कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले) वाले संक्रमित हो रहे हैं। गौरतलब है कि इसके पहले मिल रहे पॉजिटिव मरीजों के संपर्क वाले इतनी संख्या में संक्रमित नहीं हो रहे थे। रायपुर में बुधवार को आई रिपोर्ट में 25 मरीज मिले, जिनमें 5 को छोड़कर शेष सभी शहरी क्षेत्रों से हैं। आज स्थिति यह है कि शहर के 80 से अधिक क्षेत्र कंटेनमेंट जोन बन गए हैं। कोरोना का दायरा बढ़ता जा रहा है यानी खतरा बढ़ता जा रहा है। इसके लिए जिम्मेदार कौन? इस सवाल पर हर एक व्यक्ति को मंथन करने की आवश्यकता है।

रायपुर में कहां-कहां मिले मरीज-

फाफाडीह चौक, अवंति विहार, देवेंद्र नगर सेक्टर सेक्टर 5, आरोग्य हॉस्पिटल शंकर नगर, सुंदरी पारा मोवा, प्रोफेसर कॉलोनी, धनसुली, आमापारा, डीएम टॉवर बिरगांव।

सावधानी बस इतनी- अगर आप जिले, प्रदेश या फिर देश के बाहर से लौटे हैं तो खुद को आईसोलेट करें। स्वास्थ्य विभाग को सूचना दें। लक्षण दिखें या फिर डॉक्टर की सलाह पर सैंपलिंग करवाएं। रिपोर्ट आने तक खुद को आईसोलेट रखें। तभी आप अपने परिजनों और दूसरों को संक्रमण से बचा सकते हैं।-

जैनम और खरोरा क्वारंटाइन सेंटर में मिले 12 मरीज-

बीते दिनों जैनम क्वारंटाइन सेंटर में एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। उसके संपर्क में आए कई लोगों के सैंपल लिए गए थे। अब जारी हुई रिपोर्ट में यहीं से आठ नए पॉजिटिव मरीज मिले हैं। तो वहीं तिल्दा ब्लॉक के खरोरा सेंटर में चार मरीज मिले हैं। इनमें से अधिकांश मजदूर हैं।

अभी संक्रमित मरीजों के संपर्क वालों पॉजिटिव मिल रहे हैं। इसलिए जरूरी है कि आप सैंपल देने बाद घूम न, खुद को घर पर आईसोलेट रखें।

-डॉ. मीरा बघेल, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, रायपुर

COVID-19
Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned