छत्तीसगढ़: किसान करेंगे रेल रोको आंदोलन, 30 जुलाई को कर सकते हैं बड़ा ऐलान

राजनांदगांव के कृषि उपज मंडी में जिला किसान संघ की बैठक में इसका निर्णय लिया गया।

By: चंदू निर्मलकर

Published: 24 Jul 2018, 05:23 PM IST

राजनांदगांव. फसल बीमा भुगतान की मांग को लेकर एक बार फिर किसान बड़ा आंदोलन करने की तैयारी कर रहे हैं। इस बार किसान रेल रोको आंदोलन करने जा रहे हैं। राजनांदगांव के कृषि उपज मंडी में जिला किसान संघ की बैठक में इसका निर्णय लिया गया।

राजनांदगांव जिले को पूरे प्रदेश में सर्वाधिक बीमा भुगतान के प्रशासन के दावे के बीच बड़ी संख्या में गांव एवं किसान बीमा भुगतान से वंचित हैं जो लगातार प्रशासन से गुहार लगा रहे हैं। बुरी तरह से सूखा प्रभावित गांवों को भी फसल कटाई प्रयोग के आकड़ों का हवाला देकर प्रशासन एवं बीमा कंपनी क्षति पूर्ति राशि देने से मना कर रहे हैं। बल्कि जिला कार्यालय में इस हेतु जो सेल स्थापित किया गया है वह प्रमुख रूप से वंचित किसानों को यही समझाने के लिए स्थापित किया गया प्रतीत होता है।

किसान संघ का कहना है कि पूर्व की तरह इस बार भी मुख्यमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र में किसान भारी संख्या में बीमा से वंचित हैं। ढाबा सोसायटी के चिखली, नंदई, लखोली, खैरा, रवेली, कन्हारपुरी, मोहड़, जंगलेसर, सिंगदई, मोहारा वहीं सुरगी सोसायटी के 12 गांवों, सिंघोला सोसायटी के अधिकांश गांव के किसान बीमा भुगतान से वंचित हैं जबकि सुरगी स्वयं मुख्यमंत्री का गोदग्राम भी है। वहीं खरीफ 2015 का 15 गांवों का भुगतान भी बांकी है जिसके लिए किसान अभी भी संघर्षरत है इसका प्रभाव आने वाले विधान सभा चुनाव में निश्चित रूप से देखने को मिलेगा।

शासन-प्रशासन को दिया गया पर्याप्त समय
जिला किसान संघ ने कहा है कि शासन-प्रशासन को पूरा मौका दिया जा चुका है। कलक्ट्रेट में तालाबंदी की चेतावनी के बाद बीमा-भुगतान शुरू किया जाता है। उसमें भी बड़ी संख्या में किसानों को छोड़ दिया जाता है और बहुतों को नाममात्र का भुगतान किया जाता है। सभी प्रभावित किसानों को एक सप्ताह में न्यायपूर्वक बीमा भुगतान करने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया जा चुका है। फिर भी समस्या यथावत है। अब और समय नहीं दिया जा सकता। अब किसानों को आंदोलन के लिए कमर कसने की आवश्यकता है। आंदोलन की रणनीति तैयार की गई है। 6 अगस्त को संवाद सभा का आयोजन जिला कार्यालय के सामने किया जाएगा जिसमें जिला प्रशासन, सहकारी बैंक एवं बीमा कम्पनी को आमंत्रित किया जाएगा एवं समाधान मांगा जाएगा।

30 को ऐलान
छूटे गांवों के किसान प्रतिनिधि एवं नाम-मात्र भुगतान पाये गांवों के प्रतिनिधि 30 जुलाई को आंदोलन का सामुहिक ऐलान पे्रस वार्ता कर करेंगे। खरीफ 2015 राजनांदगांव विधानसभा के छूटे 15 गांवों के प्रतिनिधि भी इसमें शामिल होंगे। प्रत्येक गांवों से दो प्रतिनिधि अवश्य शामिल होंगे। बीमा से वंचित किसानों को आगे आकर आंदोलन से जुडऩे की अपील किसान संघ ने की है। हेल्प लाईन नंबर 9981354641 सुदेश टीकम एवं 9179562936 चन्दू साहू से सम्पर्क करने की अपील की गई है। समाधान नहीं निकलने की स्थिति में सभा में रेल रोको आंदोलन का प्रस्ताव लाया जाएगा।

Show More
चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned