लापरवाही: दावं पर है बेजुबानो की जिंदगी,बिना जांच वन्य प्राणियों को खाना परोसे रहे वनकर्मी

यहां कर्मचारियों को रोज काम पर बुलाया जा रहा है, लेकिन इनकी जांच करने के लिए स्वास्थ्य टीम को नियुक्त नहीं किया गया है। ये कर्मचारी वन्य प्राणियों को खाना देने के साथ उनकी देख रेख का काम करते है।

रायपुर. कोरोना संक्रमण प्रदेश के सफारी और अभ्यारण्य में विचरण कर रहे वन्य प्राणियों को ना हो इसलिए राज्य सरकार ने सभी सफारी और अभ्यारण्य बंद कर दिया है। सफारी और अभ्यारण्य के जिम्मेदारों को सावधानी बरतने और कर्मचारियों की जांच कराने के लिए डॉक्टर की टीम तैनात करने का निर्देश राज्य सरकार ने दिया है। राज्य सरकार के निर्देश का राजधानी के अटलनगर स्थित जंगल सफारी में खुलेआम उल्लंघन हो रहा है।

यहां कर्मचारियों को रोज काम पर बुलाया जा रहा है, लेकिन इनकी जांच करने के लिए स्वास्थ्य टीम को नियुक्त नहीं किया गया है। ये कर्मचारी वन्य प्राणियों को खाना देने के साथ उनकी देख रेख का काम करते है। सफारी प्रबंधन की यह लापरवाही कर्मचारियों के साथ-साथ वन्य प्राणियों की जान भी खतरे में डाल रही है, लेकिन इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

 

मास्क और सेनिटाइजर के जरिए सुरक्षित रहने का दावा

सफारी में पदस्थ कर्मचारी और विचरण कर रहे वन्य प्राणियों का मास्क और ग्लब्स के सहारे सुरक्षित रखने की बात कह रहा है। सफारी प्रबंधन की माने तो सफारी के मुख्य द्वार में कर्मचारियों को मास्क और ग्लब्स दिया जाता है। इन ग्लब्स को पहनने के बाद ही कर्मचारी वन्य प्राणियों के बाड़े की नजदीक जा सकता है। दवा का छिड़काव हुआ या नहीं? इस सवाल पर सफारी प्रबंधन के अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है।

 

८०० एकड़ में फैला है सफारी

रायपुर के अटल नगर स्थित सफारी एशिया का सबसे बड़ा मानवनिर्मित जंगल सफारी है। वर्तमान में बंगाल टाइगर, शेर, भालू, चीतल, काला हिरण, नीलगाय, कोट्री, सांभर, मगरमच्छ और दरियाईघोड़ा विचरण कर रहे है। इन वन्य प्राणियों की देख रेख करने के लिए रोजाना कर्मचारी पहुंच रहे हे। ये कर्मचारी खाना देने के साथ वन्य प्राणियों के बारे में दवा का छिड़काव करते है। इन कर्मचारियों के माध्यम से वन्य प्राणी आसानी से कोरोना वायरस की चपेट में आ सकते है।

 

पक्षी विहार में यही हाल

जंगल सफारी के साथ नंदनवन स्थित पक्षी विहार में भी इसी तरह की लापरवाही देखने को मिल रही है। यहां भी कर्मचारी केवल मास्क पहनकर पक्षियों को खाना देते हुए दिख रहे है। नंदनवन स्थित पक्षी विहार में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए क्या तैयारी है? इस सवाल पर कर्मचारी अफसरों से बात करने की बात कहते हुए अपनी गर्दन बचा रहे है।

 

मास्क और ग्लब्स सभी कर्मचारियों को दिया गया है। सभी कर्मचारियों को मास्क और ग्लब्स पहनकर ही वन्य प्राणियों के बाड़े के पास जाने का निर्देश दिया गया है। कर्मचारियों की जांच कराने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम को पत्र लिखेंगे।

एम.मर्सीबेला, डिप्टी डायरेक्टर

जंगल सफारी

COVID-19
Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned