scriptgawo me logo ko kam nhi mil rha, kheti ke kem khatm | प्रशासन की उदासीनता से जिले में नहीं रुक रहा मजदूरों का पलायन | Patrika News

प्रशासन की उदासीनता से जिले में नहीं रुक रहा मजदूरों का पलायन

खेती-किसानी के काम खत्म होने से गांवों में नहीं मिल रहा रोजगार

रायपुर

Published: December 29, 2021 05:20:01 pm

बलौदाबाजार। पूरे देश समेत प्रदेश में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के केस लगातार बढऩे से जिला प्रशासन एक ओर टीकाकरण तथा टेस्टिंग पर जोर दे रहा है, वहीं दूसरी ओर जिले से लगातार हो रहे मजदूरों के पलायन रोक नहीं पा रहा है। कोरोनाकाल में यह स्थिति बेहद चिंतनीय है। जिले में तेजी से हो रहे पलायन से अब दर्जनों ग्रामों की तस्वीर बदलती जा रही है। ग्रामों के दर्जनों घरों में अब ताला लटका नजर आ रहा है। बचे ग्रामीणों का एक ही जवाब है कि ‘जिए -खाए ले गे हे’। यानी फलां व्यक्ति परिवार समेत जीने-खाने (जीवन यापन) के लिए गया है। पलायन की यही स्थिति रही तो आने वाले दिनों में टीकाकरण से लेकर कोरोना को नियंत्रित करने की अन्य योजनाएं धरी की धरी रह जाएंगी।
जिले में रबी फसलों का अपेक्षाकृत कम रकबा होने तथा साधन सम्पन्न किसानों द्वारा ही रबी फसलों का उत्पादन लिए जाने के चलते ग्रामीण इलाकों से लोग कृषि कार्यों से भी निवृत्त हो गए हैं, जिसके चलते पलायन ने ग्रामों की पूरी तस्वीर बदल कर रख दी है। अधिकांश ग्रामों से बड़ी संख्या में स्त्री, पुरुष तथा बच्चे जीवन यापन करने के लिए जा चुके हैं। जिसके चलते घरों में या तो बुजुर्गों के साथ इक्का-दुक्का बच्चे ही बचे हैं या घर में ताला लटका हुआ नजर आ रहा है। जिले के सुदूरवर्ती इलाकों से लेकर जिला मुख्यालय के आसपास के ग्रामों का यही हाल है। जहां खुले घरों से ज्यादा ताला लटके घर पलायन का दर्द बयां कर रहे हैं।
घरों में लटक रहा ताला
जिला मुख्यालय से महज छह-सात किमी दूर ग्राम पंचायत दशरमा का जब निरीक्षण किया गया तो जिला मुख्यालय के समीप का ही गांव पलायन का गवाह नजर आया। यहां यह बताना लाजमी है कि वर्ष 200-.06 में ग्राम पंचायत दशरमा को निर्मल ग्राम के रूप में सौ प्रतिशत शौचालय निर्माण करने के लिए तात्कालीन राष्ट्रपति के द्वारा पुरूस्कृत भी किया जा चुका है। बावजूद इसके ग्राम से पलायन को रोक पाने में प्रशासन विफल रहा है। ग्राम के वार्ड 1 रिसदा रोड स्थित रामायण पैंकरा, समारू पैंकरा, परदेशी पैंकरा के घरों में ताला लटका हुआ नजर आया। पता करने पर ग्राम के अन्य लोगों ने बताया कि सभी जीवन यापन करने चले गए हैं। इसी प्रकार ग्राम के सरजू यादव, थानू राम यादव जैसे दर्जनों ग्रामीणों के घरों में ताले लटके नजर आ रहे हैं तथा घर के पिछवाड़े के हिस्से को कांटा लगाकर बंद कर दिया गया है। जिला मुख्यालय के समीप के ग्राम की स्थिति को देखकर जिले के सुदूरवर्ती इलाकों से हो रहे पलायन को आसानी से समझा जा सकता है।
प्रशासन की उदासीनता से जिले में नहीं रुक रहा मजदूरों का पलायन
प्रशासन की उदासीनता से जिले में नहीं रुक रहा मजदूरों का पलायन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

भाजपा की दर्जनभर सीटें पुत्र मोह-पत्नी मोह में फंसीं, पार्टी के बड़े नेताओं को सूझ नहीं रह कोई रास्ताविराट कोहली ने छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, भावुक मन से बोली ये बातAssembly Election 2022: चुनाव आयोग ने रैली और रोड शो पर लगी रोक आगे बढ़ाई,अब 22 जनवरी तक करना होगा डिजिटल प्रचारभारतीय कार बाजार में इन फीचर के बिना नहीं बिकेगी कोई भी नई गाड़ी, सरकार ने लागू किए नए नियमUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावमौसम विभाग का इन 16 जिलों में घने कोहरे और 23 जिलों में शीतलहर का अलर्ट, जबरदस्त गलन से ठिठुरा यूपीBank Holidays in January: जनवरी में आने वाले 15 दिनों में 7 दिन बंद रहेंगे बैंक, देखिए पूरी लिस्टUP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्य
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.