सदन में इस सवाल पर पक्ष-विपक्ष में हुई तीखी नोकझोंक, कांग्रेस के 25 विधायक निलंबित

सदन में इस सवाल पर पक्ष-विपक्ष में हुई तीखी नोकझोंक, कांग्रेस के 25 विधायक निलंबित

Ashish Gupta | Publish: Feb, 15 2018 04:23:43 PM (IST) | Updated: Feb, 15 2018 04:40:03 PM (IST) Raipur, Chhattisgarh, India

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में विधानसभा परिसर में हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में तय हुआ कि नजरी आंकलन मिलने के बाद सभी को मुआवजा दिया जाएगा।

रायपुर . विधानसभा में गुरुवार को पिछले दिनों हुई बरसात और ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान का मामला उठा। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय ने कहा कि ओलावृष्टि की वजह से 23 हजार 14 हेक्टेयर में रबी फसल चौपट हो गई है। इससे करीब 20 हजार किसान प्रभावित हुए हैं। उन्होंने कहा कि कलेक्टरों को क्षति का आकलन करने के निर्देश दिए गए हैं। कलेक्टरों की रिपोर्ट आने के बाद राजस्व पुस्तक परिपत्र की धारा 6(4) के तहत उचित मुआवजा दिया जाएगा।

कांग्रेस विधायक भूपेश बघेल ने कहा, प्रदेश का एक बड़ा इलाका ओलावृष्टि से प्रभावित है। राजस्व पुस्तक परिपत्र का मुआवजा उंट के मुंह में जीरा के समान है। उन्होंने राहत के लिए एक पैकेज देने की मांग की। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में विधानसभा परिसर में हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में पिछले दो दिनों की बरसात और ओलावृष्टि की समीक्षा हुई। तय हुआ कि नजरी आंकलन मिलने के बाद सभी को मुआवजा दिया जाएगा।

सूखा राहत के सवाल पर बवाल, कांग्रेस के 25 विधायक निलंबित
कांग्रेस विधायक भूपेश बघेल, धनेंद्र साहू और सत्यनारायण शर्मा ने ध्यानाकर्षण के जरिए सूखा प्रभावित किसानों को मुआवजा नहीं देने का मामला उठाया। राजस्व मंत्री प्रेम प्रकाश पांडेय ने जवाब में कहा कि जिन किसानों का 33 फीसदी से ज्यादा फसल का नुकसान हुआ है, उन्हें मुआवजा दिया जा रहा है। राजस्व मंत्री का कहना था, 586 करोड 58 लाख रुपए की राशि सूखा प्रभावित जिलों को आवंटित की गई है। प्रेमप्रकाश पांडेय ने कहा कि 329 करोड़ 84 लाख रुपए की राशि वितरित की जा चुकी है। मनरेगा के तहत रोजगार दिया जा रहा है। सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि सूखे के बाद सरकार पलायन रोकने में नाकाम रही है।

राजस्व मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय ने कहा कि पलायन की कहीं कोई शिकायत नहीं है। जांजगीर-चांपा के जो लोग बाहर गए, वो पहले भी काम ? के लिए बाहर जाते रहे हैं। कांग्रेस विधायक भूपेश बघेल ने कहा कि कलेक्टर किसानों के मुआवजे के पैसे का ब्याज खा रहे हैं। प्रदेश में एक भी किसान को अभी सूखा राहत की राशि नहीं मिली है। जवाब में मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने कहा कई जिलों में वितरण का उदाहरण दिया।

उन्होंने यहां तक दावा किया कि अगर यह जानकारी गलत होगी तो जानकारी देने वाले अधिकारी पर कार्रवाई होगी। कांग्रेस विधायक गिरवर जंघेल ने क्षेत्र के गांवों का जिक्र करते हुए बताया कि उन गांवों में भारी फसल नुकसान के बावजूद किसानों को मुआवजा नहीं मिल पाया है। कई और कांग्रेस विधायकों ने अपने क्षेत्र में ऐसा ही होने की जानकारी दी। इसके कांग्रेस विधायक भूपेश बघेल ने पूछा कि सूखा राहत में कितना बजट है और कितना खर्च हुआ? मंत्री प्रेम प्रकाश पांडेय ने कहा कि जितनी राशि सूखे के लिए नियत है, वो खर्च होती है। मंत्री के जवाब से नाराज विपक्ष ने कार्यवाही से बहिर्गमन किया।

राजस्व मंत्री प्र्रेमप्रकाश पाण्डेय ने कहा, बहिर्गमन इन लोगों की आदत हो गई है। तुरंत ही लौटे कांग्रेस विधायकों ने मंत्री के व्यक्तव्य पर हंगामा कर दिया। नारे लगाते हुए सभी लोग गर्भगृह में आ गए। इनमें कांग्रेस से निलंबित विधायक आरके राय और सियराम कौशिक भी शामिल थे। विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्र्रवाल ने विपक्ष के 25 विधायकों को निलंबित किए जाने की घोषणा कर दी। निलंबन के बाद कांग्रेस विधायक विधानसभा परिसर स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास धरने पर बैठ गए। थोड़ी ही देर बाद अध्यक्ष ने विधायकों का निलंबन रद्द कर दिया।

10 सालों से प्रावधान कर भी दिव्यांगों को नहीं दी सब्सिडी
भाजपा विधायक देवजी भाई पटेल ने दिव्यांगजनों को स्वरोजगार के लिए मिले ऋण पर सब्सिडी नहीं मिलने का मामला उठाया। उन्होंने पूछा कि सब्सिडी की व्यवस्था कब से लागू है। जवाब में समाज कल्याण मंत्री रमशीला साहू ने बताया कि स्वरोजगार के लिए सब्सिडी की व्यवस्था 2007-8 से लागू है। हर साल बजट में इसके लिए 40 लाख रुपए की व्यवस्था रहती है।

देवजी भाई ने कहा, व्यवस्था होने के बावजूद यह सब्सिडी दिव्यांगों को मिलती नहीं है। प्रदेश में 2 लाख 77 हजार दिव्यांग हैं, उनके लिए सरकार प्रावधानों को भी लागू नहीं करा पा रही है। निर्दलीय विधायक विमल चोपड़ा ने महासमुंद में घटिया मोटराइज्ड ट्राइसिकिल देने के मामले में जांच की मांग की। विभागीय मंत्री ने कहा, कोई ट्राइसिकिल खराब हुई होगी तो उसे वापस कर नया दिया जाएगा।

धान खरीदी में गड़बड़ी, प्रभारी निलंबित
इससे पहले प्रश्नकाल में विधायक आरके राय ने बालोद जिले में धान खरीदी में अनियमितता का मामला उठाया। सहकारिता मंत्री दयालदास बघेल ने माना कि गड़बड़ी हुई है। मंत्री ने कहा कि धान उपार्जन केंद्र फरदफोड़ एवं सहकारी समिति मोखा के धान उपार्जन केंद्र में अनियमितता की शिकायत मिली है। फरदफोड़ उपार्जन केंद्र के खरीदी प्रभारी टेमन लाल सिन्हा को निलंबित किया गया है। दोनों समिति प्रबंधनों को नोटिस जारी किया गया है।

आम बजट पर चर्चा जारी
आम बजट पर गुरुवार को चर्चा की शुरुआत करते हुए भाजपा विधायक चुन्नीलाल साहू ने कहा, इस बजट में कृषि को आधुनिक बनाने का रास्ता बनाया गया है। किसान पुत्रों को आधुनिक कृषि शिक्षा से जोडऩे के लिए कृषि महाविद्यालयों और 100 हायर सेकंडरी स्कूलों में कृषि संकाय की व्यवस्था की गई है। इससे किसानों की आय बढ़ाने में मदद मिलेगी।

महासमुंद से निर्दलीय विधायक विमल चोपड़ा ने कहा, सरकार ने बजट में शराबबंदी के वादे पर कुछ नहीं कहा है। उनका कहना था, सरकार की नई शराब नीति की वजह से गांवों में नए तरह का अवैध शराब व्यवसाय पनपने लगा है। रिश्तों की हत्या होने लगी है। उन्होंने शराबबंदी लागू करने की मांग की। कांग्रेस विधायक सत्यनारायण शर्मा ने कहा, इस बजट में सिंचाई क्षमता बढ़ाने की ओर कोई ध्यान नहीं है। 17 वर्षों में 7 लाख 32 हजार हेक्टेयर सिंचाई क्षमता हुई है। सिंचाई का पैसा कहां खर्च हो रहा है। चर्चा जारी है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned