scripthow to save your teenage child from sextortion on social media | सावधान! ऑनलाइन ब्लैकमेलिंग के मास्टरमाइंड अब लोगों को सोशल मीडिया के जरिए बना रहे सेक्सटॉर्शन का शिकार | Patrika News

सावधान! ऑनलाइन ब्लैकमेलिंग के मास्टरमाइंड अब लोगों को सोशल मीडिया के जरिए बना रहे सेक्सटॉर्शन का शिकार

साइबर ठगी का नया तरीका, ठगों के इस नए हथियार से आपको है बचने की जरूरत

रायपुर

Published: April 23, 2022 08:02:25 pm

आज की मॉडर्न लाइफ में इंटरनेट चैटिंग एक जुनून, एक जरूरत, एक स्टाइल बनती जा रही है। चैंटिंग के दौरान पता ही नहीं चलता कि आप कब-कैसे दूसरे से एकदम खुल जाते हैं, उससे हर बात शेयर करने लगते हैं। और इसी बात का फायदा कुछ साइबर क्राइम में ऐक्टिव गैंग उठा रहे हैं। इनका धंधा ही सेक्सटॉर्शन के जरिए लोगों को फंसाना और पैसा कमाना है। सेक्सटॉर्शन के शिकार लोगों की कोई उम्र सीमा नहीं है। एक तरफ जहां इसमें स्कूल-कॉलेज में पढऩे वाले लड़के-लड़कियां शिकार होती हैं, वहीं कई बार 50-55 साल तक के लोग भी लड़कियों से दोस्ती, उनसे दोस्ती बनाने के चक्कर में सेक्सटॉर्शन का शिकार बन रहे हैं। ऐसे मामलों में बदनामी और शर्म की वजह से लोग पुलिस में इस फ्रॉट की शिकायत नहीं करते और ठगों की मांग पूरी कर देते हैं। बहुत ही कम लोग हैं जो इस बारे में शिकायत करते हैं। ज्यादातर लोगों ने इन ठगों को अच्छी खासी कीमत चुकाई है। इसमें मुंबई, दिल्ली, बेंगलूरु छत्तीसगढ़ जैसे शहरों से कई लोग शामिल है।
सावधान! ऑनलाइन ब्लैकमेलिंग के मास्टरमाइंड अब लोगों को सोशल मीडिया के जरिए बना रहे सेक्सटॉर्शन का शिकार
सावधान! ऑनलाइन ब्लैकमेलिंग के मास्टरमाइंड अब लोगों को सोशल मीडिया के जरिए बना रहे सेक्सटॉर्शन का शिकार
  • बच्चों को सेक्सटॉर्शन के बारे में जरूर जानकारी दें
    चिंता की बात यह है कि ऐसे मामलों में स्कूल-कॉलेज में पढऩे वाले यंग लड़के-लड़कियां भी शिकार हो रहे हैं। कुछ फेसबुक पर चैट के दौरान हनी ट्रैप का शिकार हो रहे हैं तो कुछ बच्चे वेब कैम के जरिए। ये पीडोफिलिक के भी संपर्क में आ रहे हैं और शिकार होते हैं। हैरानी की बात है कि काउंसलर, साइकायट्रिस्ट के पास आने वाले ऐसे मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही हैं, जहां 12 से 19 साल के बच्चे फन, फैशन, दिखावे, प्यार में या बेवकूफी में अपनी बोल्ड तस्वीरें या वीडियो अपने दोस्तों को शेयर करते हैं और बाद सेक्सटॉर्शन का शिकार होते हैं। अगर आप ब्लैकमेलिंग के ऐसे मामलों के शिकार हो गए हैं तो उससे निपटने के तरीके क्या हो सकते हैं आईए जानते हैं।
  • क्यों किया जाता है सेक्सटॉर्शन
    सेक्सटॉर्शन का सबसे बड़ा कारण है पैसे की उगाही करना है। जानकार बताते हैं कुछ इंटरनेशनल गैंग बहुत ज्यादा ऐक्टिव होकर काम कर रहे हैं, उनका सिर्फ एक ही मकसद है पैसे कमाना। इसके लिए वे कंप्यूटर हैकिंग से लेकर नेट फ्रेंडशिप के जरिए अलग-अलग देशों के लोगों को अपना शिकार बना रहे हैं। इनका शिकार बनने वालों में टीनएजर के साथ विवाहित महिलाओं की संख्या ज्यादा है। अमीर, शादीशुदा या परिवार से दूर रहने वाले पुरुष भी इनके टारगेट पर रहते हैं। ये लोग 60-70 साल के लोगों को भी अपना शिकार बनाने के लिए ढूंढते हैं। यूएस और कई दूसरे देशों में ये मामले ज्यादा सामने आ रहे हैं। अब हमारे देश में भी इस जुर्म की शुरुआत हो चुकी है।
  • पैरंट्स को बच्चों की तरफ ज्यादा ध्यान देने की है जरूरत
  • बच्चा बहुत ज्यादा समय इंटरनेट पर बिताता है, रात में कुछ ज्यादा।
  • उसके कमरे का दरवाजा हमेशा बंद रहता है या वह अकेले कोने में बैठना पसंद करता है।
  • दरवाजे पर दस्तक देकर अंदर आने पर जोर देता है।
  • अपोजिट सेक्स के साथ दोस्ती करने के लिए हमेशा इच्छुक रहता है।
  • इंटरनेट पर दोस्तों की लिस्ट काफी लंबी है।
  • कई बार डिप्रेशन के शिकार बच्चे भी गलत चीजों में फंस जाते हैं, इसलिए बच्चे की इस बीमारी को गंभीरता से लें।
  • स्कूल जाने से कतराने लगा है।
  • दोस्तों-परिवार से कटने लगा है।
  • भूख कम हो गई है या बहुत ज्यादा खाने लगा है।
  • बच्चा अगर रियल जिंदगी से ज्यादा रील जिंदगी में यकीन करने लगा है।
  • किसी लड़के या लड़की से ब्रेकअप हो चुका है। इमोशनल ट्रॉमा में चल रहा हो।
  • ये ऐसी बातें हैं, जो बच्चे को सेक्सटॉर्शन में फंसने के लिए प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराती हैं। इसलिए पैरंट्स के लिए
  • यह जरूरी है कि वे अपने बच्चों पर नजर रखें।
 सोशल मीडिया के जरिए बना रहे सेक्सटॉर्शन का शिकार
  • जब बन जाएं शिकार तब इन बातों का रखें ध्यान
  • सबसे पहले नजदीक के थाने या साइबर क्राइम सेल में इसकी रिपोर्ट करें।
  • अपने परिवार के किसी सदस्य को इसकी जानकारी जरूर दें। बताने में बहुत शर्म आएगी, लेकिन यह बहुत-सी परेशानियों से आपको बचाएगा।
  • 3. जिस आईडी का इस्तेमाल करके आपको ब्लैकमेल किया गया है, उसे तुरंत ब्लॉक कर दें।
  • 4. अपने इंटरनेट एडमिन को फौरन सूचित करें और ब्लैकमेल करने वाले की आईडी के बारे में जानकरी हासिल करें। जैसे आप फेसबुक पर सेक्सटॉर्शन का शिकार बने हैं तो फेसबुक एडमिन को फौरन सूचित करें।
  • जिस प्लैटफॉर्म पर आपको शिकार बनाया गया है, उसको कुछ समय के लिए डीऐक्टिवेट कर दें।
  • यह बात ध्यान रखें कि आप जितना डरेंगे, उतना ही आपको डराया जाएगा।
  • आपने ब्लैकमेल करनेवाले से जो भी चैट किया है, उसका स्क्रीन शॉट ले लें।
  • अगर आपने ब्लैकमेलिंग के लिए ऑनलाइन पेमंट किया है, तो पेमंट कहां गया है, उसे देखकर पुलिस को जानकारी दें।
  • ब्लैकमेलर के जरिए दी गई किसी भी जानकारी का पूरा रिकॉर्ड रखें। जैसे कि स्काइप की नाम, आईडी, फेसबुक यूआरएल, वेस्टर्न यूनियन या मनीग्राम का मनी ट्रांसफर कंट्रोल नंबर।
  • क्या ना करें
  • कभी भी चुप ना बैठें। यह मत सोचें कि एक बार पैसा देकर बच जाएंगे। हो सकता है और डिमांड आनी शुरू हो जाए। आपसे गलती हुई है, इसलिए उसका सामना करें। आत्मविश्वास के साथ लड़ें।
  • कभी भी किसी रिकॉर्डिंग, बातचीत, मेल को डिलीट न करें। दरअसल, ये लिंक्स आगे चलकर पुलिस के काम आती हैं।
  • कभी भी डिमांड करने वाले से सीधी बात ना करें। फोन पर बात न करें। इससे उन्हें प्रोत्साहन मिलता है।
  • ज्यादातर साइबर गैंग फोटो या सेक्स रिकॉर्डिंग्स की क्लिपिंग भेजने के लिए मेल का इस्तेमाल करते हैं, कोशिश करें, उसे बार-बार ना देखें। आप परेशान होंगे।
  • पैसा बिलकुल ना दें। एक बार अगर दे दिया तो भी डिमांड आ सकती है। इतना ही नहीं, यह भी मुमकिन है कि ब्लैकमेलर पैसा लेने के बाद भी आपकी सेक्स विडियो वायरल कर दे।
  • कैसे बच्चों को समयसीमा में बांधे और खुद भी सीमा में रहें
  • इंटरनेट चाहे कंप्यूटर पर उपलब्ध हो या फोन पर, उसकी समयसीमा जरूर बना दें। बच्चे अमूमन इसे मानते नहीं, लेकिन यह जरूरी है।
  • बच्चों के सामने पैरंट्स भी सोशल मीडिया पर ज्यादा ऐक्टव न रहें। इससे बच्चों के सामने सही उदाहरण पेश होगा।
  • बच्चों को समझाएं कि इंटरनेट पर ज्यादा दोस्त बनाने के बजाय असल जिंदगी में चार अच्छे दोस्त बनाना बड़ी उपलब्धि है। ऐसे दोस्त ही वक्त पर काम आते हैं।
  • -बच्चा अगर लगातार चैट करता है तो कभी-कभी उसके बारे में जानकारी लें। मसलन कौन दोस्त बना है, कहां रहता है, परिवार में कौन-कौन है? उस दोस्त तक भी यह जानकारी पहुंचाएं कि आप उसके बारे में थोड़ा-बहुत जानते हैं।
  • बच्चों के साथ दोस्ताना बने रहिए। उनमें हर छोटी-बड़ी बात शेयर करने की आदत डालें, इसके लिए आपको समय निकालना होगा।
  • बच्चों को सेक्सटॉर्शन के बारे में जरूर जानकारी दें।
  • उनके सोशल मीडिया अकाउंट में से मोबाइल नंबर, ईमेल आदि की जानकारी हटवा दें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मामले में काशी से दिल्ली तक सुनवाई: शिवलिंग की जगह सुरक्षित की जाए, नमाज में कोई बाधा न होCWG trials में मचा घमासान, पहलवान ने गुस्से में आकर रेफरी को मारा मुक्का, आजीवन प्रतिबंध लगाAmarnath Yatra: सभी यात्रियों का 5 लाख का होगा बीमा, पहली बार मिलेगा RIFD कार्ड, गृहमंत्री ने दिए कई अहम निर्देशभीषण गर्मी के बीच फल-सब्जी हुए महंगे, अप्रैल में इतनी ज्यादा बढ़ी महंगाईIPL 2022 MI vs SRH Live Updates : पावर प्ले में हैदराबाद की शानदार शुरुआतकोरोना के कारण गर्भपात के केस 20% बढ़े, शिशुओं में आ रही विकृतिवाराणसी कोर्ट में का फैसला: अजय मिश्रा कोर्ट कमिश्नर पद से हटे, सर्वे रिपोर्ट पर सुनवाई 19 मई को, SC ने ज्ञानवापी पर हस्तक्षेप से किया इंकारGyanvapi: श्रीलंका जैसे हालात दे रहे दस्तक, इसलिए उठा रहे ज्ञानवापी जैसे मुद्दे-अजय माकन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.