दुर्लभ बीमारी से जूझ रही मासूम की हालत में सुधार

आंबेडकर अस्पताल में थायोसिस हिस्ट्रीक्स से पीडि़त दंतेवाड़ा की बच्ची का चल रहा इलाज, स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर लाई गई थी बच्ची

रायपुर. राजधानी के आंबेडकर अस्पताल में थायोसीस हिस्ट्रीक्स बीमारी से जुझ रही दंतेवाड़ा की मासूम बच्ची की स्थिति में काफी सुधार आ गया है। उसकी बीमारी 7० फीसदी दूर हो गई है। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव खुद अस्पताल पहुंचकर चिकित्सकों को बच्ची का बेहतर इलाज करने के निर्देश दिए थे। आंबेडकर अस्पताल के स्किन विभाग के डॉक्टरों ने ९ साल की बच्ची को देखते ही थायोसीस हिस्ट्रीक्स बीमारी का अंदेशा जताया था। बायोप्सी कराने के बाद बीमारी भी वही निकली। दंतेवाड़ा की जागेश्वरी शरीर पर बड़े-बड़े फफोले पडऩे से काफी दिनों से परेशान थी। स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर १९ जनवरी को उसे आंबेडकर अस्पताल के स्किन विभाग में लाया गया। यहां डॉक्टर भी बच्ची की दुर्लभ बीमारी को देखकर सकते में आए गए थे। उस दौरान यह तथ्य सामने आया था कि इस तरह की बीमारी का यह देश में तीसरा मामला है। बीमारी का इलाज कर रहे डॉक्टरों की मानें तो बच्ची की रूखी हो चुकी त्वचा में दवाओं और मलहम से काफी सुधार आया है। हालांकि, उनका कहना है कि यह बीमारी जेनेटिक हैं, दूर नहीं किया जा सकता। लेकिन यह जरूर है कि यदि पीडि़त हमेशा त्वचा पर मलहम लगाए तो यह बीमारी नहीं पनपेगी।

बच्ची की बीमारी काफी हद तक ठीक हो गई है। यह काफी रेयर केस था। अपने १५ साल के चिकित्सकीय सेवा में दूसरी बार इस बीमारी से पीडि़त को देखा हूं। पेइंग वार्ड में बच्ची का इलाज चल रहा है।
डॉ. मृत्युंजय सिंह, स्किन डिपार्टमेंट, आंबेडकर अस्पताल, रायपुर

abhishek rai Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned