कांकेर में डॉक्टर, जगदलपुर मेडिकल कॉलेज का इंटर्न छात्र संक्रमित, तो सूरजपुर का आरक्षक दोबारा पॉजिटिव

- 27 मई को मिले मरीज- जगदलपुर, बिलासपुर और बलौदाबाजार में एक- एक मरीज।
- छात्र नोएडा का रहने वाला, दो दिन पहले फ्लाइट से आया था रायपुर, उसके पास वाली सीट पर बैठने वालों को किया गया अलर्ट।

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 28 May 2020, 06:44 PM IST

रायपुर/बस्तर/सरगुजा संभाग। प्रदेश में बीते पांच दिनों से लगातार चढ़ता कोरोना संक्रमित मरीजों का ग्राफ बुधवार को काफी नीचे आ गया, जो हर किसी के लिए राहत देने वाला है। मंगलवार को आई रिपोर्ट में कांकेर में पदस्थ सरकारी आयुर्वेद डॉक्टर की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, जिसकी पुष्टि बुधवार को जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने की। वहीं बुधवार को आई रिपोर्ट में स्व. बलीराम कश्यप मेमोरियल मेडिकल कॉलेज जगदलपुर में एमबीबीएस की पढ़ाई करने वाला इंटर्न छात्र व अन्य दो बिलासपुर और बलौदाबाजार निवासी हैं। ये दोनों मजदूर हैं। उधर सूरजपुर के आरक्षक की रिपोर्ट दोबारा पॉजिटिव आई है। अब तक प्रदेश में 384 संक्रमित मिल चुके हैं, एक्टिव मरीजों की संख्या 301 जा पहुंची है।

'पत्रिका' को मिली जानकारी के मुताबिक इंटर्न छात्र ने मार्च में एमबीबीएस अंतिम वर्ष की परीक्षा दी थी, जिसके बाद वह अपने घर नोएडा चला गया था। दो दिन पहले ही वह दिल्ली फ्लाइट से अपनी इंटर्नशिप पूरी करने जगदलपुर लौटा है। मगर उसे कॉलेज में एंट्री नहीं मिली। कहा गया कि वह 14 दिन क्वारंटाइन में रहे। वह दिल्ली हॉट स्पॉट से आया था तो उसके सैंपल लिए गए और वह संक्रमित पाया गया। इसके बाद हड़कंप मच गया। तत्काल स्वास्थ्य विभाग ने स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट माना रायपुर अथॉरिटी से संपर्क किया। दिल्ली से जिस फ्लाइट में इंटर्न छात्र आया था, उनके सभी यात्रियों की सूची ली गई। छात्र के बाजू वाली, आगे-पीछे वाली सीट पर बैठने वालों को तमाम जानकारी दी। कहा गया कि वे सचेत रहें। जरा भी लक्षण दिखाई दें, तत्काल स्वास्थ्य विभाग या फिर 104 में सूचना दें। इस विमान में रायपुर पंचशील नगर निवासी एक परिवार के तीन लोग भी सवार थे, जो इंटर्न छात्र के बाजू वाली सीट पर ही बैठे थे। उधर छात्र रायपुर से कार लेकर जगदलपुर गया था, कार ड्राइवर को भी क्वारंटाइन करवा दिया गया है। उसने रास्ते में कांकेर के एक ढाबा में खाना भी खाया था, उन्हें भी अलर्ट कर दिया गया है।

आयुर्वेद विभाग सील :
कांकेर में पूर्व में सीएमएचओ ऑफिस का डाटा एंट्री ऑपरेटर संक्रमित मिला था, और अब आयुष विभाग के डॉक्टर की रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। सीएमएचओ डॉ. जेएल उइके ने बताया कि जिला अस्पताल के एक आयुर्वेद डॉक्टर का 23 मई को लिया गया था, रिपोर्ट मंगलवार को मिली। जिसके बाद उन्हें आईसोलेट किया गया। वहीं उनके विभाग और परिवार के सदस्यों को क्वारंटाइन करवा दिया गया है।

टाटीबंध में पश्चिम बंगाल के मजदूर की मौत :
टाटीबंध में बुधवार की शाम पश्चिम बंगाल के एक मजदूर की मौत हो गई, जो मुंबई से अपने गृहग्राम के लिए निकला था। शव को पोस्टमार्टम के लिए एम्स में शिफ्ट करवाया गया, जहां स्वाब सैंपल लेकर पीएम होगा। केंद्रीय गाइड-लाइन के मुताबिक संदेही मृतक की सैंपलिंग अनिवार्य है, ताकि पता चल सके कि वह कोरोना संक्रमित था या फिर नहीं था।

04 मरीजों की छुट्टी :
एम्स रायपुर ने बुधवार को चार मरीजों को छुट्टी दे दी। इनमें बिलाईगढ़ विकासखंड के दो और बलौदाबाजार व सिमगा विकासखंड के एक-एक मरीज शामिल हैं।

सूजरपुर का आरक्षक दोबारा कोरोना पॉजिटिव :
सूरजपुर जिले के चलगली निवासी 40 वर्षीय आरक्षक जजवाल क्वारंटाइन सेंटर में ड्यूटी के दौरान 2 मई को कोरोना संक्रमित पाया गया था। एम्स से स्वस्थ होकर लौटने के बाद 17 मई को 14 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन कर दिया गया था। उसमें दोबारा लक्षण दिखने पर 22 मई को सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा था। मंगलवार को आई रिपोर्ट में आरक्षक फिर से कोरोना संक्रमित पाया गया। उसे अंबिकापुर के कोविड-19 अस्पताल में भर्ती कराया गया है। प्रदेश का यह पहला मामला है, जब कोरोना मुक्त होने के बाद कोई व्यक्ति दोबारा संक्रमित हुआ हो।

छोटे बच्चे जो कोरोना संक्रमित हैं, उनके साथ सभी मरीजों की स्थिति में तेजी से सुधार हो रहा है। जिलों में सर्विलेंस और सैंपल कलेक्शन का काम जारी है।
डॉ. अखिलेश त्रिपाठी, उप संचालक एवं प्रवक्ता, स्वास्थ्य विभाग

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned