विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटा IT विभाग, खर्च पर रहेगी खास नजर

विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटा IT विभाग, खर्च पर रहेगी खास नजर

Deepak Sahu | Publish: Sep, 06 2018 01:22:11 PM (IST) | Updated: Sep, 06 2018 02:02:30 PM (IST) Raipur, Chhattisgarh, India

चुनाव आयोग के निर्देश पर हाइप्रोफाइल और जरूरत से ज्यादा चुनानी खर्च करने वाले जिलों की सूची बनाई गई है

विधानसभा चुनाव के दौरान प्रत्याशियों द्वारा खर्च पर आयकर विभाग पैनी निगाह रखेगा। उनके द्वारा बांटे जाने वाले उपहारों का हिसाब रखा जाएगा। चुनाव आयोग के निर्देश पर हाइप्रोफाइल और जरूरत से ज्यादा चुनानी खर्च करने वाले जिलों की सूची बनाई गई है। साथ ही ब्लैकमनी और बुलियन का इस्तेमाल को रोकने के लिए टीम को सतर्क रहने की हिदायत दी गई है। इसके लिए संभावित स्थानों को चिन्हांकित भी किया गया है।

पुलिस और स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर आयकर विभाग छापामार कार्रवाई भी करेगा। छत्तीसगढ़ एवं मध्यप्रदेश के प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त पीके दाश ने बुधवार को वृंदावन हाल में पत्रकारों से चर्चा के दौरान इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि निर्वाचन आयोग की गाइड लाइन के अनुसार विभागीय टीम काम करेगी। इसके लिए अफसरों की बैठक बुलाई गई थी। आयकर विभाग एक बार फिर जन मित्रता अभियान को शीघ्र ही शुरू करेगा। इसके तहत कोई करदाता बिना समय लिए विभागीय अधिकारी से सीधे मुलाकात कर अपनी समस्या का समाधान कर सकेगा।

इस साल 167 करोड़ रुपए सरेंडर
करदाताओं ने वित्तीय वर्ष 2017-18 167.31 करोड़ रुपये सरेंडर किया था। जबकि अब तक 151.06 करोड़ की राशि सरेंडर की गई है। उन्होंने बताया कि बेनामी संपति एक्ट के तहत आयकर विभाग ने 196 संपत्तियों को सीज किया था। इसमें से अधिकांश जमीन से संबंधित मामले है। इन संपति का विवाद कोर्ट में लंबित है।

 

6478 करोड़ टैक्स वसूली का लक्ष्य
आयकर विभाग ने वित्तीय वर्ष 2018-2019 के लिए 6478 करोड़ रूपए की टैक्स वसूली का लक्ष्य निर्धारित किया है। यह पिछले वित्तीय वर्ष से 1188 करोड़ रुपए अधिक है। हांलाकि विभाग ने 5290 करोड़ का लक्ष्य रखा था। लेकिन छत्तीसगढ़ रेंज से 5400 करोड़ रुपए का टैक्स वसूल किया गया था। चालू वित्तीय वर्ष में 31 अगस्त 2018 तक 298 करोड़ रूपए वसूल किया जा चुका है। यह राशि निर्धारित लक्ष्य से काफी कम है। लेकिन, इसे पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष रिटर्न फाइल करने वालों की संख्या 873830 थी। इस समय 31 अगस्त तक 894894 ने रिटर्न जमा कराया है। इसी तरह 2017-18 के दौरान 490 करोड़ रुपए की ब्लैकमनी जब्त की गई थी। इस वर्ष अब तक 3 करोड़ रूपए से अधिक ब्लैकमनी बरामद की गई है।

Ad Block is Banned