1 मार्च से आम लोगों के लिए मुफ्त टीकाकरण, निजी अस्पतालों में प्रति डोज 250 रुपए में लगेंगे वैक्सीन

निजी अस्पतालों में 250 रुपए प्रति डोज शुल्क निर्धारित कर दिया है। पहला डोज 250 रुपए उसके बाद 28 दिन बाद लगने वाले दूसरे डोज की कीमत भी 250 रुपए ही होगी।

By: bhemendra yadav

Published: 27 Feb 2021, 11:52 PM IST

रायपुर. राजधानी में 1 मार्च से आम लोगों के लिए भी मुफ्त टीकाकरण शुरू किया जा रहा है। इसके लिए पहले चरण में आयुर्वेद कालेज अस्पताल और आरोग्य अस्पताल (शंकरनगर) को चुना गया है। जिन्हें टीके लगने हैं, उन्हें दो वर्गों में बांटा गया है। पहला वर्ग 45 साल या अधिक उम्र के ऐसे लोगों का है, जिन्हें कोई गंभीर बीमारी हो। दूसरा वर्ग सीनियर सिटीजन यानी 60 साल या उससे अधिक के लोगों का है।

दोनों ही सेंटरों में शासन से मान्य पहचान-पत्र ले जाने पर टीका लगाने के लिए मौके पर ही रजिस्ट्रेशन कर दिया जाएगा। इसके लिए किसी भी एप को डाउनलोड करने की जरूरत नहीं होगी। जिन आम लोगों को पहले कोरोना टीके मुफ्त लगने हैं, उनके बारे में केंद्र सरकार पहली ही गाइडलाइन जारी कर चुकी है। उसी आधार पर शुक्रवार को राजधानी के दो सेंटर तय किए गए।

निजी अस्पतालों में प्रति डोज 250 रुपए में लगेंगे टीके
प्रदेश सरकार ने निजी अस्पतालों में बनने वाले टीकाकरण केंद्रों में वैक्सीन लगवाने का भी विकल्प दिया है। इसके लिए 250 रुपए प्रति डोज शुल्क निर्धारित कर दिया है। पहला डोज 250 रुपए उसके बाद 28 दिन बाद लगने वाले दूसरे डोज की कीमत भी 250 रुपए ही होगी। स्पष्ट है कि लोग अपने सुविधा के आधार पर टीकाकरण केंद्रों का चयन कर टीका लगवा सकते हैं।

दूसरे चरण में 2.57 लाख डोज दिए जाएंगे
इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से कोवीशील्ड के 22 कार्टून की बड़ी खेप शुक्रवार को रायपुर पहुंची। केंद्र की ओर से भेजी गई इस खेप से 2.57 लाख डोज दिए जाएंगे। इस वैक्सीन का उपयोग दूसरे चरण के टीकाकरण के लिए किया जाएगा। इसके अलावा बुजुर्गों को भी यही वैक्सीन लगाई जाएगी।

राजधानी में हेल्थ और फ्रंटलाइन कोरोना वारियर्स के लिए मेडिकल कालेज समेत 7 जगह कोरोना टीके लगाए जा रहे हैं। पहली डोज लगभग सभी सेंटरों में कंप्लीट हो गई है और दूसरी डोज चालू है। लेकिन इन सेंटरों में आम लोगों को टीके नहीं लगेंगे। लोगों के लिए तय किए गए दोनों सेंटरों में फ्रंटलाइन वारियर्स को टीके नहीं लगाए जाएंगे।

वैक्सीनेशन सेंटर बढ़ाए जाएंगे
हर सेंटर में रोज 100-100 वैक्सीन लगेंगी। वैक्सीन लगाने के बाद यहां भी आधा घंटे तक आब्जर्वेशन की व्यवस्था की जा रही है। अभी जिले में दो अस्पताल चुने गए हैं। बाद में वैक्सीनेशन सेंटर बढ़ाए जा सकते हैं।

पहचान-पत्र साथ में ले जाना जरुरी
दोनों ही वर्ग के लोगों को ऐसा पहचानपत्र ले जाना होगा, जो शासन से मान्य हो। सीएमएचओ डा. मीरा बघेल के अनुसार आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट, बैंक पासबुक, शासन का मजदूर कार्ड, फोटो वाला राशन कार्ड समेत 12 पहचान-पत्र तय किए गए हैं। काउंटर पर दिखाने पर संबंधित व्यक्ति का वहीं पंजीयन हो जाएगा। पंजीयन के बाद संबंधित व्यक्ति 21 को क्रम बताया जाएगा, अर्थात कितने लोगों के बाद उन्हें टीका लगना है। अगर वह व्यक्ति सेंटर में ही इंतजार करना चाहे, तो उसके लिए वहीं इंतजाम किए जा रहे हैं। या चाहें तो ऐसे लोग निर्धारित समय पर पहुंच भी सकते हैं। लेकिन अगर उनका नंबर जंप हो गया, तो फिर उन्हें टीका आखिरी में ही लगाया जाएगा।

bhemendra yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned