प्लाईवुड कारोबारी के पुराने कर्मचारी ने ही डलवाई थी 50 लाख की डकैती, 24 घंटे के भीतर पांच आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार

देवेंद्र नगर में प्लाईवुड कारोबारी के घर 50 लाख की डकैती के पीछे उसके पुराने कर्मचारी का ही हाथ था। उसने अपने गांव के पांच लोगों से डकैती कराई थी। पैसा लूटकर भागते समय पांचों आरोपियों को रायपुर पुलिस ने 24 घंटे के भीतर दिल्ली पहुंचने से पहले ट्रेन में ही धरदबोचा।

रायपुर.

देवेंद्र नगर में प्लाईवुड कारोबारी के घर 50 लाख की डकैती के पीछे उसके पुराने कर्मचारी का ही हाथ था। उसने अपने गांव के पांच लोगों से डकैती कराई थी। पैसा लूटकर भागते समय पांचों आरोपियों को रायपुर पुलिस ने 24 घंटे के भीतर दिल्ली पहुंचने से पहले ट्रेन में ही धरदबोचा। आरोपियों के पास से डकैती की पूरी राशि बरामद कर ली है। दूसरी ओर कारोबारी ने अब तक 50 लाख रुपए से संबंधित वैध दस्तावेज पुलिस के सामने पेश नहीं किए हैं, जिससे मामला हवाला कारोबार से जुड़े होने की आशंका है। दूसरी ओर पुलिस ने भी इनकम टैक्स विभाग को इसकी जानकारी नहीं दी है।
मामले का खुलासा करते हुए एसएसपी आरिफ शेख ने बताया कि शिक्षित कॉम्पलेक्स की पांचवीं मंजिल के फ्लैट नंबर 505 में रहने वाले बबलू शर्मा का प्लाईवुड का कारोबार है। गुरुवार की रात पांच लुटेरे उनके कलेक्शन एजेंट बजरंग शर्मा और रामरतन शर्मा को कट्टा दिखाकर उनके लॉकर में रखे 50 लाख रुपए लूटकर भाग निकले थे। इसकी सूचना पर पुलिस आरोपियों की तलाश में लगी थी। जांच के दौरान आईटीएमएस के तहत लगे सीसीटीवी कैमरों से संदिग्ध ऑटो और उसमें सवार पांच युवकों का पता चला। घटना के बाद आरोपी गीतांजलि एक्सप्रेस से दिल्ली के लिए रवाना हो गए थे। पुलिस की टीम भी उनके पीछे लग गई और दिल्ली पहुंचने से पहले 30 किमी पहले ट्रेन में सवार हो गए। इसके बाद एक-एक डिब्बे को खंगालते हुए पांचों लुटेरे अशोक जाखड़, प्रेम जाट, जयकिशन गोदारा, गणेश जाट और भवर चौधरी को पकड़ लिया। उनके पास से 49 लाख 10 हजार रुपए बरामद कर लिया गया। साथ ही वारदात में इस्तेमाल कट्टा भी बरामद कर लिया गया है। सभी को गिरफ्तार कर शनिवार देर शाम पुलिस की टीम रायपुर पहुंची। आरोपियों को पकडऩे वाली टीम को डीजीपी ने 1 लाख रुपए का इनाम दिया है। इसके साथ ही आईजी की ओर से 30 और एसएसपी की ओर से 10 हजार रुपए अतिरिक्त है।

पुराने कर्मचारी की साजिश
घटना में कारोबारी बबलू के साथ काम करने वाले मेलाराम की अहम भूमिका है। करीब दो साल पहले मेलाराम ने काम छोड़ दिया था। उसे बबलू और एजेंटों द्वारा रोज लाखों रुपए का लेन-देन करने और लॉकर में रखने की जानकारी थी। पुलिस का दावा है कि मेलाराम ने ही साजिश रची और पांच आरोपियों को बबलू के घर भेजा और डकैती डलवाई। बबलू करीब दस दिन से अपने गांव गया है। कारोबारी और पकड़े गए आरोपी व मेलाराम सभी एक ही गांव के रहने वाले हैं।

कारोबार का पता नहीं चला
बबलू शर्मा के कारोबार के बारे में पुलिस को अभी तक पूरी जानकारी नहीं हो पाई है। बबलू को पुलिस प्लाईवुड कारोबारी बता रही है, लेकिन कंपनी या दुकान के नाम का अब तक खुलासा नहीं किया। दूसरी ओर 50 लाख रुपए कहां से लाए थे? इसके संबंध में पुलिस को जानकारी नहीं हो पाई है।

दस के नोट से चलता है हवाला कारोबार
लूट की राशि के साथ ही लुटेरों के पास से दस-दस रुपए के कुछ नोट भी मिले हैं। उल्लेखनीय है कि हवाला का पैसा एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने के लिए कोड वर्ड के लिए दस रुपए के नोट का इस्तेमाल किया जाता है।

दो दिन की थी रेकी
पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने डकैती से पहले दो दिन तक फ्लैट के आसपास रेकी की और किराए का फ्लैट लेने के बहाने कॉम्लेक्स में घुसे थे। पुलिस के मुताबिक आरोपियों का बीकानेर में अपराधिक रेकार्ड है।

narad yogi Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned