रजिस्ट्री कार्यालय में बढऩे लगी भीड़, संक्रमण से सुरक्षा के नहीं हैं जरुरी उपाय

लॉकडाउन शुरू होने के बाद से बहुत कम लोग पहुंच रहे थे। अब जैसे जैसे लॉकडाउन खुल रहा है यहां भीड़ उमडने लगी है। रजिस्ट्री कराने के लिए रोज 100 से ज्यादा लोग पहुंच रहे हंै। एक रजिस्ट्री में चार लोग की उपस्थिति जरूरी है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 17 Jun 2020, 03:17 PM IST

रायपुर. रजिस्ट्री कार्यालय में लगातार भीड़ बढऩे से कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है। यहां सोशल डिस्टेंस का पालन कराने बैरीकेट लगया गया है, गोल घेरा जरूर बनाया गया है लेकिन इसका पालन यहां नहीं हो रहा है। लोग ई-स्टांप लेने के लिए एक दूसरे से सटकर लाइन लगाए खड़े रहते हैं। जिससे यहां सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं हो पा रहा है। इससे कोरोना संक्रमण का खतरा है।

प्रबंधन भी इसका पालन कराने को लेकर गंभीर नहीं है। लॉकडाउन शुरू होने के बाद से बहुत कम लोग पहुंच रहे थे। अब जैसे जैसे लॉकडाउन खुल रहा है यहां भीड़ उमडने लगी है। रजिस्ट्री कराने के लिए रोज 100 से ज्यादा लोग पहुंच रहे हंै। एक रजिस्ट्री में चार लोग की उपस्थिति जरूरी है। एेसे में कम से 400 से ज्यादा लोग कार्यालय रोज पहुंच रहे हैं। इसके अलावा ई-स्टांप लेने के लिए बड़ी संख्या में रोजाना लोग पहुंच रहे हैं।

 

बाहर बैठने की कोई व्यवस्था नहीं

कार्यालय के बाहर बैठकर इंतजार करने की भी कोई व्यवस्था नहीं होने से सभी अंदर चले जाते हैं। सिर्फ बनाए गए वेटिंग हाल में बिना पर्याप्त डिस्टेंस बिना ही बैठे नजर आते हैं। कई लोग तो बिना मास्क लगाकर भी पहुंच रहे हंै। पोस्ट आफिस प्रबंधन द्वारा अंदर गोल घेरा जरूर बनाया जा रहा है लेकिन इसका पालन नहीं हो पा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि कार्यालय के भीतर सिर्फ अग्रिम अपॉइनमेंट लेने वालों को ही प्रवेश दिया जाता है। ऑफिस के अंदर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने ध्यान दिया जा रहा है।

बढ़ा राजस्व और भीड़

राज्य शासन ने प्रदेश में 5 और 13 मई से रायपुर के सभी पंजीयन कार्यालय में दस्तावेजों की पंजीयन के अनुमति दी गई है। धीरे-धीरे व्यवस्था पटरी पर आ रही है। सोमवार को प्रदेश में 1330 दस्तावेज का पंजीयन ,3.46 करोड़ स्टाम्प ड्यूटी, 2.05 करोड़ पंजीयन फीस सरकार को मिली है। इसी तरह रायपुर में पंजीयन कार्यालयों में 194 रजिस्ट्रियां हुईं। पंजीयन और स्टांप ड्युटी में 1 करोड़ 56 लाख रुपए राजस्व प्राप्त हुआ। पंजीयन विभाग के परिसर में आम दिनों की अपेक्षा भीड़ देखने को मिली। पंजीयन अधिकारी का दावा है कि आने वाले दिनों में धीरे-धीरे रजिस्ट्रियां की संख्या में इजाफा हो रहा है।

अपॉइंटमेंट बुक कराकर ही हो रही है रजिस्ट्री

पंजीयन विभाग द्वारा विभागीय अधिकारियों एवं संबंधितों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं। लॉकडाउन के दौरान पंजीयन कार्यालय में अधिक भीड़ को नियंत्रित करने के उद्देश्य पहले से अपॉइंटमेंट बुक कराने वालों को कार्यालय में आने के अनुमति दी गई। जिस पक्षकार को जो समय दिया जाता रहा है। उस समय पर ही उसे पहुंचना पड़ता है, इससे भीड़ नहीं लगे।

पुलिस जवान अब गायब

पुलिस विभाग द्वारा रजिस्ट्री कार्यालय में सुरक्षा दे रहे थे। जिससे लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे थे। अब धीरे-धीरे लोग सोशल डिस्टेङ्क्षसग का पालन करना भी भूल रहे हैं।

कार्यालय में असुविधाएं और लापरवाही

- कार्यालय में पीने को पानी नहीं ।

- सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं ।

- पुलिस सुरक्षा हटा दी गई।

- कार्यालय रोज सेनिटाईज नहीं।

- बिना मास्क के घूमने पर रोक नहीं।

- ई- स्टांप में भी लगी रहती है लंबी कतारें।

- कार्यालय में पक्षकारों के बैठने की पर्याप्त व्यवस्था नहीं।

COVID-19
Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned