ऐसे हो रहे हैं गूगल के मदद से अपराध और ठगी, रहे सावधान नहीं तो हो सकती है बड़ी मुसीबत

ऐसे हो रहे हैं गूगल के मदद से अपराध और ठगी, रहे सावधान नहीं तो हो सकती है बड़ी मुसीबत

Bhupesh Tripathi | Updated: 18 Jun 2019, 06:11:18 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

* एजेंसी वाले ने दर्ज कराई एफआईआर, गैस एजेंसी के नाम से वेबपेज बनाकर दे रहे हैं (Fraud) झांसा, तीन ग्राहक हो चुके हैं ठगी के शिकार

* गूगल से निकाले गैस एजेंसी के नंबर में मिले ठग, ऑनलाइन सिलेंडर डिलीवरी के नाम कर रहे हैं धोखाधड़ी

रायपुर। जरूरी नहीं कि गूगल सर्च (Google) करने पर मिली हर जानकारी सही हो। इसमें कोई गलत जानकारी भी अपलोड कर सकता है और इसके माध्यम से ठगी ( fraud ) भी कर सकते है। रायपुर (Raipur) में कई लोग इस तरह की धोखाधड़ी के शिकार हो रहे हैं। शहर के एक गैस एजेंसी के नाम पर गूगल में वेबपेज (google webpage) बनाया गया है। इसमें साइबर ( cyber fraud ) ठगों ने अपना मोबाइल नंबर दे रखा है।

ग्राहक सिलेंडर बुकिंग (online Gas booking ) या नया कनेक्शन लेने के लिए इस पर संपर्क करते हैं, तो ठग उनसे बैंक खाता, एटीएम नंबर (ATM) आदि की गोपनीय (one time password) जानकारी लेकर उनके खाते से पैसा निकाल लेते हैं। ग्राहकों के साथ इस तरह की ठगी होने के बाद गैस एजेंसी के संचालक (Online gas agency fraud) ने थाने में आरोपी के खिलाफ अपराध दर्ज कराया है।

पुलिस के मुताबिक टाटीबंध की प्रवेश गैस एजेंसी के नाम पर गूगल में फर्जी वेबपेज बनाया गया है। इसमें नया कनेक्शन, सिलेंडर बुकिंग या होम डिलीवरी के लिए संपर्क करने पर ठगी कर रहे हैं। अज्ञात आरोपी संपर्क करने वाले ग्राहकों को बातों में उलझाकर उनका आधार कार्ड नंबर पूछते हैं। इसके बाद दूसरे मोबाइल से ओटीपी नंबर भेजते हैं और उसे पूछते हैं।

ओटीपी नंबर बताते ही ग्राहक के खाते से पैसे कट जाते हैं। कबीरनगर की पापिया दास, टाटीबंध निवासी सुंदराम उपाध्याय और दिनेश के साथ इसी तरह की ठगी हुई है। तीनों ने प्रवेश गैस एजेंसी के संचालक विशाल शाह से इसकी शिकायत की। इसके बाद विशाल को पता चला कि उनकी एजेंसी के नाम से वेबपेज बनाकर ठगी की जा रही है।

उन्होंने थाने में शिकायत दर्ज कराई। आमानाका पुलिस ने अज्ञात ठगों के खिलाफ धारा 420 व आईटी एक्ट के तहत अपराध दर्ज किया है। पीडि़तों ने पुलिस को बताया कि गूगल में जो नंबर दिया गया है, उसमें बात करने वालों की आवाज का टोन गुजराती और बंगाली जैसी है।

Read More : चोरों का गिरोह सक्रिय, अगर घर छोड़कर जाते है बाहर तो रखे इन बातों का विशेष ध्यान

अलग-अलग नंबरों में मांगा ओटीपी
पीडि़त पापिया ने पुलिस को बताया कि गूगल से निकले गैस एजेंसी के नंबर पर कॉल करने वाले ने आधार कार्ड नंबर पूछा। इसके बाद फिर दूसरे मोबाइल नंबर से बात की। और उससे ओटीपी नंबर भेजा। इस ओटीपी नंबर को तीसरे मोबाइल नंबर में भेजने के लिए कहा। महिला ने जैसे ही ठग के तीसरे मोबाइल नंबर पर ओटीपी नंबर भेजा, उनके खाते से पैसे निकल गए।

24 हजार से अधिक ग्राहक
गैस एजेंसी के संचालक विशाल शाह ने थाने में शिकायत की। और बताया कि उनकी एजेंसी के नाम से गूगल में कोई जानकारी उन्होंने अपलोड नहीं की है। उनके 24 हजार से अधिक ग्राहक हैं। कोई एजेंसी के नाम पर ग्राहकों से ठगी कर रहा है। गूगल से भी यह जानकारी हटाने के लिए लिखा जा रहा है। साथ ही उन्होंने ग्राहकों से इस तरह आने वाले फर्जी कॉल से सावधान रहने और किसी भी तरह की जानकारी नहीं देने को कहा है। साथ ही ठगों के फोन आने पर तत्काल एजेंसी को सूचना देकर ठगी से बचने को भी कहा है।

Read Also : एडवांस बुकिंग में आती थी भोपाल की हाईप्रोफाइल कॉलगर्ल, मैनेजर सहित 6 लोग गिरफ्तार

केस-1
9 जून को श्रीराम लोटस टाटीबंध निवासी सुंदराम उपाध्याय ने घरेलू गैस सिलेंडर का कनेक्शन लेने गूगल में अपने इलाके की गैस एजेंसी को सर्च किया। इसमें प्रवेश गैस एजेंसी की जानकारी मिली। प्रवेश गैस एजेंसी का मोबाइल नंबर 09016063282 दिया था। इसमें सुंदराम ने संपर्क किया। दूसरी ओर से दीपक कुमार ने बात की और खुद को गैस एजेंसी का संचालक (fraud )बताया। उसने कनेक्शन लेने पर सब्सिडी मिलने का झांसा दिया। इसके बाद उनका आधार नंबर, एटीएम नंबर और ओटीपी पूछ लिया। थोड़ी देर में उनके खाते से 600 रुपए पार हो गए। और आरोपी का नंबर बंद हो गया।

केस-2
10 जून को कबीरनगर में रहने वाली पापिया दास ने गूगल में प्रवेश गैस एजेंसी (gas agency) सर्च किया। और ऑनलाइन सिलेंडर डिलीवरी (Online delivery) के लिए उसमें दिए मोबाइल नंबर पर बात की। दूसरी ओर से कहा गया कि आपका आधार डीलिंक हो गया है। दोबारा लिंक करना होगा। इसके बाद उसने आधार नंबर, एटीएम नंबर पूछ लिया। बाद में ओटीपी नंबर भी पूछा। इसके बाद महिला के खाते से 1900 रुपए निकल गए। इसकेबाद आरोपी ने मोबाइल बंद कर दिया।

केस-3
30 मई को आमानाका इलाके में रहने वाले दिनेशचंद्र धु्रव ने गूगल में प्रवेश गैस एजेंसी का संपर्क नंबर निकाला। उसमें कॉल करके सिलेंडर बुक करने के लिए संपर्क किया। दूसरी ओर से दीपक कुमार ने बात करते हुए कहा कि आधार नंबर पूछा। आधार कार्ड नंबर (card number)और (ATM ) एटीएम कार्ड (ATM card number) नंबर व अन्य चीजें पूछी। उसने बता दिया। दिनेश के खाते (bank account) में पैसा नहीं था। इसलिए उनके खाते से पैसा नहीं निकल पाया।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर .. खबरों पर बने रहने के लिए Download करें Hindi news App .

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned