रायपुर के अलावा छत्तीसगढ़ के इन जिलों में भी गहराने लगा डेंगू का संकट, जानिए एक्सपर्ट ने क्या कहा

Dengue Outbreak: रायपुर के अलावा प्रदेश के दूसरे जिलों में भी डेंगू का संकट छाने लगा है। प्रदेश में 470 से अधिक डेंगू के मरीज मिल चुके हैं, जिसमें रायपुर के 396 शामिल हैं।

By: Ashish Gupta

Published: 18 Sep 2021, 07:06 PM IST

रायपुर. Dengue Outbreak: रायपुर के अलावा प्रदेश के दूसरे जिलों में भी डेंगू का संकट छाने लगा है। प्रदेश में 470 से अधिक डेंगू के मरीज मिल चुके हैं, जिसमें रायपुर के 396 शामिल हैं। दुर्ग से 36, रायगढ़ से 28 तथा जगदलुपर से 8 डेंगू के मरीज रिपोर्ट हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग के लिए राहत की बात है कि ज्यादातर मरीज एसिम्टोमैटिक मिले हैं। अधिकांश मरीज घर पर इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं। बहुत कम मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने की नौबत आई है।

रायपुर जिले में स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम के तमाम प्रयासों के बाद भी डेंगू पर नियंत्रण नही लग पा रहा है। डेंगू मरीजों का आंकड़ा दिनोंदिनों बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार को 4 डेंगू के नए मरीज मिले हैं। हांडीपारा, राजेंद्रनगर, सेजबहार और अश्वनी नगर से एक-एक मरीज मिले हैं। इनमें से एक को पंडरी जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बाकियों का इलाज घर पर चल रहा है। रायपुर जिले में रोजाना औसतन 6-7 नए मरीज रिपोर्ट हो रहे हैं।

20 सितंबर को राजेंद्र नगर में शिविर लगाकर रैपिड किट से जांच तथा डेंगू नियंत्रण करने सोर्स रिडक्शन की कार्यवाही की जाएगी। शुक्रवार को दुर्गा नगर पंडरी वार्ड-29 में शिविर लगाकर 10 लोगों की जांच की गई तथा 150 घरों में जाकर कुलर व पानी टंकी व अन्य कंटेनर में लार्वा की जांच की गई। शहरी स्वास्थ्य केंद्रों में 56 लोगों की रैपिड किट से जांच हुई। स्वास्थ्य कर्मचारियों ने 404 घरों में जाकर कुलर, पानी टंकी व अन्य कंटेनर में लार्वा की जांच की, हालांकि किसी भी घर से डेंगू का लार्वा नही मिला।

यह भी पढ़ें: इन अफवाहों के डर से लोग अभी भी नहीं लगवा रहे कोरोना वैक्सीन, आप भी जानिए वो वजह

रायपुर के सभी वार्डों से मिल रहे मरीज
रायपुर में डेंगू का कोई हॉटस्पाट नहीं है, सभी वार्डों से मरीज मिल रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि प्रत्येक साल इस मौसम में डेंगू के मरीज मिलते हैं। पिछले साल कोरोना की वजह से टेस्ट कम किए गए थे, जिससे मरीज कम मिले थे। विगत कुछ दिनों से हो रही बारिश से डेंगू पर अंकुश लगने की उम्मीद है लेकिन बढऩे से भी इनकार नही किया जा सकता है। लोग यदि घरों व आसपास पानी जमा नही होने देंगे तो डेंगू को नियंत्रित किया जा सकता है। मौमस के तापमान में भी गिरावट हो रही है, जिससे मच्छर की ब्रिडिंग कम हो जाएगी।

स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता डॉ. सुभाष मिश्रा ने कहा, प्रदेश के दूसरे जिलों में भी डेंगू के मरीज मिल रहे हैं, लेकिन सबसे ज्यादा राजधानी में मिल रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग नियंत्रित करने में जुटा हुआ है लेकिन लोगों को भी जागरूक होना होगा। घर व आसपास जमे पानी की वजह से डेंगू के मच्छर पनपते हैं।

यह भी पढ़ें: राजस्थान, हरियाणा, मध्य प्रदेश में इकाई में मिल रहे कोरोना मरीज, छत्तीसगढ़ में अभी भी 30 से अधिक

जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. विमल किशोर राय ने कहा, राजधानी में विगत सालों की तुलना में अधिक जांच हो रही है, जिससे मरीज भी ज्यादा मिल रहे हैं। फिलहाल, अब डेंगू धीरे-धीरे नियंत्रित हो रहा है। प्रभावित क्षेत्रों में शिविर लगाकर जांच की जा रही है। संदिग्धों का एलाइजा टेस्ट के लिए सैंपल मेडिकल कॉलेज भेजा जा रहा है।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned