आयकर की तारीख बढ़ी, जीएसटी रिटर्न की नहीं, व्यापारियों को पेनाल्टी की चिंता

Lockdown Effect: लॉकडाउन के दौर में उद्योग-धंधों का बुरा हाल हैं। अब दूसरी चिंता जीएसटी और आयकर रिटर्न को लेकर खड़ी हो चुकी है। आयकर की तारीखें तो बढ़ चुकी है, लेकिन जीएसटी में व्यापारियों को राहत नहीं मिली है।

By: Ashish Gupta

Updated: 02 May 2021, 01:38 PM IST

रायपुर. लॉकडाउन के दौर में उद्योग-धंधों का बुरा हाल हैं। अब दूसरी चिंता जीएसटी (GST) और आयकर रिटर्न (Income Tax Return) को लेकर खड़ी हो चुकी है। आयकर की तारीखें तो बढ़ चुकी है, लेकिन GST में व्यापारियों को राहत नहीं मिली है। अब पेनाल्टी की मार भी व्यापारियों को पड़ने वाली है।

जीएसटीआर-1, जीएसटीआर-3बी और जीएसटीआर-4 को लेकर चिंता बढ़ती जा रही है। आयकर विभाग ने वित्तीय वर्ष 2019-20 के आयकर रिटर्न की तारीख जिसकी आखिरी तारीख 31 मार्च थीं, इसे बढ़ाकर 31 मई कर दिया है। इसी तरह 30 अप्रैल को खत्म होने वाले विभिन्न आयकर रिटर्न, टीडीएस और अन्य फार्म भरने की तारीख भी 31 मई तक बढ़ा दी गई है।

यह भी पढें: कोरोना का कहर जारी: रायपुर में 5 मई के बाद फिर बढ़ेगा लॉकडाउन!, जानिए लेटेस्ट अपडेट

चैंबर ने भी रखी मांग
जीएसटी रिटर्न के मामले में चैंबर ऑफ कॉमर्स ने केंद्र और राज्य सरकार को चिट्ठी लिखी है। चैंबर अध्यक्ष अमर परवानी ने बताया कि रायपुर में 9 अप्रैल से Lockdown हैं, वहीं राज्य के कई जिलों में लॉकडाउन लगा हुआ है। देश के कई राज्यों में लॉकडाउन की स्थिति नहीं है, लेकिन प्रदेश में लॉकडाउन की वजह से बड़ा व्यापारी वर्ग रिटर्न दाखिल करने से प्रभावित हुआ है। इसलिए समाप्त हो चुकी अंतिम तारीख में राहत देनी चाहिए।

80 फीसदी रिटर्न बाकी
छत्तीसगढ़ सेल टैक्स बार एसोसिएशन (Chhattisgarh Sell Tax Bar Association) के महासचिव महेश शर्मा ने बताया कि लॉकडाउन से प्रदेश में 80 फीसदी के करीब रिटर्न बाकी है। जीएसटीआर-1 जिसमें प्रत्येक माह की खरीदी बिक्री की तारीख देनी होती है। छत्तीसगढ़ के अलग-अलग जिलों में लॉकडाउन की वजह से यह प्रभावित रहा। जीएसटीआर-1 की तारीख 11 अप्रैल को खत्म हो चुकी है।

यह भी पढें: रायपुर में राहत, मगर छत्तीसगढ़ के इन जिलों में संक्रमण की रफ्तार तेज, जानें कहां मिले कितने मरीज

कंपोजिशन डीलर जो कि हर महीने टैक्स का पेमेंट करते हैं। उनकी तारीख 18 अप्रैल को समाप्त हो गई। इसी तरह जीएसटीआर-3बी हर महीने 20 तारीख को सेल्फ असेसमेंट करना होता है। इधर विभागीय कार्यों के लिए विभाग ने अपनी तारीख में वृद्धि कर ली है, लेकिन कारोबारियों को राहत नहीं दी।

GST
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned