विदेश से लौटी लड़की ने आईएएस अफसर की बेटी के साथ की पार्टी, कई दिनों तक घूमती रही शहर में

आखिर हम कैसे हो सकते हैं इतने गैरजिम्मेदार, करीबियों की जान जोखिम में हरकत में पूरा स्वास्थ्य विभाग, हर किसी को किया जा रहा ट्रेस

रायपुर. कोरोना वायरस की जिस चैन को ब्रेक करने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाथ जोड़कर देश के लोगों से विनती की। 21 दिनों तक घरों से न निकलने का आव्हान किया। लॉक-डाउन करवाया। वह चैन विदेश से लौटने वाले कुछ पढ़े-लिखे लोग ब्रेक कर रहे हैं।
बुधवार को ओसीएम चौक, रायपुर (महापौर बंगले के पास) निवासी जिस लड़की का सैंपल पॉजिटिव आया है, उसने 10 परिवारों के लोगों की जान को जोखिम में डाल दिया है। इससे और लोगों में भी वायरस फैलने का खतरा है। पत्रिका को स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ उच्च अधिकारी ने बताया कि पॉजिटिव लड़की ने अपनी चार सहेलियों के साथ आउटिंग पार्टी की थी। इसमें एक आईएएस अधिकारी की बेटी भी शामिल है। इन विदेश में पढऩे वालों की जानबूझकर बरती गई लापरवाही ने पूरे प्रदेश को खतरे में डाल दिया है। सूत्र यह भी बताते हैं कि लड़की ने होम आईसोलेशन के नियमों का पालन नहीं किया। मॉस्क का इस्तेमल किए बिना सबके साथ रही।

ऐसी है इस केस की पूरी चैन
पड़ताल में सामने आया कि युवती 17 को लंदन से मुंबई होते हुए रायपुर पहुंची थी। एयरपोर्ट में हुई जांच में कोई लक्षण नहीं थे, लेकिन डॉक्टरों ने कहा था कि 14 दिन होम आईसोलेशन में रहो। 22 को उसे सर्दी-जुखाम की शिकायत हुई। एम्स में जांच करवाई और 23 को सैंपलिंग हुई। 25 को डॉक्टर ने कहा दिया पॉजिटिव है।

एेसे आई लोगों के संपर्क में


अपना परिवार- अपने परिवार में रहने वाले पांच सदस्यों। माता, पिता, बुआ, भाई और एक अन्य सदस्य।
चार बाईयां- घर में काम करने वाले चार बाईयां, जो रोजाना घर आ रही थीं। इन चारों का परिवार, और ये जहां-जहां काम करने गई होंगी वे परिवार। इन चारों को क्वारंटाइन में भेज दिया गया है।
चार सहेलियां और उनका परिवार- लड़की चार सहेलियों के साथ दो बार घर से बाहर जाकर पार्टी मनाई थी। ये लड़कियां अपने माता-पिता और परिजनों के संपर्क में हैं।
ड्राइवर- बागबहारा में रहना वाला ड्राइवर लड़की को बाहर ले गया था। वो गांव जा चुका है। उसका परिवार और न जाने ड्राइवर कितनों के संपर्क में आया होगा। उसे ढूंढ़ लिया गया है। गुरुवार को सैंपलिंग होगी।
आप अगर इस लड़की के संपर्क में थे तो जांच करवाएं- अगर आप इस लड़की के संपर्क में आए हैं तो तत्काल स्वास्थ्य विभाग को सूचना दें और अपनी जांच करवाएं। कोशिश करें कि मॉस्क लगाकर घरों में रहें।
रेस्क्यू टीम को दिखाया रौब- रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जब स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची, तो लड़की रौब दिखाते हुए उनसे उलझ गई। उसका कहना था कि मुझे कुछ नहीं हुआ है। बड़ी समझाईश के बाद एम्स में जाने के लिए राजी हुई।
स्वास्थ्य विभाग की भी बड़ी लापरवाही- विदेश से लौटने वालों को स्वास्थ्य विभाग होम आईसोलेशन में रहने की सलाह देती है। मगर, लोग रह रहे हैं कि नहीं, इसका कोई फॉलोअप नहीं किया जा रहा है।

कोरोना कैरिय बनकर घूम रहे हैं लोग
स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव का कहना है, प्रदेश और देश में हजारों ऐसे लोग हैं जो जिन्हें कोरोना ने अपना कैरियर (वाहक) बना लिया है और ये खुलआम घूम रहे हैं। इन्हें पकडऩा और ढूंढना इसलिए भी तत्काल मुश्किल हो रहा है क्योंकि इनमें शुरुआती लक्षण दिखाई नहीं दे रहे हैं। विदेश से लौटने वाले इन लोगों को होम क्वारंटाइन में रहने के लिए कहा गया, लेकिन एेसे लग रहा है कि शायद ही किने-चुने लोग पालन कर रहे हैं।


पत्रिका अपील
अपने लिए न सही, कम से कम अपने माता-पिता, भाई-बहन, समाज, देश-प्रदेश के लिए तो सोचो। नहीं सोचोगे तो कोरोना को हराना बहुत मुश्किल होगा।


पत्रिका व्यू
ऐसे ही हजारों लोग हैं जो इसी गैर जिम्मेदाराना हरकतें कर रहे हैं। हद तो तब है जब खुद को सभ्य, पढ़ा-लिखा और समझदार मानने वाले परिजनों ने भी इन्हें नहीं रोका। वाह रहे लोग, जिन्हें भारत सरकार अपना नागरिक समझकर मुश्किल की घड़ी में भारत ला रही है। भारत आने को कह रही है, वे ही आज खतरा बन खड़े हुए हैं।

लड़की को एम्स में भर्ती करवा दिया गया है। विभाग ने विदेश से लौटने वालों की सूची तैयार कर ली है। हर एक से संपर्क करना शुरू कर दिया है। लड़की जिन भी लोगों के संपर्क में थी, सभी को ट्रेस कर लिया गया है।
डॉ. धमेंद्र गहवईं, राज्य नोडल अधिकारी, स्वास्थ्य विभाग

Devendra sahu Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned