बाजार में 5400 रुपये में आई कोरोना की कारगर दवाई, सरकार कर रही खरीदने पर विचार

छत्तीसगढ़ सरकार भी इस दवा की खरीदी पर विचार कर रही है। स्वास्थ्य विभाग की कोरोना कोर कमेटी में इस दवा को लेकर बीते तीन दिनों से चर्चा हो रही थी। जिसके बाद स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक ने टेक्नीकिल कमेटी से इस पर रिपोर्ट मांगी है।

 

 

 

 

 

By: Karunakant Chaubey

Updated: 01 Jul 2020, 10:55 AM IST

रायपुर. कोरोना मरीजों के लिए राहत की बड़ी खबर आई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भारतीय कंपनी हेटरो हेल्थकेयर द्वारा लांच की गई कोरोना के इलाज में कारगर दवा कोविफॉर रेमडेसिवीर का जेनरिक वर्जन के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है। यह दवा कोरोना मरीजों के अंदर वायरस के फैलाव को न सिर्फ रोकती है, बल्कि उसे मारती भी है। मगर, इसका इस्तेमाल सिर्फ गंभीर और अति गंभीर मरीजों पर ही डॉक्टर की अनुशंसा पर हो सकेगा।

यानी आपातकाल स्थिति में। छत्तीसगढ़ सरकार भी इस दवा की खरीदी पर विचार कर रही है। स्वास्थ्य विभाग की कोरोना कोर कमेटी में इस दवा को लेकर बीते तीन दिनों से चर्चा हो रही थी। जिसके बाद स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक ने टेक्नीकिल कमेटी से इस पर रिपोर्ट मांगी है। सूत्रों की मानें तो टेक्नीकिल कमेटी ने इसकी अनुशंसा कर दी है।

'पत्रिका' को मिली जानकारी के मुताबिक यह दवा थोक दवा विक्रेताओं के पास उपलब्ध हैं, जिसकी कीमत 5400 रुपए है। अभी सिर्फ एक कंपनी ने दवा लांच की है। सूत्रों के मुताबिक तीन-चार और कंपनियां इसी फार्मूले पर दवा लाने वाली हैं। जब तक की सिर्फ कोरोना की दवा ईजाद नहीं हो जाती, तब तक इन कारगर दवाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है। जैसे मलेरिया की दवा हाईड्रोक्सी क्लोरोक्विन कारगर साबित हो रही है।

एक शीशी में पांच डोज : इस दवा की एक शीशी में पांच दिन का डोज तैयार होता है। यानी मरीज को प्रतिदिन एक डोज लगेगा। दवा शेड्यूल एच-1 में है, यानी इसे सीधे ग्राहकों को नहीं बेचा जा सकता। ऐसा इसलिए किया गया है, ताकि इस दवा को लेकर बाजार में मारा-मारी न हो जाए।

सिर्फ कोरोना प्रभावित राज्यों में सप्लाई

रायपुर ड्रगिस्ट एंड कमिस्ट एसोसिएशन के सचिव अश्वनी विग ने 'पत्रिका' को बताया कि दवा हमारे अधिकृत विक्रेताओं के पास उपलब्ध है। यह दवा दिल्ली, महाराष्ट, छत्तीसगढ़ और गुजरात राज्यों में कंपनी आपूर्ति कर रही है। उनका कहना है कि अगर कई कंपनियां दवा बाजार में लाती हैं तो प्रतिस्पर्धा में दवा की दर में कमी आएगी।

रेमडेसिवीर दवा को लेकर कोर कमेटी में चर्चा हुई है। इसे टेक्नीकिल कमेटी फाइनल करेगी।

-डॉ. अखिलेश त्रिपाठी, उप संचालक व प्रवक्ता, स्वास्थ्य विभाग

भारत सरकार ने रेमडेसिवीर दवा को मंजूरी दे ही है। यह दवा कोरोना के गंभीर और अति गंभीर मरीजों पर इस्तेमाल की जा सकती है। इसके साथ-साथ पूर्व निर्धारित दवाएं भी दी जाएंगी।

-डॉ. आरके पंडा, विभागाध्यक्ष टीबी एंड चेस्ट, डॉ. भीमराव आंबेडकर अस्पताल

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned