गृह मंत्री साहू ने की जेल विभाग के काम-काज की समीक्षा,कहा-जेल परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग का रखें ध्यान

कोरोना महामारी के संक्रमण को देखते हुए जेलों में मास्क बनाने का कार्य भी प्राथमिकता से किया जा रहा है। बैठक में अतिरिक्त महानिदेशक जेल संजय पिल्ले सहित विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

By: Shiv Singh

Published: 10 May 2020, 07:11 PM IST

रायपुर. गृह और जेल मंत्री ताम्रध्वज साहू ने 10 मई को अपने रायपुर निवास कार्यालय में जेल विभाग के कामकाज की समीक्षा की। उन्होंने जेलों में कोरोना वायरस से संक्रमण के रोकथाम के लिए विभाग द्वारा किये जा रहे प्रयासों के तहत नये बंदियों की स्क्रीनिंग करने के बाद ही पृथक वार्डों में रखने के निर्देश दिये। उन्होंने जेल परिसर में साफ-सफाई, सेनेटाईजेशन, फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन कराये जाने के निर्देश जेल महानिदेशक को दिए। मंत्री साहू ने प्रदेश के जेलों में बंदियों के स्वास्थ्य परीक्षण एवं चिकित्सा सुविधा तुरंत प्रदाय करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने चालू वित्तीय वर्ष 2020-21 के बजट में प्रावधानित नवीन मदों के कार्य की प्रशासकीय स्वीकृति प्राप्त करने और निर्माण कार्य अतिशीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिए। उन्होंने जेलों में व्यवसायिक कार्यों को बढ़ावा देकर, बंदियों के आय के स्रोत बढ़ाने के निर्देश दिये।

बैठक में बताया गया कि राजधानी रायपुर में 600 बदियों की क्षमता के नवीन बैरक का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया है। इसके साथ ही दुर्ग एवं बिलासपुर में भी लगभग 1000 कैदी क्षमता के बैरको का निर्माण कार्य चालू माह के अंत तक पूर्ण हो जाएगा । इससे राज्य की जेलों में बंदियों की क्षमता 12 हजार से बढ़कर 13 हजार 600 हो जाएगा । लॉकडाउन अवधि में बंदियों को परिवारजनों से बातचीत कराने के लिए प्रिजन कॉलिग सिस्टम का उपयोग किया जा रहा है। इस समय जेलों में प्रिंटिंग प्रेस, काष्ठकला, सिलाई, कपड़ा बुनाई, साबुन निर्माण आदि का कार्य किया जा रहा है।

Shiv Singh Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned