लॉकडाउन में पालकों से फीस वसूलने वाले निजी स्कूलों की कुंडली बनाएगा स्कूल शिक्षा विभाग

- लोक शिक्षण संचालक ने जारी किया निर्देश .
- जल्द रिपोर्ट जमा करनी होगी जिला शिक्षा अधिकारियों को .

By: Bhupesh Tripathi

Published: 25 Sep 2020, 10:48 PM IST

रायपुर। लॉकडाउन की अवधि में पालकों से फीस मांगने वाले और फीस ना देने के अभाव में छात्रों को स्कूल से निकालने वाले निजी स्कूलों की कुंडली अब स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी तैयार करेंगे। निजी स्कूलों की मनमानी पर नियंत्रण लगाया जा सके, इसलिए लोक शिक्षण संचालनालय के संचालक ने जिला शिक्षा अधिकारियों को स्कूल से जानकारी जुटाने का निर्देश जारी किया है। यह जानकारी जल्द से जल्द स्कूल शिक्षा विभाग के संचालक तक पहुंच सके, इसलिए जिला शिक्षा अधिकारियों ने जानकारी जुटाने के लिए निजी स्कूलों को निर्देश जारी कर दिया है।

यह जानकारी जुटाएंगे जिला शिक्षा अधिकारी
जारी निर्देश के अनुसार लॉकडाउन में निजी स्कूलों ने पालको से कितनी फीस ली है? यह फीस कितने किश्तों में ली गई है? फीस ना देने के अभाव में निजी स्कूलों ने कितने छात्रों को स्कूल से बाहर निकाला है? कितने छात्रों की लॉकडाउन अवधि में टीसी काटी गई है? यह जानकारी निजी स्कूलों से लेनी होगी। इन जानकारियों को जुटाने के लिए जिला शिक्षा अधिकारियों ने नोडलों को निर्देश दे दिए है।

10 दिन में देनी होगी रिपोर्ट
विभागीय अधिकारियों की मानें तो संचालक ने निर्देश जारी करके सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को १० दिन के अंदर रिपोर्ट सबमिट करने का निर्देश दिया है। रिपोर्ट के आधार पर निजी स्कूलों के खिलाफ अग्रिम कार्रवाई स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकरियों द्वारा की जाएगी।

लॉकडाउन की अवधि में निजी स्कूलों ने कितनी फीस ली है? कितनी किश्तों में फीस ली है? कितने बच्चों को टीसी थमाई है। यह जानकारी जुटाने के लिए अधीनस्थ अधिकारियों को निर्देश दिया है। जानकारी आने के बाद अग्रिम प्रक्रिया की जाएगी।
जितेंद्र शुक्ला, संचालक, लोक शिक्षण संचालनालय

स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने फीस की जानकारी और छात्रों को स्कूलों से बाहर करने की जानकारी मांगी है। एसोसिएशन से संबद्धता रखने वाले सभी स्कूलों को जानकारी मुहैय्या कराने के लिए कह दिया गया है। संबद्धता रखने वाले सभी स्कूलों ने नियमों का पालन किया है। हम विभागीय आदेश का पालन करेंगे।
राजीव गुप्ता, अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ प्रायवेट स्कूल एसोसिएशन

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned