छत्तीसगढ़ में महिलाओं पर अत्याचार को लेकर सरकार को घेरा

  • विधानसभा का बजट सत्र : भाजपा ने सदन में जमकर हंगामा मचाया
  • महिलाएं असहाय महसूस कर डर के साये में जी रहीं : भाजपा
  • संसदीय कार्यमंत्री बोले- एक विषय पर लगातार चर्चा नहीं कराई जा सकती

By: Anupam Rajvaidya

Published: 24 Feb 2021, 08:57 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ में महिलाओं के खिलाफ अपराध को लेकर मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी ने विधानसभा में कांग्रेस सरकार को घेरा और जमकर हंगामा मचाया। विधानसभा के बजट सत्र के तीसरे दिन बुधवार को भाजपा विधायकों शिवरतन शर्मा और अजय चंद्राकर ने महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचार का मामला उठाया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में महिलाओं के साथ अनाचार, छेड़छाड़ और तस्करी जैसी संगीन घटनाएं हो रही है जो बहुत ही शर्मनाक है।
ये भी पढ़ें...बढ़ते अपराध पर भाजपा बोली ठेके पर चल रहा छत्तीसगढ़ शासन
भाजपा सदस्यों ने कहा कि छत्तीसगढ़ की महिलाएं असहाय महसूस कर डर के साये में जी रही हैं। औसतन प्रतिदिन इस तरह की घटनाएं हो ही रही हैं जो बहुत ही निन्दनीय हैं और चिंतन का विषय है। राज्य में पिछले दो माह में ही कई सामूहिक बलात्कार और छेड़छाड़ की घटनाएं हो चुकी है। भाजपा विधायकों ने इस विषय पर काम रोककर चर्चा कराए जाने की मांग की। विपक्षी दल के विधायकों की मांग के बाद संसदीय कार्यमंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि विपक्ष ने मंगलवार को राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति का मामला उठाया था। एक विषय पर लगातार चर्चा नहीं कराई जा सकती है।
ये भी पढ़ें...सत्ता का कभी अहंकार न करें
मंत्री के विरोध के बाद शर्मा और चंद्राकर ने कहा कि भाजपा ने मंगलवार को राज्य में कानून व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति का मामला उठाया था। इसमें हत्या, हत्या का प्रयास, डकैती और अन्य अपराध शामिल है। लेकिन आज महिलाओं के खिलाफ अपराध का मामला उठाया जा रहा है। इस दौरान सदन में विपक्ष के नेता धरमलाल कौशिक और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने भी भाजपा विधायकों का साथ दिया और इस विषय पर चर्चा कराए जाने की मांग की। भाजपा के सदस्यों ने कहा कि राज्य में महिलाओं के साथ अपराध हो रहा है और राज्य सरकार इन घटनाओं पर कार्रवाई नहीं कर रही है।
ये भी पढ़ें...छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के रोजाना के मामलों में वृद्धि, नरेन्द्र मोदी सरकार की चेतावनी
विपक्षी दल के सदस्य जब इस विषय पर चर्चा कराए जाने की मांग कर रहे थे, तब अध्यक्ष देवव्रत सिंह ने विपक्ष के अनुरोध को अस्वीकार कर दिया। इसके बाद नाराज भाजपा के सदस्यों ने सदन में नारेबाजी शुरू कर दी। सदन में शोरगुल होता देख अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी।
ये भी पढ़ें...कोरोनाकाल में छत्तीसगढ़ में स्कूल खोलने का सीएम ने बताया यह बड़ा कारण

Bharatiya Janata Party BJP
Show More
Anupam Rajvaidya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned