सांप काट लें तो भूल से भी नहीं करें ये 5 काम, जानिए अभी

सांप काट लें तो भूल से भी इन पांच घरेलू उपाय नहीं करना चाहिए। ऐसे करने से पीडि़त की जान मुश्किल में पड़ सकती है।

By: bhemendra yadav

Published: 07 Mar 2020, 01:29 AM IST

रायपुर. जहरीले कीड़े, बिच्छू और सर्पदंश (Snkake Bite) के प्रकरण बढऩे लगते हैं। ऐसे में यदि कोई भी जीव जंतु खासतौर पर सांप काट लें तो भूल से भी इन पांच घरेलू उपाय नहीं करना चाहिए। ऐसे करने से पीडि़त की जान मुश्किल में पड़ सकती है। ग्रामीण अंचलों में आज भी ग्रामीण लोग झाड़-फूंक और घरेलू उपचार पहले करते हैं। ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए।

यह है छत्तीसगढ़ का सबसे सुंदर जलप्रपात, जिससे अब तक है लोग अनजान

इन बातों को जानिए

* जारी निर्देश में संर्पदंश होने की दशा में क्या करें इसके लिए यह बताया गया है कि सर्प काटने पर काटे हुए जगह को साबुन पानी से धोए।

* दांत के निशान की जांच करें, कहीं जहरीले सर्प के काटने का दो दांत का निशान तो नहीं।

* काटे हुए अंग को हृदय के स्तर से नीचे रखें, सर्पदंश वाले अंग को हिलाये-डुलायें नहीं और उसे स्थिर रखें। - घाव के ऊपर बैन्डेज लगावें, घायल व्यक्ति को सात्वना दें।

* सर्पदंश में घबराहट के कारण हृदय गति चलने से रक्त का संचार तेज हो जाने की दशा में जहर सारे शरीर में फैलने की आशंका बनी रहती है।

* जिनती जल्दी हो सके पीडि़त को नजदीक के अस्पताल में ले जाए और यदि जहरीले सर्प ने काटा है तो सर्प निरोधक वैक्सील लगवाएं।

छत्तीसगढ़ : जाति और मूल निवास प्रमाण-पत्र अब आपको मिलेंगी घर पहुंच सेवा

सांप काट लें तो क्या नहीं करें

* बर्फ अथवा अन्य गर्म पद्धार्थ का इस्तेमाल काटे हुए स्थान पर न करें।

* अप्रशिक्षित व्यक्ति द्वारा रक्त स्त्राव को रोकने रक्तबंध की पट्टी न बंधवाएं। इससे संबंधित अंग में रक्त संचारण पूरी तरह से रूक सकता है। इस स्थिति में संबंधित अंग की क्षति हो सकती है।

* काटे गए स्थान पर चीरा न लगाएं। - प्रभावित व्यक्ति को चलने से रोके।

* शराब सेवन, नींद आने की कोई दवा नहीं दें और तांत्रिक आदि के झांसे में नहीं आएं।

बस्तर के जंगलों में खनिज की खोज के लिए उड़ान भर रहे 750 छोटे विमान, जनता से आग्रह भयभीत न हो

जोगी ने भूपेश सरकार को दिए सुझाव: बोले- खरीदी केन्द्रों से उठाव नहीं इसलिए "काम के बदले अनाज योजना" में खपाए धान

51 शक्ति पीठ में से एक है रतनपुर का मां महामाया मंदिर

bhemendra yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned