ट्रक चालक और नशेड़ियों को अफीम-डोडा उपलब्ध कराने वाला ढाबा संचालक महिला तस्करों के साथ गिरफ्तार

नशेड़ियों और ट्रक चालकों को अफीम व डोडा (Afim and Doda) उपलब्ध कराने वाला बड़ा गिरोह पुलिस के हत्थे चढ़ा है।

By: Bhawna Chaudhary

Published: 28 Oct 2020, 11:59 AM IST

रायपुर. राजधानी के नशेड़ियों और ट्रक चालकों को अफीम व डोडा (Afim and Doda) उपलब्ध कराने वाला बड़ा गिरोह पुलिस के हत्थे चढ़ा है। गिरोह का मास्टरमाइंड ढाबा संचालक है, जो ओडिशा-पंजाब से अफीम और डोडा मंगाकर अपनी महिला कर्मचारियों की मदद से शहर में खपाता था। आरोपियों का नाम पुलिस अधिकारियों द्वारा सुंदर सिंह संधु, शोभा सावलानी और किरण चंदानी बताया जा रहा है। गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश पुलिस कर रही है। आरोपियों पर नारकोटिक्स एक्ट के तहत पुलिस ने कार्रवाई की है।

आरोपियों को सिविल लाइन स्थित पुलिस कंट्रोल रूम में मीडिया के सामने पेश करते हुए पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आरोपी विगत 9 माह से एक्टिव थे। आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिसकर्मी खुद खरीदार बनकर पहुंचे और घेराबंदी कर आरोपियों को पकड़ा। सबसे पहले गिरोह की महिलाएं पुलिस के हत्थे चढ़ी। महिलाओं से पूछताछ के दौरान गिरोह के मास्टरमाइंड सुंदर सिंह के बारे में पता चला।

सुंदर सिंह को तेलीबांधा स्थित निवास से पुलिस ने गिरफ्तार किया। आरोपियों से उनके ग्राहकों की कुंडली भी पुलिस अधिकारी जुटा रहे है। आरोपियों से जब्त नशीली सामग्री की कीमत पुलिस अधिकारियों द्वारा लगभग 16 लाख रुपए बताई जा रही है।

गुंडा अभियान कार्रवाई में मिली थी जानकारी
जिले के अपराधियों पर नियंत्रण लगाने के लिए रायपुर पुलिस के अधिकारी गुंडा अभियान के तहत नशेड़ियों, आदतन अपराधियों पर लगातार कार्रवाई कर रहे हैं। कार्रवाई के दौरान सायबर सेल की टीम को एक नशेड़ी मिला, जिसने शहर में महिलाओं के गिरोह द्वारा अफीम और डोडा सप्लाई करने की बात पुलिस को बताई। पुलिस ने नशेड़ी को प्वाइंटर बनाया और महिला तस्करों से संपर्क करके अफीम और डोडा की मांग की। महिला तस्कर अफीम और डोडा की डिलीवरी देने के लिए एमएमआई चौक पहुंची थी, इस दौरान पुलिस ने घेराबंदी कर गिरफ्तार कर लिया।

ढाबे की आड में कारोबार का संचालन
पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आरोपी सुंदर सिंह का आरंग रोड में शेरे पंजाब नाम से वाया है। इस ढाये की आड़ में ट्रक संचालकों के माध्यम से अफीम और डोडा की तस्करी करता था। आरोपी मास्टरमाइंड ने शातिर तरीके से महिलाओं को अपने ग्रुप में जोड़ा, ताकि उसके कारोबार पर किसी को शक ना हो। गिरोह में शामिल शोभा सावलानी और किरण चंदानी की संदिग्ध कार्यप्रणाली पर किसी को शक ना हो, इसलिए वो राजेंद्रनगर और तेलीबांधा में झाडू-पोछा का काम करती थी। डोडा और अफीम की सप्लाई सोने के गिरोह के सभी सदस्य दो पहिया वाहन का इस्तेमाल करते थे।

मुखबिर से आरोपियों के बारे में जानकारी मिली थी जानकारी मिलने पर सायबर सेल और राजेंद्र नगर पुलिस ने संयुक्त कारवाई कर पहले. महिला तस्कर और फिर मास्टरमाइंड से पकड़ा। आरोपियों से पूछताछ जारी है। गिरोह में और कितने सदस्य है, इसके बारे में पता लगाया जा रहा है।
अजय यादव, एसएसपी, रायपुर

Show More
Bhawna Chaudhary
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned