नौकरी का झांसा देकर बेरोजगारों के दस्तावेजों से फाइनेंस कराया मोबाइल और टीवी लेकर हो गए फरार आरोपी

फर्जी कंपनी शुरू करके ऑनलाइन जॉब देने के नाम पर बेरोजगारों से लाखों रुपए की ठगी की गई

By: Deepak Sahu

Published: 03 Mar 2019, 09:59 AM IST

रायपुर. फर्जी कंपनी शुरू करके ऑनलाइन जॉब देने के नाम पर बेरोजगारों से लाखों रुपए की ठगी की गई। शिकायत के बाद पुलिस ने मामले में शामिल दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों ने बेरोजगारों को ऑनलाइन जॉब दिलाने का झांसा देकर रजिस्ट्रेशन फीस लिया। इसके बाद उनके दस्तावेजों से मोबाइल व फाइनेंस कराया और रख लिया। किसी को मोबाइल और टीवी नहीं दिया। इसके बाद ऑफिस बंद करके भाग निकले।

पुलिस के मुताबिक रविशंकर देवांगन और राजू वर्मा ने सालासर अपार्टमेंट के ऊपर ऑल इन वन के नाम से मार्केटिंग कंपनी शुरू की। इसके बाद बेरोजगारों को ऑनलाइन जॉब दिलाने का विज्ञापन जारी किया। विज्ञापन पढकऱ बड़ी संख्या में युवक-युवतियां उसके ऑफिस पहुंचे। आरोपियों ने बेरोजगारों से 500-500 रुपए रजिस्ट्रेशन फीस के रूप में जमा करवाया। इसके बाद ऑनलाइन जॉब के लिए मोबाइल और टीवी कंपनी की ओर से फायनेंस किया जाएगा।

 

फायनेंस कर्मचारियों के नाम से होगा। दोनों के झांसे में आकर महेश कुमार शुक्ला, हरीशंकर निषाद, क्षीरसागर साहू, मेहुल राठौर, शिवमंगल सिंह, अविनाश साहू, प्रेमलाल साहू, विनोद गौतम, पवन निषाद ने अपने-अपने आईडी प्रूफ जमा किया और मोबाइल व टीवी फायनेंस करा लिया। सभी के नाम से अलग-अलग कंपनियों से मोबाइल व टीवी फायनेंस हो गया, जिसे रविशंकर और राजू ने अपने पास रख लिए। कर्मचारियों से कहा कि कुछ दिन बाद कंपनी सामान देगी। कुछ दिनों बाद कर्मचारियों के खाते से फायनेंस की किस्त कटने लगी।

इसकी जानकारी कर्मचारियों ने दोनों को दी और कहा कि मोबाइल व टीवी नहीं मिला और किस्त कटने लगा है। इस पर आरोपियों ने कहा कि किस्त की राशि कंपनी बाद में दे देगी। इसके कुछ दिन बाद आरोपी ऑफिस बंद करके भाग निकले। आरोपियों ने कर्मचारियों की तनख्वाह भी नहीं दी।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned