मतदाता सूची में सुधार के लिए अब ऑनलाइन पोर्टल के उपयोग पर जोर

आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों में मतदाता सूची में सुधार की प्रक्रिया तेज हो गई है

By: Deepak Sahu

Updated: 18 Dec 2018, 01:45 PM IST

रायपुर. आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों में मतदाता सूची में सुधार की प्रक्रिया तेज हो गई है। इसके लिए अफसरों को मतदाता पुनरीक्षण कार्य का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसके तहत सोमवार को रायपुर में 13 जिलों के 30 विधानसभा क्षेत्रों के रजिस्ट्रीकरण, सहायक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी एवं मास्टर ट्रेनरों को प्रशिक्षण दिया गया। इस दौरान उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी यूएस अग्रवाल ने मतदाता सूची में सुधार, नए मतदाता जोडऩे और मतदाता सूची से नाम हटाने के लिए ऑनलाइन पोर्टल का अधिक से अधिक उपयोग करने पर जोर दिया।

प्रशिक्षण के दौरान उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अग्रवाल ने बताया कि ऑनलाइन के उपयोग से मतदाता पुनरीक्षण का काम भी तेज होगा। सभी मतदाताओं को इस प्रक्रिया का हिस्सा बनने में आसानी होगी। अग्रवाल ने बताया कि आम मतदाता भी इस पोर्टल के माध्यम से अपना नाम जुड़वा सकते हैं और विधानसभा क्षेत्र बदलवा सकते हैं या नाम हटवा सकते हैं।

इपिक कार्ड के लिए कोई शुल्क नहीं
मास्टर ट्रेनर पुलक भट्टाचार्य ने प्रशिक्षण में सभी प्रक्रियाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। प्रशिक्षण में अधिकारियों ने यह भी बताया कि पहली बार इपिक कार्ड प्रदान करने पर कोई शुल्क नहीं लिया जाता है। यदि मतदाता डुप्लीकेट इपिक कार्ड बनवाना चाहते हैं, तो उन्हें निर्धारित शुल्क के साथ इपिक कार्ड दिया जा सकता है।

घर-घर जाकर सत्यापन की हिदायत
प्रशिक्षण कार्यक्रम में चुनाव कार्य से जुड़े अफसरों को घर-घर जाकर मतदाताओं का सत्यपान करने को कहा गया है। कर्मचारियों को इस बात की भी हिदायत दी गई कि सर्वे फार्म भरने के बाद मतदाता सूची में नाम जुड़वाने की कार्यवाही निरंतर होनी चाहिए। अधिकारियों ने बताया कि बीएलओ को मतदान केन्द्र का भौतिक सत्यापन एवं मूलभूत सुविधाओं की जानकारी लेनी होगी।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned