scriptGovernor and govt face to face on the appointment of vice chancellors | छत्तीसगढ़ के विश्वविद्यालयों में स्थानीय कुलपति की नियुक्ति को लेकर राज्यपाल और सरकार आमने-सामने, जानें क्या है विवाद | Patrika News

छत्तीसगढ़ के विश्वविद्यालयों में स्थानीय कुलपति की नियुक्ति को लेकर राज्यपाल और सरकार आमने-सामने, जानें क्या है विवाद

छत्तीसगढ़ में स्थानीय कुलपतियों की नियुक्तियों को लेकर नया विवाद छिड़ा हुआ है। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में स्थानीय कुलपति की नियुक्ति को लेकर उठे विवाद के बीच राजभवन और सरकार आमने-सामने हो गए हैं। इसे लेकर राज्यपाल और मुख्यमंत्री के तीखे बयान सामने आए हैं।

रायपुर

Updated: February 21, 2022 06:43:52 pm

रायपुर. छत्तीसगढ़ में स्थानीय कुलपतियों की नियुक्तियों को लेकर नया विवाद छिड़ा हुआ है। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में स्थानीय कुलपति की नियुक्ति को लेकर उठे विवाद के बीच राजभवन और सरकार आमने-सामने हो गए हैं। इसे लेकर राज्यपाल और मुख्यमंत्री के तीखे बयान सामने आए हैं। इन सब के बीच खास बात यह है कि प्रदेश के अधिकांश विश्वविद्यालयों में स्थानीय कुलपतियों की नियुक्ति हुई है। इनमें से कुछ कुलपतियों की नियुक्ति तो पूर्ववर्ती सरकार के समय हुई है।
anusuiya_bhupesh.jpg
छत्तीसगढ़ के विश्वविद्यालयों में स्थानीय कुलपति की नियुक्ति को लेकर राज्यपाल और सरकार आमने-सामने, जानें क्या है विवाद
प्रदेश में 14 विश्वविद्यालयों में कुलपतियों की नियुक्ति का डाटा सामने आया है। इसमें पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. केएल वर्मा की नियुक्ति पूर्ववर्ती सरकार के समय हुई है। वे प्रदेश के ही मूल निवासी है। शहीद महेन्द्र कर्मा विश्वविद्यालय जगदलपुर में पदस्थ कुलपति की भी यही स्थिति है। यहां डॉ.एसके सिंह कुलपति है।
स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय भिलाई में एमके वर्मा को कुलपति के पद पर कार्यरत है। वे भी प्रदेश के ही निवासी है और इन्हें पुनर्नियुक्ति दी गई है। इनके अलावा इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ में पद्मश्री मोक्षदा चंद्राकर कुलपति के पद पर कार्यरत है। इनकी नियुक्ति कांग्रेस शासन काल में हुई है। वे भी स्थानीय है। हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग में स्थानीय डॉ. अरुणा पल्टा पदस्थ है। छत्तीसगढ़ आयुष विश्वविद्यालय और कामधेनु विश्वविद्यालय में पदस्थ कुलपति स्थानीय है और उनकी नियुक्ति वर्तमान सरकार ने की है।
बाहरी कुलपतियों को भी मिला मौका
प्रदेश के विश्वविद्यालयों में अन्य राज्यों के कुलपतियों को भी मौका मिला है। सबसे विवादित नियुक्ति कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय को लेकर रही। यहां बलदेव भाई शर्मा कुलपति नियुक्ति हुए है, जो अन्य राज्य से आते हैं। पंडित सुंदरलाल शर्मा मुक्त विवि में भी अन्य राज्य के डॉ. बंश गोपाल सिंह कुलपति है। संत गहिरा गुरु विश्वविद्यालय अंबिकापुर और अटल बिहारी बाजपेयी विश्वविद्यालय में नियुक्ति कुलपतियों का संबंध अन्य राज्यों से है। यही स्थिति महात्मा गांधी उद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय की है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.