खर्च कम करने सरकार बंद कर रही है आठ साल से चल रही वृद्धजनों की योजना, सचिव ने जारी किया आदेश

तकरीबन आठ साल पहले प्रदेश सरकार के द्वारा वृद्धजनों कें लिए डे-केयर सेंटर खोला था। यहां पर वरिष्ठ नागरिकों को मनोरंजन की सारी सुख सुविधा प्रदान करवाई गई थी। यहां बुजुर्गों के मनोरंजन के लिए कैरम, शतरंज, पठन पाठन के लिए पुस्तिकाएं आदि रखी गई है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 22 Jun 2020, 07:30 PM IST

रायपुर. वृद्धों के लिए बीते आठ साल पहले शुरू हुई बहुसेवा केंद्र योजना को अब सरकार बंद करने जा रही है। जिसका सीधा असर प्रदेश के दो हजार से ज्यादा वृद्धजनों पर पड़ेगा। योजना के लिए समाज कल्याण विभाग ने अलग जिलों में एनजीओ की मदद ली थी। प्रदेश सरकार ने 2 मार्च 2012 को बहु सेवा केंद्र संचालन शुरू किया था। प्रदेशभर में कुल २५ केंद्र संचालित किए जा रहे हैं।

जिस पर 1 करोड़ 46 लाख 97 हजार 280 रुपए समाज कल्याण विभाग द्वारा खर्च किए जा रहे थे। विभाग के सचिव ने 17 जून को आदेश जारी करके योजना 1 अगस्त से बंद करने का निर्देश दिया है। विभाग के सचिव ने अपने पत्र में 27 मई को जारी शासन आदेश हवाला देते हुए शासकीय व्यय में मितव्ययिता एवं वित्तीय अनुशासन के वित्त विभाग के पत्र का हवाला दिया है।

मिलती है यह सुविधा

तकरीबन आठ साल पहले प्रदेश सरकार के द्वारा वृद्धजनों कें लिए डे-केयर सेंटर खोला था। यहां पर वरिष्ठ नागरिकों को मनोरंजन की सारी सुख सुविधा प्रदान करवाई गई थी। यहां बुजुर्गों के मनोरंजन के लिए कैरम, शतरंज, पठन पाठन के लिए पुस्तिकाएं आदि रखी गई है। रीडिंग रूम, टीवी सभी आवश्यक चीजें उपलब्ध कराई जाती है। डे केयर सेंटर में कर वरिष्ठ नागरिक आराम से अपने तीन चार घंटे बिता कर अपने घर चले जाते थे। उन्हें यहां कुछ दवाएं और चाय नाश्ता उपलब्ध कराया जाता है।

यह लाभ

- वृद्ध जन जो जीवन अंतिम पड़ाव में खुद को अकेला महसूस करते हैं।
- बेसहारा बुजुर्गों के लिए एक मन बहलाने की जगह।

- आराम करने के लिए बेड व पौष्टिक नाश्ता उपलब्ध कराना।
- स्वास्थ का भी ख्याल रखना।

वित्त विभाग के पत्र के आधार पर 1 अगस्त से बहुसेवा केंद्र योजना बंद की जा रही है।

-आर प्रसंन्ना, सचिव, समाज कल्याण विभाग

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned