रक्षाबंधन के दिन जेल में भाइयों से वीडियो कॉलिंग, फोन पर बात कर सकेंगी बहनें - गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू

- बहनों को जेल में बंद उनके भाइयों से वीडियो कॉलिंग व फोन पर बात कराने की सुविधा देने का दिया निर्देश।
- कोरोना के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए लिया गया संवेदनशील फैसला।

By: Bhupesh Tripathi

Published: 01 Aug 2020, 05:40 PM IST

रायपुर। भाई- बहन का त्यौहार रक्षाबंधन अब कोरोना के चपेट में आ गया है। लॉकडाउन ने कई भाई अपने बहनों के हाथ से राखी नहीं बंधवा पाएंगे। जेल में बंद कैदी भी इस साल अपने बहनों से नहीं मिल पाएंगे। ऐसे में प्रदेश के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने एक बार फिर अपनी संवेदनशीलता का परिचय देते हुए रक्षाबंधन के मौके पर जेल में बंद कैदियों को उनकी बहनों से वीडियो कॉलिंग व फोन पर बात करने की छूट दी है।

वैश्विक महामारी कोविड- 19 के फैलते संक्रमण को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। किसी को भी जेल में मुलाकात नहीं करने दी जाएगी। रक्षाबंधन का त्यौहार भाई- बहन के प्रेम का प्रतीक है। हर साल इस दिन जेल में बंद कैदियों को उनकी बहने राखी बांधने जेल जाती हैं किंतु कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार जेल में मिलना बंद किया गया है।

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने बहनों और भाइयों के प्रेम को समझते हुए इसकी वैकल्पिक व्यवस्था के लिए एडीजी जेल को निर्देशित किया है। साहू ने कहा है कि जेलों में वीडियो कालिंग व फोन के माध्यम से बंदियों को उनकी बहनों से बात कराने की व्यवस्था की जाए जिससे बहनें अपने भाइयों से रक्षाबंधन के दिन बात कर सकें।

मंत्री ने कहा है कि यदि जेल प्रबंधन के पास पोस्टल डाक के द्वारा भेजी गई राखियां प्राप्त होती हैं तो उसे जेल के अंदर पहुंचा दिया जाए साथ ही इस त्यौहार से लोगों की जो भावना जुडी है उसे हम समझते हैं और उसका सम्मान भी करते हैं लेकिन न मिलने देने का फैसला भी जनता की सुरक्षा के मद्देनजर ही लिया गया है।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned