डेंगू का डंक: राजधानी में आंकड़ा 350 पहुंचा, 1 फरवरी को मिला था पहला मरीज

इस वर्ष डेंगू का पहला मरीज 1 फरवरी को देवपुरी के वर्धमान नगर से मिला था। मार्च में बीएसयूपी कॉलोनी और अशोकनगर से मरीज मिले थे। अप्रैल और मई में एक भी केस नही मिले लेकिन जून शुरू होते ही सिलसिला शुरू हो गया।

By: Karunakant Chaubey

Updated: 07 Sep 2021, 10:55 AM IST

रायपुर. राजधानी में स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम के तमाम प्रयासों के बावजूद डेंगू मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है। सोमवार को 8 नए केस रिपोर्ट हुए हैं, जिससे आंकड़ा 350 पहुंच गया है। संतोषीनगर से 2, चंगोराभाठा, ब्राह्मणपारा, लाखेनगर, अश्विनीनगर, आरंग तथा अशोकनगर से एक-एक केस मिले हैं।

चंगोराभाठा तथा संतोषीनगर के मरीजों को आंबेडकर अस्पताल तथा अशोक नगर के मरीज को आयुर्वेदिक अस्पताल परिसर में 10 बिस्तरीय वार्ड में भर्ती कराया गया है, जबकि बाकियों का घर पर इलाज जारी है। मंगलवार को शांतिनगर में शिविर लगाकर रैपिड किट से जांच की जाएगी।

डेंगू बुखार में अगर शरीर में इससे कम है प्लेटलेट्स तो हो जाएं सतर्क वरना बढ़ सकती है मुश्किल

सोमवार को डॉ. राजेंद्र प्रसार वार्ड-56 में शिविर लगाकर 36 लोगों की जांच की गई। 111 घरों में जाकर कुलर व पानी टंकी व अन्य कंटेनर में लार्वा की जांच की गई। एक घर में लार्वा मिला। सीएमएचओ डॉ. मीरा बघेल ने बताया कि 50 बिस्तरीय शहरी स्वास्थ्य केंद्र आयुर्वेदिक कॉलेज परिसर में 10 बिस्तरीय वार्ड डेंगू मरीजों के इलाज के लिए आरक्षित किया गया है, जिसमें 7 खाली है।

गौरतलब है कि इस वर्ष डेंगू का पहला मरीज 1 फरवरी को देवपुरी के वर्धमान नगर से मिला था। मार्च में बीएसयूपी कॉलोनी और अशोकनगर से मरीज मिले थे। अप्रैल और मई में एक भी केस नही मिले लेकिन जून शुरू होते ही सिलसिला शुरू हो गया, जो अभी तक जारी है।

ये भी पढ़ें: Dengue: धड़ाम से Platelets गिरने से हो रही मरीजों की मौत, जानें काउंट बढ़ाने के आसान उपाय

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned