Dengue Preventive Food : डेंगू से बचने के लिए क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, यहां जानें

डेंगू से बचने के लिए क्या खाना चाहिए (Dengue Preventive Food) और डेंगू होने पर रोगी को कैसा भोजन नहीं देना चाहिए, इस बारे में यहां विस्तार से जानें...

By: lalit sahu

Updated: 26 Aug 2020, 07:42 PM IST

हर साल बरसात का मौसम आते ही डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया के फैलने और मच्छरों के आतंक का डर सताने लगता है। क्योंकि इस मौसम में मच्छरों के कारण फैलने वाले ये बुखार शरीर को पूरी तरह तोड़ देते हैं। आइए, यहां जानते हैं उन हेल्दी फूड्स के बारे में, जिन्हें खाकर आप इन जानलेवा संक्रामक बुखारों से भी बच सकेंगे। साथ ही उन फूड्स के बारे में भी जानें, जिन्हें ना खाकर आप इन बीमारियों से बच सकते हैं... यहां खासतौर पर डेंगू (Dengue) के बारे में बात की जा रही है...
इसके बारे में तो हम पहले भी बता चुके हैं


जी हां, डेंगू से बचाव और डेंगू होने पर इस संक्रमण से निजात दिलाने में पपीते के पत्ते आपके लिए काफी लाभकारी रहेंगे। क्योंकि पपीते के पत्तों से बना काढ़ा और जूस पीने से गिरती प्लेटलेट्स को बढ़ाया जा सकता है...

इस तरह बनाएं पपीते के पत्तों का जूस

सबसे पहले पपीते के दो पत्तों को अच्छी तरह धुल लें और इन्हें महीन तरीके से काट लें।
अब आप मध्यम आकार का आधा पपीता लें और उसे छोटे टुकड़ों में काट लें।
इस जूस में तीन चम्मच नींबू रस या आधा कप संतरे का जूस मिला लें।
अब आप इन सभी चीजों को एक साथ मिलाकर ग्राइंडर में डालें और थोड़ा-सा पानी मिलाकर पीस लें।
तैयार जूस को ताजा-ताजा पी लें। आप इस जूस को दिन में दो बार पी सकते हैं। लेकिन ध्यान रखें कि हर बार फ्रेस जूस तैयार करके ही पिएं।

नारियल पानी
डेंगू आमतौर पर शरीर में डिहाइड्रेशन पैदा करता है। इस स्थिति में शरीर को सूखे के रोग से बचाने के लिए नारियल पानी का लगातार सेवन करना चाहिए।
नारियल पानी प्राकृतिक पोषक तत्वों का खजाना होता है। डेंगू के रोगियों को आमतौर पर मन खराब होना, मितली आना जैसी समस्याएं होती हैं। नारियल पानी इन समस्याओं से भी बचाता है।

अनार खाएं
अनार में प्राकृतिक तौर पर मिनरल्स और पोषक तत्व होते हैं। अनार के सेवन से शरीर में खून की कमी भी नहीं होती है और लगातार शरीर में ऊर्जा भी बनी रहती है।
अनार में आयरन भरपूर मात्रा में होता है, जो शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ाता है। इससे शरीर में ऑक्सीजन का स्तर बना रहता है। इन कारणों से शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या बनी रहती है।

मिक्स हब्र्स
आयुर्वेद में कई ऐसी जड़ी बूटियों के गुणों का विवरण मिलता है, जिन्हें आप अपने दैनिक जीवन में उपयोग कर सकते हैं। इन्हीं में शामिल हैं, तुलसी, अश्वगंधा, गिलोय और एलोवेरा। इसके साथ ही आप आंवला या आंवला चूर्ण का उपयोग कर सकते हैं।
ये सभी हब्र्स आपको हेल्दी और फिट रखने में सहायक हैं। क्योंकि ये शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया और वायरस को खत्म करने का काम करते हैं।

इन्हें खाने से बचें...

डेंगू एक हड्डी तोड़ बुखार कहा जाता है। क्योंकि इस संक्रामक फीवर के दौरान शरीर में बहुत अधिक दर्द होता है। खासतौर पर शरीर की हड्डियों और जोड़ों में।

इस स्थिति में शरीर बहुत अधिक कमजोर होता है। इसलिए कोई भी ऐसा भोजन या खाद्य पदार्थ रोगी को नहीं देना चाहिए, जिसे पचाने में मुश्किल होती है या समय लगता है।

तला-भुना और बहुत अधिक मसालेदार भोजन रोगी को ना दें। इस तरह का भोजन रोगी की सुधर रही स्थिति को अधिक खराब कर सकता है।

lalit sahu Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned