हल्दी से बाघ-तेंदुए को हेल्दी बना रहा वन विभाग, बीमारियों को देखते हुए अपनाया पुराना पैटर्न

संक्रमण का कारण बाड़े में कीचड़ और गंदगी माना जा रहा था। पूरे मामले में वनमंत्री ने जांच के निर्देश दिए थे और दोषियों पर कार्रवाई करने की बात भी कही थी। कोरोना काल की वजह से यह जांच रिपोर्ट अटकी हुई है। इन सब घटनाओं के बाद प्रबंधन सतर्क हो गया है।

By: Karunakant Chaubey

Updated: 25 Aug 2020, 11:55 AM IST

रायपुर. कोरोना संक्रमण और मौसमी बीमारी को देखते हुए जंगल सफारी प्रबंधन ने खास जतन किए है। मांसाहारी वन्य प्राणियों के खाने और बाड़े के अंदर हल्दी का छिडकाव किया जा रहा है। दरअसल हल्दी एंटीबायोटिक का काम करती है। वहीं बाहर ब्लीचिंग पाउडर डाला जा रहा है। यह व्यवस्था रोज की है। कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए खास सतर्कता बरती जा रही है।

बेहतर स्वास्थ्य के लिए स्वच्छता जरूरी

जंगल सफारी प्रबंधन से मिली जानकारी के अनुसार वन्यप्राणियों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए बाड़े की स्वच्छता जरूरी है। यही वजह है कि जू प्रबंधन स्वास्थ्य व सुरक्षा को लेकर बेहद गंभीर है। जू कीपर हर रोज एक से डेढ़ घंटे का समय सफाई में दे रहे हैं। वहीं हर तीन महीने में मिट्टी में चूना, ब्लीचिंग, कीटाणु नाशक दवाओं का प्रयोग कर जू और वन्य प्राणियों के बाड़े के चारों ओर बचाव छिड़काव किया जाता है। साथ ही आहार की जांच भी नियमित हो रही है। खासकर बासी आहार को लेकर भी विशेष सावधानी बरतने के लिए कहा गया है।

संक्रमण से हो चुकी है मौत

पिछले साल संक्रमण की वजह से जंगल सफारी में शेर निर्भय और शावक गुमा की मौत हो चुकी है। इन मांसाहारी वन्य प्राणियों की मौत के बाद सफारी प्रबंधन संक्रमण को लेकर बेहद सतर्क हो गया है। संक्रमण का कारण बाड़े में कीचड़ और गंदगी माना जा रहा था। पूरे मामले में वनमंत्री ने जांच के निर्देश दिए थे और दोषियों पर कार्रवाई करने की बात भी कही थी। कोरोना काल की वजह से यह जांच रिपोर्ट अटकी हुई है। इन सब घटनाओं के बाद प्रबंधन सतर्क हो गया है।

मौसमी बीमारी के खतरे को देखते हुए जंगल सफारी में वन्यप्राणियों की खास देखभाल की जा रही है। मांसाहारी वन्य प्राणियों के खाने में हल्दी पाउडर और बाड़े के बाहर ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव किया जा रहा है। इससे कीटाणु नहीं पनपते और बीमारियां भी दूर रहती हैं।

-एम.मर्सीबेला, डायरेक्टर

जंगल सफारी

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned