इस जलाशय में चलेगा दो करोड़ का विदेशी क्रूज, कृत्रिम बीच भी बनेगा

छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले के बांगो जलाशय को प्रदेश का नंबर वन पर्यटन स्थल बनाने की कवायद शुरू हो गई है। इसके लिए छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल और जिला प्रशासन को जिम्मा दिया गया है। जलाशय में छोटे-छोटे कई द्वीपों को विकसित करने जल्द सर्वे किया जाएगा।

रायपुर. प्रदेश सरकार पहली बार पर्यटन के लिहाज से क्रूज खरीदने की तैयारी कर रही है। यह क्रूज कोरबा के बांगो जलाशय में चलाया जाएगा। इसे विदेश से खरीदा जाएगा। इसकी अनुमानित लागत करीब दो करोड़ आंकी गई है। छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल को उम्मीद है कि इससे सतरेंगा और बांगो क्षेत्र मेंं पर्यटन गतिविधियों में तेजी आएगी।
योजना है कि इस क्रूज के जरिए पर्यटक हसदेव नदी के बैक-वॉटर का मजा ले सकेंगे। बांध के बीचों-बीच छोटे-छोटे द्वीपों की सैर कर सकेंगे। द्वीपों में रिसोर्ट बनाए जाएंगे। जहां पर्यटकों के ठहरने से लेकर खान-पान की सभी सुविधाएं रहेगीं। इन द्वीपों के आस-पास रेत ले-जाकर कृत्रिम बीच बनाने की परिकल्पना पर भी काम चल रहा है। पर्यटन के जरिए देश-विदेश के पर्यटकों को छत्तीसगढ़ के प्रति लुभाने की यह बड़ी कवायद है, जिसकी निगरानी मुख्य सचिव आरपी मंडल खुद कर रहे हैं। मुख्य सचिव शनिवार को पर्यटन सचिव के साथ बांगो पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने पर्यटन सुविधाओं के विस्तार के बारे में अफसरों को दिशा निर्देश दिए थे। स्थानीय प्रशासन का कहना है कि जल भराव क्षेत्र के बीच स्थित द्वीपों पर कॉटेज-रिसॉर्ट बनाने के लिए सर्वे का काम जल्द शुरू होगा।

परियोजना में किसकी क्या भूमिका
छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल- कोरबा जिले के सतरेंगा पर्यटन केंद्र को विकसित करना और स्थानीय समिति को साधन-संसाधन मुहैया करवाना। इसके साथ-साथ क्रूज खरीदकर देना। राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसका व्यापक प्रचार-प्रसार करना।
जिला प्रशासन- बैकवाटर क्षेत्र में छोटे-बड़े द्वीपों और हसदेव नदी की जलराशि को स्थानीय लोगों के रोजगार का साधन बनाने के लिए मॉडर्न टूरिÓम स्पॉट के रूप में विकसित करने की कार्य-योजना तैयार करना।
स्थानीय समिति- पर्यटन केंद्र और क्रूज का संचालन करना होगा। इसमें स्थानीय लोगों को ही रोजगार मुहैया करवाया जाएगा। स्थानीय गाइड भी तैयार किए जाएंगे। छत्तीसगढ़ व्यंजन, फास्ट फूड, चाइनीज फूड के काउंटर खोले जाएंगे।

37 किमी की सड़क के लिए 29.80 करोड़ स्वीकृत
जिले में बालको से सतरेंगा होकर गढ़उपरोड़ा तक की नई सड़क बनाने का प्रस्ताव स्वीकृत हो गया है। तीस करोड़ रुपए की लागत से सड़क का काम अगले दो महीने में शुरू हो जाएगा। इसे सतरेंगा पर्यटन केंद्र को विकसित करने की दिशा में पहला कदम माना जा रहा है। 29 करोड़ 80 लाख रुपए की लागत से &7 किलोमीटर सड़क बननी है। पहले इसकी चौड़ाई पौने चार मीटर थी, अब साढ़े पांच मीटर कर दिया गया है। सड़क पर कोसम नाला में नया पुल भी बनेगा। इस नई सड़क से गढ़उपरोड़ा से होकर सतरेंगा सीधा अंबिकापुर से जुड़ जाएगा।

इफ्फत आरा, प्रबंध संचालक, छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल ने बताया कि बांगो जलाशय में क्रूज चलाने की योजना पर काम चल रहा है। काफी चीजें अंतिम दौर में हैं, जल्द निविदा जारी की जाएगी। यह प्रोजेक्ट स्थानीय स्तर पर ही संचालित होगा।

Dhal Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned