आबकारी विभाग के भगोड़े अधिकारी समुंद्र सिंह और उसके परिवार की अग्रिम जमानत खारिज

- गिरफ्तारी से बचने स्पेशल कोर्ट में लगाई थी याचिका .
- ईओडब्ल्यू ने भ्रष्टाचार और आय से अधिक संपत्ति के दो मामलों में किया है जुर्म दर्ज .

By: Bhupesh Tripathi

Published: 24 May 2020, 06:42 PM IST

रायपुर। आबकारी विभाग के फरार ओएसडी समुंद्र सिंह और उसके परिजनों की अग्रिम जमानत को स्पेशल कोर्ट ने खारिज कर दिया है। आय से अधिक संपत्ति मामले में आरोपी बनाए गए समुंद्र सिंह ने विशेष न्यायाधीश (भ्रष्टाचार निवारण) लीना अग्रवाल की अदालत में आवेदन लगाया। इसमें राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो द्वारा स्वयं के साथ ही पत्नी और तीनों बच्चों को झूठे मामले में फंसाने का हवाला देते हुए जमानत देने का अनुरोध किया था। साथ ही जांच में सहयोग करने का आश्वासन दिया गया था।

अतिरिक्त लोक अभियोजक मिथिलेश वर्मा ने इसका विरोध करते हुए बताया कि ईओडब्ल्यू ने 26 अप्रैल 2019 को समुंद्र सिंह के रायपुर, बिलासपुर, मुंगेली और मध्यप्रदेश के अनूपपुर में छापा मारा गया था। इस दौरान तलाशी में उनके ठिकानों से करीब 15 करोड़ की चल-अचल संपत्ति मिली थी। बेहिसाब संपत्ति मिलते ही वह गिरफ्तारी के डर से अपनी पत्नी सहित फरार हो गए थे। कोर्ट ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जमानत आवेदन को खारिज कर दिया। बता दें कि समुंद्र सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार और आय से अधिक संपत्ति के दो प्रकरण ईओडब्ल्यू द्वारा दर्ज किए गए हैं। दोनों ही प्रकरणों में कोर्ट इसके पहले भी जमानत के आवेदन को खारिज कर चुकी है।

ईनाम घोषित
आबकारी विभाग के ओएसडी समुद्र सिंह को ईओडब्ल्यू और कोर्ट भी फरार घोषित कर चुकी है। दोनों की लगातार पिछले एक वर्ष से फरारी को देखते हुए ईओडब्ल्यू ने उनके संबंध में किसी भी तरह की सूचना देने पर 10000 रुपए का ईनाम घोषित किया गया है। बता दें कि समुंद्र सिंह को सेवानिवृत्ति के बाद 9 वर्षों तक आबकारी विभाग में संविदा नियुक्ति पर ओएसडी के पद पर रहे।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned