मेडिकल कॉलेज बंद फिर भी छात्रों को फीस जमा करने नोटिस, राजभवन पहुंचा मामला

- राज्यपाल ने प्रमुख सचिव स्वास्थ्य और महाधिवक्ता के साथ की बैठक .

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 12 Jun 2021, 04:27 PM IST

रायपुर . स्व. चंदूलाल चंद्राकर मेडिकल कॉलेज के छात्रों ने कोरोनाकाल में कॉलेज बंद होने के बावजूद प्रबंधन द्वारा फीस वसूली की शिकायत राज्यपाल अनुसुईया उइके से की। जिस पर शुक्रवार को राज्यपाल ने स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला और महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा के साथ बैठक की। राज्यपाल ने डॉ. शुक्ला से अध्यनरत छात्रों के संबंध में जानकारी ली, आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि छात्रों के विषय में संवेदनशीलता से कार्य करें।

सूत्रों के मुताबिक कॉलेज प्रबंधन को छात्रों से तकरीबन 2 करोड़ रुपए की वसूली करनी है, मगर छात्र 2 कारणों से फीस नहीं दे रहा। पहला, कॉलेज बंद रहने पर प्रैक्टिकल नहीं हुए तो फीस क्यों दें? दूसरी, कॉलेज शासन द्वारा अधिग्रहित होने पर छात्रों को निर्धारित 5-6 लाख नहीं बल्कि सिर्फ सरकारी आधार पर 40 हजार रुपए देना होगा। डॉ. शुक्ला ने कहा कि फीस को लेकर कॉलेज प्रबंधन छात्रों को परीक्षा में शामिल होने से नहीं रोक सकता, इसके निर्देश पहले ही दिए जा चुके हैं। उधर, राज्यपाल को कॉलेज के अधिग्रहण को लेकर डॉ. शुक्ला ने जानकारी दी। कहा कि समितियां गठित की गई हैं, समितियों से प्रतिवेदन मिलने के बाद आगे की कार्यवाही की जाएगी। इस संबंध में न्यायालय का निर्णय आता है तो उसका पालन किया जाएगा। साथ ही नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) द्वारा अनुमति देने के बाद अध्ययनरत छात्रों को अन्य कॉलेजों में शामिल करने की प्रक्रिया की जाएगी। राज्यपाल ने महाधिवक्ता से कहा कि वे कॉलेज के मामले में न्यायालय से जल्द निर्णय सुनाने का निवेदन करें ताकि छात्र अपने भविष्य को लेकर संशय की स्थिति में न रहे और उनका अध्ययन निर्बाध रूप से पूर्ण हो सके।

आदिवासियों की रिहाई पर चर्चा
राज्यपाल ने महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा के साथ बैठक में उच्च न्यायालय में लंबित राज्य शासन के विभिन्न प्रकरणों की जानकारी ली। राज्यपाल ने नक्सली मामलों में जेलों में बंद आदिवासियों की रिहाई के संबंध में तेजी लाने के निर्देश दिए।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned