scriptdepartment failed to elephants out of district only alerting people | हाथियों को जिले से बाहर करने में विभाग नाकाम, केवल लोगों को अलर्ट कर चला रहा काम | Patrika News

हाथियों को जिले से बाहर करने में विभाग नाकाम, केवल लोगों को अलर्ट कर चला रहा काम

धमतरी के जंगल सेआता है हाथियों का दल और भानुप्रतापपुर तक घूमने के बाद लौट जाता है गरियाबंद। रोकने में नाकाम है वन विभाग, केवल ग्रामीणों को सतर्क रहने का देता है सलाह।

रायपुर

Published: July 08, 2022 04:34:05 pm

बालोद। हाथियों को जिले के जंगल से बाहर करने वन विभाग दो साल से उपाय कर रहा है, लेकिन अब तक सफलता नहीं मिली। हाथियों का दल धमतरी के जंगल से होते हुए बालोद के जंगल व कांकेर के भानुप्रतापपुर जंगल तक पहुंचकर फिर लौट आता है। यहां से धमतरी के जंगल होते हुए गरियाबंद पहुंच रहा है।

qwer.jpg

दो साल में 911 किसानों की फसल हुई खराब, तीन की मौत-
वन विभाग के मुताबिक दो वर्षों में हाथियों ने तीन लोगों की जान ली। 911 किसानों के 369 हेक्टेयर फसलों को नुकसान पहुंचाया है। अब तक लगभग 98 मकान भी तोड़ा। वन विभाग का दावा है कि हाथी प्रभावित लोगों को सभी प्रकार के नुकसान के बदले 1 करोड़ 22 लाख 66 हजार 556 उचित मुआवजा भी दिया जा चुका है।

दहशत में ग्रामीणों को पक्के घर की छत पर गुजारनी पड़ी रात-
बीते साल डौंडी ब्लॉक के ग्राम जबकसा में ग्रामीण दहशत में थे। इस गांव के आसपास के गांवों में काफी डर का माहौल था, क्योंकि रोज हाथियों की चिंघाड़ व कच्चे घरों को हाथी तोड़ रहे थे। इस वजह से ग्रामीणों को पुक्के मकान की छतों में रात गुजारनी पड़ी। यह स्थिति यहां आस पास के गांवों में भी रहा। आज भी हाथियों के आने पर ग्रामीणों को कच्चे मकानों की छतों पर जाना पड़ता है।

15 दिसंबर 2020 को पहली बार गुरुर के जंगल पहुंचे हाथी-
जिले के जंगल में पहली बार 15 दिसंबर 2020 को हाथियों का झुंड दिखाई दिया। गरियाबंद के जंगल से धमतरी होते हुए चंदा हथिनी सहित 22 हाथियों का दल पहुंचा। लगभग एक साल से जिले के जंगल में मौजूद है। दल कभी गुरुर तो कभी डौंडी के जंगल में विचरण कर रहा है।

वन विभाग ने कहा कि हाथियों को भगाना मुश्किल है। सिर्फ सूचना तंत्र बढ़ाया है। हाथी गांव के नजदीक होने पर प्रभावित इलाकों को अलर्ट कर दिया जाता है।जानकारी के मुताबिक बीते साल जुलाई में पश्चिम बंगाल से हाथियों से सुरक्षित खदेड़ने के लिए टीम बुलाई थी। जो कुछ दिन जिले में रही और लौट गई। हालांकि टीम नि:शुल्क आई थी।

वर्तमान में हाथी जिले के जंगल में हैं। रिहायशी इलाकों में घुसने से कैसे बचें, इसके लिए पश्चिम बंगाल से स्पेशलिस्ट टीम आई थी। उन्होंने कई जानकारी दी। हाथियों को भगाना मुश्किल काम है। लोगों को सावधानी रखनी पड़ेगी। सभी प्रकरण में मुआवजा दिया जा चुका है।
-आयुष जैन, डीएफओ, बालोद

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Political Crisis Live Updates: नीतीश कुमार ने दिया इस्तीफा, 160 विधायकों के साथ नई सरकार बनाने का दावा किया पेशBihar Political Crisis: नीतीश कुमार ने दिया इस्तीफा, अब महागठबंधन के साथ बनाएंगे सरकारBihar Political Crisis: नीतीश कुमार ने इस्तीफा सौंपने के बाद कहा - 'बीजेपी के साथ एक नहीं कई दिक्कतें थीं'Maharashtra Cabinet Expansion: कौन है सीएम शिंदे की नई टीम में शामिल 18 मंत्री? तीन पर लगे है गंभीर आरोपगुजरात के जामनगर में मुहर्रम पर बड़ा हादसा, ताजिया जुलूस में करंट लगने से दो की मौत, कई घायललालू-नीतीश की दोस्ती से ढह जाते हैं सारे समीकरण, जानिए फिर कैसे कम हुई दोनों के बीच दूरियां40 साल के सियासी सफर में 17 साल से सत्ता में नीतीश कुमार, लेकिन पुराने सहयोगियों को कई बार दे चुके हैं दगाGoogle: अमरीका के गूगल स्थित डेटा सेंटर में बड़ा हादसा,आग लगने से तीन कर्मचारी झुलसे, सेवाएँ बाधित होने की आशंका
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.