कंटेनमेंट जोन बन चुके कटघोरा से स्वास्थ्य विभाग ने लिया सबक, कोरोना को रोकने लिया बड़ा फैसला

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के कंटेनमेंट बन चुके कटघोरा से सबक लेते हुए स्वास्थ्य विभाग ने अब कोरोना नियंत्रण की नीति में एक और बदलाव किया है।

By: Ashish Gupta

Published: 18 Apr 2020, 06:12 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के कंटेनमेंट बन चुके कटघोरा से सबक लेते हुए स्वास्थ्य विभाग ने अब कोरोना नियंत्रण की नीति में एक और बदलाव किया है। कटघोरा में तबलीगी जमात मस्जिद के आसपास का पूरा इलाका कोरोना संक्रमित है। यहां लॉकडाउन के दौरान भी नमाज पढ़ी गई।

खुद पुलिस की रिपोर्ट कहती है कि एक वक्त में 500 लोग यहां मौजूद रहे थे। यही कारण है कि प्रदेश के सभी धार्मिक स्थलों के आसपास की बस्तियों में अब स्वास्थ्य अमला उतरेगा। यहां सघन जांच होगी। रेंडम सेंपलिंग भी होगा।

यह कवायद कोरोना के खतरे को कम करने की दिशा में उठाया गया कदम है। शुक्रवार को राज्य कोरोना नियंत्रण कंट्रोल एवं कमांड सेंटर में स्वास्थ्य सचिव की अध्यक्षता में बैठक हुई।

बैठक में यह निर्णय लिया गया कि अब सघन बस्तियों की स्क्रीनिंग की जाए। इससे संबंधित आदेश सभी जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को जारी कर दिए गए हैं। सीएमएचओ को रोजाना राज्य को दिनभर की रिपोर्ट भी देनी होगी।

कटघोरा के पास के गावों की भी होगी जांच
शुक्रवार को हुई कोर कमेटी की बैठक में यह भी तय किया गया कि कटघोरा के आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करवाया जाए। इसके लिए जिला सीएमएचओ और सभी बीएमओ को निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं। संभव है कि कटघोरा से आसपास के क्षेत्रों में 4 अप्रैल (पहला केस मिलने का समय) के पहले तक आवाजाही रही हो। तमाम संभावनाओं के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है।

24 मार्च के पहले हुए धार्मिक आयोजन
विभागीय अधिकारियों को मिली जानकारी के मुताबिक प्रदेश में पहले लॉकडाउन के पहले कई जगहों पर धार्मिक आयोजन हुए। बड़ी संख्या में लोगों की आवाजाही लगी रही। हालांकि अब तक ऐसी रिपोर्ट नहीं है कि इन धार्मिक स्थलों में बाहर से कोई आया। बावजूद सतर्कता के तौर पर निगरानी रखी जा रही है।

घनी बस्तियां कवर होंगी
स्वास्थ्य विभाग के उप संचालक एवं प्रवक्ता डॉ अखिलेश त्रिपाठी का कहना है कि देखिए, क्या पता था कि कटघोरा में ऐसा कोई मामला भी आएगा। मगर, आ गया। इसलिए जरूरी है कि हर स्तर पर सर्विलेंस हो। इससे घनी बस्तियां कवर भी हो जाएगी।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned