अधिकारी- कर्मियों की उपस्थिति के साथ आम जनता के लिए 14 से खुलेंगे सरकारी दफ्तर

सामान्य प्रशासन विभाग ने जारी किया आदेश, शत- प्रतिशत अधिकारी- कर्मियों की उपस्थिति के साथ आम जनता के लिए आवाजाही पर लगी रोक भी हटी .

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 12 Jun 2021, 02:55 PM IST

रायपुर . आम जनता के लिए राहत भरी खबर यह है कि अब 14 जून से मंत्रालय, संचालनालय और जिलों के सभी कार्यालयों में शतप्रतिशत अधिकारियों-कर्मचारियों की मौजूदगी में काम होगा। शासकीय दफ्तर में कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए आम जनता भी बिना रोकटोक के आना-जाना कर सकेगी। इससे आम जनता के पिछले दो-तीन महीने से अटके काम जल्दी और आसानी से हो सकेंगे। इस संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग ने आदेश जारी कर दिया है।

READ MORE : कलह दूर करने पत्नी ने घर बुलाया बैगा, पति ने गुस्से में आकर हथौड़े से पत्नी पर किया वार

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान मंत्रालय, संचालनालय और अन्य शासकीय विभागों में समय-समय पर कई पाबंदी लगा दी गई थी। मंत्रालय और संचालनालय में तो आम जनता के प्रवेश पर ही रोक लगा दी गई थी। पहले यहां एक तिहाई कर्मचारियों की मौजूदगी में काम हुआ। इसके लिए कर्मचारियों की ड्यूटी का रोस्टर बनाया गया था। इसके बाद जब रायपुर में लॉकडाउन लगा तो सभी शासकीय दफ्तरों को भी बंद कर दिया गया था। पिछले महीने संक्रमण की रफ्तार कम होने पर 50 प्रतिशत कर्मचारियों और अधिकारियों की शतप्रतिशत मौजूदगी में कामकाज शुरू किया था। अब शतप्रतिशत कर्मचारियों के साथ शासकीय दफ्तरों को शुरू किया जा रहा है।

READ MORE : छत्तीसगढ़ : अधिकारी- कर्मियों की 100 % उपस्थिति के साथ आम जनता के लिए 14 से खुलेंगे सरकारी दफ्तर

मास्क और सेनिटाइजर का उपयोग जरूरी
आदेश में अधिकारियों, कर्मचारियों और आम जनता को कोविड गाइडलाइन का सख्ती से पालन करने को कहा गया है। जारी आदेश के मुताबिक सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को कोविड-19 के संक्रमण के रोकथाम के लिए निर्धारित मापदंड जैसे मास्क लगाना, एक दूसरे से पर्याप्त दूरी बनाये रखना, सेनिटाइजर का उपयोग करना होगा।

READ MORE : 16 जून से नए नियम लागू होने के बाद भी बिना हॉलमार्किंग वाला सोना बेचने पर कोई रोक नहीं, जानें लेटेस्ट अपडेट

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned