रायपुर में ऑक्सीजन की कमी से सात बच्चों की मौत की खबर से हड़कंप, कलेक्टर पहुंचे अस्पताल, जानें क्या है पूरा मामला

Raipur News: राजधानी के पंडरी जिला अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से सात बच्चों की मौत की वायरल हो रही खबर पर जिला प्रशासन हरकत में आ गया। रायपुर कलेक्टर सौरभ कुमार बुधवार को जिला अस्पताल पहुंचे, जहां उन्होंने पूरे मामले का जायजा लिया।

By: Ashish Gupta

Published: 21 Jul 2021, 04:17 PM IST

रायपुर. राजधानी के पंडरी जिला अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से सात बच्चों की मौत की वायरल हो रही खबर पर जिला प्रशासन हरकत में आ गया। रायपुर कलेक्टर सौरभ कुमार बुधवार को जिला अस्पताल पहुंचे, जहां उन्होंने पूरे मामले का जायजा लिया।

रायपुर कलेक्टर ने बताया कि 24 घंटे में दो बच्चों की मौत हुई है। दोनों बच्चों की मौत फेफड़ों में संक्रमण की वजह से ठीक तरह से ऑक्सीजन नहीं ले पाने की वजह से हुई है। कलेक्टर ने बताया कि अस्पताल में किसी भी प्रकार की ऑक्सीजन की कमी नहीं है। इस बीच कलेक्टर ने ऐसी भ्रामक जानकारी फैलाने वालों पर सख्त कार्रवाई की बात कही है।

यह भी पढ़ें: तीसरी लहर में कुपोषित बच्चों को सुरक्षित रखना बड़ी चुनौती, इन बातों का रखें ध्यान

वहीं अस्पताल प्रशासन ने भी ऑक्सीजन की कमी से सात बच्चों की मौत की खबर को पूरी तरह गलत बताया है। जिला अस्पताल के डॉ ओमकार ने कहा, सात बच्चों की मौत की खबर प्रसारित की जा रही है जो पूरी तरह से भ्रामक है। पिछले 24 घंटे में दो बच्चों की मौत हुई है। डॉ ओमकार ने बताया कि अस्पताल में ऑक्सीजन कमी के कारण दोनों बच्चों नहीं हुई है। दोनों बच्चों की हालत पहले से ही क्रिटिकल थी। दोनों बच्चे ठीक तरह से ऑक्सीजन नहीं ले पा रहे थे, जिसकी वजह से उनकी मृत्यु हो गई।

आंबेडकर अस्पताल के डेडिकेटेड कोविड अस्पताल बन जाने के कारण यहां का स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग का अस्पताल का संचालन वर्तमान में पंडरी जिला अस्पताल में संचालित हो रहा है। यहां पर नवजात के लिए एनआईसीयू बनाया गया है। एनआईसीयू में माना बस्ती के रहने वाले घनश्याम का 7 महीने का बच्चा पिछले कुछ दिनों से भर्ती था।

यह भी पढ़ें: खतरा बरकरार: एमपी, यूपी समेत 7 राज्यों में जितने मरीज मिले, उतने अकेले छत्तीसगढ़ में

मंगलवार को दोपहर घनश्याम और उसकी पत्नी जानकी मासूम को दिखाने के लिए डॉक्टरों से जिद करने लगे। डॉक्टरों ने एनआईसीयू में संक्रमण का खतरा बताकर अंदर जाने से मना कर दिया। हालांकि, प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि मासूम की तबीयत ठीक नहीं होने पर परिजन किसी अन्य अस्पताल ले जाना चाहते थे। डॉक्टरों ने ऑक्सीजन सिलेंडर देने से मना कर दिया, जिससे मासूम को लेकर परिजन अन्य अस्पताल नहीं जा पाए।

राजधानी के पंडरी जिला अस्पताल में मंगलवार को मासूम की मौत होने पर परिजनों ने जमकर हंगामा शुरू कर दिया। इससे दूसरे बच्चों के परिजन भी किसी अनहोनी के डर से एनआईसीयू में जाने की जिद करने लगे। अस्पताल के सुरक्षाकर्मियों ने अंदर जाने से रोका तो वह भी हंगामा करने लगे। अस्पताल परिसर में 3 घंटे तक हंगामा होता रहा। पुलिस के पहुंचने पर मामला शांत हुआ और परिजन शव को लेकर रात 10.30 बजे घर गए।

Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned