scriptHonorarium of sarpanch doubled in Chhattisgarh, vehicle to president | छत्तीसगढ़ में सरपंचों का मानदेय दोगुना, पंचायत अध्यक्षों को गाड़ी | Patrika News

छत्तीसगढ़ में सरपंचों का मानदेय दोगुना, पंचायत अध्यक्षों को गाड़ी

- पंचायती राज सम्मेलन: सीएम बघेल ने खोला सौगातों का पिटारा.
- राज्य बजट से संचालित योजनाओं के संबंध में बढ़े प्रशासनिक और वित्तीय अधिकार.

रायपुर

Published: November 19, 2021 11:08:15 pm

रायपुर . मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को राजधानी के इनडोर स्टेडियम में प्रदेश कांग्रेस की ओर से आयोजित पंचायती राज सम्मेलन में गांवों के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों के लिए खुले दिल से सौगातों का पिटरा खोला। जिला, जनपद, सरपंच और पंचों को ऐसी कई सौगातें दी, जिनका इंतजार उन्हें सालों से था। मुख्यमंत्री ने जिला व जनपद पंचायत के अध्यक्ष, उपाध्यक्षों और सदस्यों के लिए विकास निधि देने की घोषणा की। इसके लिए कुल 45 करोड़ रुपए के बजट प्रावधान को पुनर्विनियोजन के माध्यम किया जाएगा। इससे अब ये जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र के विकास कार्यों को प्राथमिकता के आधार पर करवा सकेंगे। वर्तमान में सांसद, विधायक, महापौर और पार्षदों की निधि होती थी। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को कई वित्तीय और प्रशासनिक अधिकार देने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने जिला व जनपद पंचायत अध्यक्षों और उपाध्यक्षों को वाहन भी उपलब्ध कराए जाएंगे। कार्यक्रम में कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टी.एस सिंहदेव, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम, प्रभारी सचिव डॉ. चंदन यादव, सप्तगिरी शंकर उल्का सहित मंत्रिपरिषद के तमाम सहयोगी व अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

bhupesh_baghel.jpg

सरपंचों का मानदेय हुआ दोगुना
मुख्यमंत्री ने सरपंचों का मानदेय दोगुना करने की घोषणा की है। सरपंचों को 2 हजार की जगह 4 हजार रुपए मानदेय दिया जाएगा। वहीं अब सरपंचों 20 लाख की जगह 50 लाख तक के कार्य करवा सकेंगे।

अफसरों और कर्मचारियों पर कसेंगे लगाम
जिला और जनपद पंचायत के अध्यक्षों के हाथ में अफसरों और कर्मचारियों की भी लगाम रहेगी। वे उनकी गोपनीय चरित्रावली के लिए अपना अभिमत दे सकेंगे। जिला पंचायत अध्यक्ष कलेक्टर और जनपद पंचायत अध्यक्ष जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को अपना अभिमत संसूचित कर सकेंगे।

अन्य मांगों के लिए मंच तक आए, बनी समिति
मुख्यमंत्री की घोषणा से उत्साहित पंचायतों के प्रतिनिधि अपनी अन्य कुछ मांगों को लेकर मंच तक आ गए। इस पर मुख्यमंत्री ने पंचायती राज संस्थाओं के पदाधिकारियों की अन्य मांगों पर विचार करने के लिए पंचायत मंत्री टी.एस. सिंहदेव की अध्यक्षता में कमेटी गठित करने की घोषणा।

मंत्रियों ने की वकालत
पंचायत प्रतिनिधियों की मांग को लेकर मंत्री सिंहदेव, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू और नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने अपने संबोधन में अपने अनुभव साझा करते हुए लंबी वकालत की। सभी ने मुख्यमंत्री से निवेदन किया कि पंचायत के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को अधिक संपन्न बनाया जाए।

ऐसे होगी निधि जिला पंचायत के लिए

पद-प्रति वर्ष की निधि
अध्यक्ष- 15 लाख

उपाध्यक्ष- 10 लाख
सदस्य- 4 लाख

जनपद पंचायत के लिए
पद- प्रति वर्ष की निधि

अध्यक्ष- 5 लाख
उपाध्यक्ष- 3 लाख

सदस्य- 2 लाख
ऐसे बढ़ेगा मानदेय

पद- वर्तमान में- बढ़ा हुआ
जिला पंचायत अध्यक्ष- 15000- 25000
जिला पंचायत उपाध्यक्ष- 10000- 15000
जिला पंचायत सदस्य- 6000- 10000
पंचों को बैठक भत्ता-200-500

खारुन के किनारे बनेगा रिवरफ्रंट
मुख्यमंत्र ने कार्तिक पुन्नी के अवसर पर सुबह रायपुर के महादेव घाट पहुंचकर खारुन नदी में कार्तिक पूर्णिमा स्नान कर प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि की कामना की। इसके बाद उन्होंने ऐतिहासिक हटकेश्वर महादेव मंदिर में महादेव का जलाभिषेक किया और गंगा आरती में शामिल होते हुए दीपदान किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने ने ऐलान किया कि खारुन तट पर गुजरात की तर्ज पर रिवरफ्रंट विकसित किया जाएगा। इससे शहर को नई पहचान मिलेगी। साथ ही हम खारुन नदी के संरक्षण की दिशा में भी काम कर पाएंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.