भाजपा ने लगाया आरोप, आदिवासियों के प्रदर्शन को बताया सरकार प्रायोजित

अब प्रदेश सरकार को यह महसूस हो रहा है कि जेलों से उनको रिहा करना प्रदेश के लिए घातक हो सकता है। रिहाई की मांग को लेकर माओवादियों के दबाव से जूझती प्रदेश सरकार इन लोगों की रिहाई से जुड़ी तकनीकी दिक्कतों को लेकर हिचकिचा रही है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 16 Sep 2020, 04:05 PM IST

रायपुर. भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने बस्तर में आदिवासियों की रिहाई की मांग को लेकर हुए आदिवासियों के प्रदर्शन को प्रदेश सरकार और माओवादियों का प्रायोजित आंदोलन बताया है। उन्होंने कहा, सरकार इस मामले में दोहरे चरित्र का परिचय दे रही है।

भाजपा प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कहा, कांग्रेस ने चुनाव से पूर्व बस्तर में जिन आदिवासियों की रिहाई की बात कही थी, वे वास्तव में नक्सली तत्व हैं। अब प्रदेश सरकार को यह महसूस हो रहा है कि जेलों से उनको रिहा करना प्रदेश के लिए घातक हो सकता है। रिहाई की मांग को लेकर माओवादियों के दबाव से जूझती प्रदेश सरकार इन लोगों की रिहाई से जुड़ी तकनीकी दिक्कतों को लेकर हिचकिचा रही है।

खुद की परेशानी से बचने के लिए अब माओवादियों से अपनी मित्रता निभाती दिख रही है। झीरम घाटी के माओवादी हमले के सबूत पेश नहीं करके भी मुख्यमंत्री बघेल क्या कांग्रेस-माओवादियों की मित्रता निभा रहे हैं? संजय श्रीवास्तव ने कहा, प्रदेश सरकार साफ करे कि आदिवासियों के नाम पर हुआ यह प्रदर्शन माओवादियों का शक्ति प्रदर्शन नहीं है, ताकि प्रदेश सरकार इस प्रदर्शन की आड़ लेकर माओवादियों को रिहा कर दे।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned